News Nation Logo

भूकंप के झटके से हिला असम, रिक्टर स्केल पर तीव्रता 3.2

असम के कामरुप में यह भूकंप के झटके महसूस किए गए. शाम 5 बजकर 55 मिनट पर यह झटके महसूस किए गए. नेशनल सेंटर ऑफ सिस्मोलॉजी के अनुसार भूकंप की तीव्रता रिएक्टर स्केल (Richter Scale) पर 3.2 मांपी गई.

News Nation Bureau | Edited By : Karm Raj Mishra | Updated on: 19 May 2021, 06:53:18 PM
Earthquake

Earthquake (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • कामरूप में महसूस किए गए झटके
  • रिएक्टर स्केल पर 3.2 तीव्रता मांपी गई

नई दिल्ली:

असम में एक बार फिर से भूकंप (Earthquake) के झटके महसूस किए गए हैं. नेशनल सेंटर ऑफ सिस्मोलॉजी (National Center for Seismology) के अनुसार असम के कामरुप में यह भूकंप के झटके महसूस किए गए. शाम 5 बजकर 55 मिनट पर यह झटके महसूस किए गए. नेशनल सेंटर ऑफ सिस्मोलॉजी के अनुसार भूकंप की तीव्रता रिएक्टर स्केल (Richter Scale) पर 3.2 मांपी गई. वहीं इस भूकंप के कारण नुकसान की कोई सूचना सामने नहीं आई है. इससे पहले कल भी असम की धरती भूकंप (Earthquake) के झटकों से कांप गई थी.

ये भी पढ़ें- एशियाई लोगों के खिलाफ हिंसा रोकने के लिए US में राष्ट्रपति को भेजा गया विधेयक

कल भी आया था भूकंप

कल शाम आए भूकंप की रिक्टर पैमाने पर तीव्रता 3.8 मापी गयी. इससे पहले 28 अप्रैल को यहां रिक्टर पैमाने पर 6.4 तीव्रता का भूकंप आया था. नेशनल सेंटर ऑफ सिस्मोलॉजी के अनुसार, असम के तेजपुर से 34 किमी पश्चिम उत्तर पश्चिम में यह भूकंप के झटके आए. शाम 5 बजकर 33 मिनट पर यह झटके महसूस किए गए. जानकारी के मुताबिक, यह भूकंप 3.8 तीव्रता का रहा.

28 अप्रैल को कांप गई थी धरती

इससे पहले 28 अप्रैल को असम और पूर्वोत्तर के अन्य हिस्सों में रिक्टर पैमाने पर 6.4 तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप आया था. इस क्षेत्र में पहले भूकंप के बाद के कुछ घंटों में सात झटके महसूस किए गए. एक बार असम की धरती आज फिर भूकंप के झटकों से कांप गई. भूकंप विज्ञान के लिए राष्ट्रीय केंद्र के अनुसार भूकंप के झटके 5 बजकर 55 मिनट पर महसूस किए गए. रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता को 3.2 मांपा गया. भूकंप के ये झटके कामरुप जिले में महसूस किए गए. इससे पहले कल भी असम की धरती भूकंप के झटकों से कांप गई थी.

ये भी पढ़ें- सिंगापुर की चिंता छोड़ भारत के बच्चों की परवाह करे सरकार : मनीष सिसोदिया

क्यों आता है भूकंप ?

धरती मुख्य तौर पर चार परतों से बनी हुई है, इनर कोर, आउटर कोर, मैनटल और क्रस्ट. क्रस्ट और ऊपरी मैन्टल को लिथोस्फेयर कहते हैं. ये 50 किलोमीटर की मोटी परत, वर्गों में बंटी हुई है, जिन्हें टैकटोनिक प्लेट्स कहा जाता है. ये टैकटोनिक प्लेट्स अपनी जगह से हिलती रहती हैं लेकिन जब ये बहुत ज्यादा हिल जाती हैं, तो भूकंप आ जाता है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 19 May 2021, 06:32:08 PM

For all the Latest States News, Assam News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.