News Nation Logo
Banner

World Cup Final 2011 : जांच शुरू होते ही बयान से पलटे श्रीलंका के पूर्व खेलमंत्री, जानिए क्‍या है पूरा मामला

Bhasha | Edited By : Pankaj Mishra | Updated on: 25 Jun 2020, 04:32:10 PM
final fixed wc 2011

भारत बनाम श्रीलंका विश्‍व कप 2011 फाइनल (Photo Credit: फाइल फोटो)

Colombo:  

श्रीलंका के कई पक्षों के 2011 विश्व कप फाइनल (World Cup 2011 Final) भारत को बेचने का दावा करने वाले देश के पूर्व खेल मंत्री महिंदानंदा अलुथगामगे (Mahindananda Aluthgamge) ने अब अपने इस दावे को संदेह करार दिया है, जिसकी वह जांच चाहते हैं. श्रीलंका सरकार ने इस मामले की जांच के आदेश दिए हैं और पुलिस की विशेष जांच इकाई ने बुधवार को महिंदानंदा अलुथगामगे का बयान दर्ज किया. उन्होंने पुलिस टीम से कहा कि उन्हें सिर्फ फिक्सिंग का संदेह है. 

यह भी पढ़ें ः भारत में बनना चाहिए मैच फिक्सिंग पर कानून, जानिए किसने कही ये बात

महिंदानंदा अलुथगामगे ने संवाददाताओं से कहा, मैं सिर्फ इतना चाहता हूं कि मेरे संदेह की जांच हो. उन्होंने कहा, मैंने पुलिस को उस शिकायत की प्रति दी है जो मैंने तत्कालीन खेल मंत्री के रूप में आरोपों के संदर्भ में 30 अक्टूबर 2011 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को दर्ज कराई थी. महिंदानंदा अलुथगामगे ने आरोप लगाया था कि उनके देश में मैच भारत को बेच दिया था. उनके इस दावे को पूर्व कप्तानों कुमार संगकारा और महेला जयवर्धने ने बकवास करार देते हुए उनसे सबूत मांगे थे. 

यह भी पढ़ें ः भारत आना चाहती है पाकिस्‍तानी क्रिकेट टीम, PCB ने ICC से कही बड़ी बात

भारत ने 275 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए गौतम गंभीर (97) और तत्कालीन कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (91) की पारियों की बदौलत जीत दर्ज की थी. उस समय देश के खेल मंत्री रहे महिंदानंदा अलुथगामगे ने कहा था, आज मैं आपसे कह रहा हूं कि हमने 2011 विश्व कप बेच दिया था, मैंने यह तब कहा था जब मैं खेल मंत्री था. उस समय श्रीलंका के कप्तान संगकारा ने भ्रष्टाचार रोधी जांच के लिए सबूत मुहैया कराने को कहा था. 
कुमार संगकारा ने ट्वीट किया, उन्हें अपने ‘साक्ष्य’ आईसीसी और भ्रष्टाचार रोधी एवं सुरक्षा इकाई के पास लेकर जाने की जरूरत है जिससे कि दावे की विस्तृत जांच हो सके. उस मैच में शतक जड़ने वाले पूर्व कप्तान जयवर्धने ने हालांकि इन आरोपों को बकवास करार दिया था. उन्होंने ट्वीट में पूछा, क्या चुनाव होने वाले हैं?.... जो सर्कस शुरू हुआ है वह पसंद आया... नाम और सबूत? 

यह भी पढ़ें ः 1983 के फाइनल से पहले क्‍या हुआ था! श्रीकांत ने किया बड़ा खुलासा, 25,000 का हुआ था ऐलान

महिंदानंदा अलुथगामगे ने कहा कि उनका नजरिया है कि नतीजे को फिक्स करने में खिलाड़ी नहीं बल्कि कुछ पक्ष शामिल थे. अलुथगामगे और तत्कालीन राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में हुए फाइनल में आमंत्रित किए गए थे. इन आरोपों के बाद श्रीलंका के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी और तत्कालीन चयन समिति के अध्यक्ष अरविंद डिसिल्वा ने बीसीसीआई ने अपनी जांच कराने की अपील की है. अरविंद डिसिल्वा ने कहा है कि ऐसी जांच में शामिल होने के लिए कोरोना वायरस के खतरे के बावजूद वह भारत जाने के इच्छुक हैं.

First Published : 25 Jun 2020, 04:28:57 PM

For all the Latest Sports News, Cricket News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.