News Nation Logo
Banner

टीम राहुल बनाम जी-23... गांधी परिवार के खिलाफ खुल्लम-खुल्ला विद्रोह

कांग्रेस पार्टी चौराहे पर यानी किंकर्तव्यविमूढ़ की स्थिति में है और इसे अब इस बात का चुनाव करना होगा कि या तो यह असंतुष्टों को शांत करे या उनके बिना आगे बढ़ने का फैसला करे.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 01 Mar 2021, 07:46:19 AM
Rahul Gandhi

जम्मू में असंतुष्टों का एका दिखाने के बाद अब कुरुक्षेत्र में है तैयारी (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • जी-23 की बढ़ती सक्रियता और मुखरता से कांग्रेस दोराहे पर
  • जम्मू के बाद अगला कार्यक्रम कुरुक्षेत्र में करने की संभावना
  • राहुल गांधी के खिलाफ खुला विद्रोह कर जी-23 ने दिए संकेत

नई दिल्ली:

जम्मू में गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) के 'एकजुटता प्रदर्शन' के बाद कांग्रेस में असंतुष्ट नेताओं (G-23) और राहुल गांधी के बीच दरार खुलकर सामने आ गई है. पर्यवेक्षकों का कहना है कि पार्टी चौराहे पर यानी किंकर्तव्यविमूढ़ की स्थिति में है और इसे अब इस बात का चुनाव करना होगा कि या तो यह असंतुष्टों को शांत करे या उनके बिना आगे बढ़ने का फैसला करे. शनिवार को विशेष रूप से आजाद के कार्यक्रम के बाद टकराव का स्तर यह दर्शाता है कि राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के लिए पार्टी तंत्र के भीतर राह कठिन हो रही है. सूत्रों का कहना है कि जम्मू के कार्यक्रम के बाद असंतुष्ट अब कुरुक्षेत्र में एक सार्वजनिक बैठक की योजना बना रहे हैं। साथ ही वे कांग्रेस (Congress) कार्यकर्ताओं और नेताओं से समर्थन हासिल करने के लिए देश भर में गैर-राजनीतिक मंचों पर भी बैठक करने की योजना बना रहे हैं।

कांग्रेस के असंतुष्ट टकराव के रास्ते पर
सूत्रों ने कहा कि कांग्रेस के असंतुष्टों ने टकराव का रास्ता अख्तियार कर लिया है, लेकिन अधिक लोगों को इसमें शामिल होने से रोकना कठिन होगा क्योंकि वे इस तरह की और बैठकें आयोजित करने की योजना बना रहे हैं. स्पष्ट संकेत है कि यह राहुल गांधी के खिलाफ खुला विद्रोह है. सूत्रों ने यह भी कहा कि 2019 के आम चुनावों के बाद नेताओं से जो कुछ भी करने के लिए कहा गया था, उन्होंने किया, लेकिन बिहार चुनावों में उन्हें नजरअंदाज किया गया और कैम्पिंग या परामर्श प्रक्रिया में आमंत्रित नहीं किया गया. आनंद शर्मा, जो असंतुष्टों में सबसे अधिक मुखर हैं, ने कहा था कि वे पार्टी के 'किरायेदार नहीं बल्कि सह-मालिक' हैं और कई लोग इस बात पर जोर देते हैं कि वे पार्टी छोड़ने वाले नहीं हैं.

यह भी पढ़ेंः  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लगवाई कोरोना वायरस वैक्सीन, लोगों से की ये अपील

कांग्रेस आलाकमान फिर भी जल्दबाजी में नहीं
उन्होंने कहा कि आज हम जहां हैं, वहां पहुंचने के लिए ज्यादातर नेताओं ने बहुत मेहनत की है. हममें से कोई भी खिड़की के माध्यम से नहीं आया है, हम सभी दरवाजे से पार्टी में आए हैं. बहरहाल, कांग्रेस जल्दबाजी में नहीं है और इन नेताओं को शांत करने के लिए एक विकल्प चुनने के लिए सतर्कता से आगे बढ़ रही है. ऐसा प्रतीत होता है कि पार्टी ने समस्या के समाधान की दिशा में कदम आगे बढ़ाया है. पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता ने उन्हें 'सम्मानित' कहकर संबोधित किया है. असंतुष्टों ने उस दिन को अपनी ताकत दिखाने के लिए चुना जब राहुल गांधी तमिलनाडु में चुनाव प्रचार कर रहे थे.

असंतुष्ट दरकिनार किए जाने से नाराज
कांग्रेस ने हालांकि नेताओं के योगदान को सराहा, मगर साथ ही यह भी कहा कि उन्हें इस वक्त उन्हें पांच राज्यों के चुनावों पर ध्यान केंद्रित कर पार्टी के लिए काम करना चाहिए, लेकिन असंतुष्ट खेमे के सूत्रों ने कहा कि निर्णय लेने की प्रक्रिया में उन्हें लगातार नजरअंदाज किया जा रहा है और किसी भी महत्वपूर्ण निर्णय के लिए आगे बढ़ने से पहले पार्टी में कोई विचार-विमर्श और आम सहमति का प्रयास नहीं किया जा रहा है. जब से टीम राहुल ने अहम निर्णय लेने की बागडोर संभाली है तब से पार्टी के तीन दशक तक महासचिव रह चुके आजाद जैसे नेता को निर्णय लेने की प्रक्रिया में शामिल नहीं किया गया है.

यह भी पढ़ेंः आम आदमी को महंगाई का झटका, कमर्शियल एलपीजी सिलेंडर के दाम बढ़े

असंतुष्ट कांग्रेस के कमजोर होने से दुखी
कांग्रेस ने नेताओं को शांत करने और उन्हें संदेश देने के लिए अभिषेक मनु सिंघवी से आग्रह किया है. उन्होंने कहा कि मैं बहुत सम्मान के साथ कहूंगा कि कांग्रेस के लिए सबसे अच्छा योगदान केवल आपस में ही सक्रिय होना नहीं है, बल्कि पांच राज्यों के मौजूदा चुनावों के मद्देनजर पार्टी के विभिन्न 'अभियानों' में सक्रिय होना है. संसद में विपक्ष के नेता रहे गुलाम नबी आजाद के साथ 'एकजुटता कार्यक्रम' में शामिल कपिल सिब्बल, राज बब्बर, मनीष तिवारी सहित कई असंतुष्ट नेताओं ने जम्मू में पार्टी पर प्रहार करने का विकल्प चुना. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि वे पार्टी के कमजोर होने से दुखी हैं.

राहुल गांधी पड़ते जा रहे अलग-थलग
आनंद शर्मा ने उन लोगों पर प्रहार किया जो इन नेताओं के आलोचक थे. उन्होंने कहा कि मैंने कियी को भी मुझे यह बताने का अधिकार नहीं दिया है कि हम कांग्रेस के लोग हैं या नहीं. किसी के पास यह अधिकार नहीं है. हम पार्टी का निर्माण करेंगे, हम इसे मजबूत करेंगे और कांग्रेस की ताकत व एकता में विश्वास करेंगे. चुनावी हार के कारण कठिन समय का सामना कर रही कांग्रेस को अब पार्टी को आंतरिक रूप से भी लड़ना होगा. राहुल गांधी की 'उत्तर-दक्षिण' वाली टिप्पणी पर भाजपा द्वारा प्रहार किए जाने के बाद उन्हें अपनी पार्टी के भीतर भी आलोचना झेलनी पड़ी और 'जी-23' असंतुष्ट भी राहुल पर प्रहार करने के लिए सही समय का इंतजार कर रहे थे.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 01 Mar 2021, 07:39:43 AM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.