News Nation Logo

कोरोना से मुकाबले में दुनियाभर से भारत को मिल रही मदद, जानें किसने क्या दिया

फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, आयरलैंड, बेल्जियम, रोमानिया, लक्समबर्ग, पुर्तगाल और स्वीडन समेत कई देशों ने भारत को मदद देने की घोषणा की है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 28 Apr 2021, 09:49:03 AM
Corona Help

अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, यूरोप सभी ने बढ़ाए मदद को हाथ. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और भूटान समेत कई अन्य देश भी भारत को मदद दे रहे हैं.
  • कोरोना संक्रमण से निपटने कई देशों ने भारत की ओर मदद का हाथ बढ़ाया
  • ऑक्सीजन संकेंद्रक, वेंटिलेटर और जीवन रक्षक दवाओं की खेप भेज रहे देश
    वायु एवं समुद्री मार्ग से चिकित्सकीय सामान की आपूर्ति 

नई दिल्ली:

दुनिया भर के देशों ने कोरोना वायरस (Corona Virus) की दूसरी लहर से बुरी तरह प्रभावित भारत (India) को ऑक्सीजन संकेंद्रक, वेंटिलेटर और जीवन रक्षक दवाओं समेत अत्यावश्यक चिकित्सकीय सामग्री मुहैया कराने के प्रयास मंगलवार को तेज कर दिए. इस घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले लोगों ने बताया कि संकट से निपटने के लिए कई देशों ने भारत की ओर मदद का हाथ बढ़ाया है और सरकार ने देश के विभिन्न हिस्सों में संस्थाओं को चिकित्सा आपूर्ति के तत्काल वितरण की प्रक्रिया के समन्वय के लिए एक उच्च स्तरीय अंतरमंत्रालयी समूह का गठन किया है.

फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, आयरलैंड ने की मदद की घोषणा
फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रेलिया, आयरलैंड, बेल्जियम, रोमानिया, लक्समबर्ग, पुर्तगाल और स्वीडन समेत कई देशों ने भारत को मदद देने की घोषणा की है. फ्रांस ने मंगलवार को भारत के लिए एकजुटता अभियान की घोषणा की कि जिसके तहत वह कोरोना वायरस वैश्विक महामारी से लड़ने में भारत की मदद के लिए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र, वेंटीलेटर्स और अन्य चिकित्सा सामान भेजेगा.

यह भी पढ़ेंः Corona रोकने 150 जिलों में लग सकता है लॉकडाउन, मोदी सरकार कर रही विचार

हवाई, समुद्री मार्ग से सामानों की सप्लाई
यूरोप और विदेश मामलों के लिए फ्रांस के मंत्रालय ने कहा कि वह कोविड-19 महामारी से बुरी तरह प्रभावित भारत के लोगों की मदद के लिए असाधारण एकजुटता अभियान चला रहा है. मंत्रालय ने एक बयान में कहा, 'मंत्रालय के संकट एवं सहयोग केंद्र और भारत में फ्रांस के दूतावास द्वारा चलाए गए इस अभियान के तहत इस हफ्ते के अंत तक वायु एवं समुद्री मार्ग से चिकित्सकीय सामान की आपूर्ति की जाएगी.' भारत में फ्रांस के राजदूत एमैनुअल लेनिन ने कहा कि भारत और यूरोपीय संघ में मौजूद फ्रांसीसी कंपनियों के सहयोग से बड़ा एकजुटता अभियान चलाया जा रहा है.

यह भी पढ़ेंः ठाणे में निजी अस्पताल में लगी आग, अब तक 4 मरीजों की मौत

ये देश कर रहे मदद

  • फ्रांस के विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत को की जाने वाली चिकित्सकीय आपूर्ति में आठ ऑक्सीजन जेनरेटर शामिल हैं, जिनमें से प्रत्येक में करीब 10 वर्षों के लिए 250 बिस्तर वाले अस्पताल के लिए ऑक्सीजन की अबाधित आपूर्ति की क्षमता है.
  • फ्रांस लिक्विड मेडिकल ऑक्सिजन के पांच कंटेनर भेज रहा है, जो एक दिन में 10,000 मरीजों को ऑक्सीजन की आपूर्ति करने में सक्षम हैं. उसने बताया कि वह भारत को 28 वेंटिलेटर भी भेज रहा है.
  • यूरोपीय संघ (ईयू) के कई सदस्य देश कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर से निपटने में मदद के लिए भारत को ऑक्सीजन संकेंद्रक और वेंटिलेटर जैसी मेडिकल सप्लाई भेज रहे हैं.
  • संघ के नागरिक रक्षा तंत्र के जरिए यूरोपीय देश-फ्रांस, आयरलैंड, बेल्जियम, रोमानिया, लग्जमबर्ग, पुर्तगाल और स्वीडन भारत को मेडिकल प्रदान कर रहे हैं.
  • ईयू के अनुसार, नागरिक रक्षा तंत्र के तहत आयरलैंड 700 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर, एक ऑक्सीजन जेनरेटर और 365 वेंटिलेटर भारत को भेज रहा है, जबकि बेल्जियम विषाणु रोधी दवा रेमडेसिविर की 9,000 खुराक तथा स्वीडन 120 वेंटिलेटर उपलब्ध करा रहा है.
  • रोमानिया 80 ऑक्सीजन संकेंद्रक, 75 ऑक्सीजन सिलेंडर और लग्जमबर्ग 58 वेंटिलेटर भारत भेज रहा है.
  • पुर्तगाल रेमडेसिविर की 5,503 शीशियां तथा हर सप्ताह 20,000 लीटर ऑक्सीजन भारत भेजने की प्रक्रिया में है.
  • जर्मनी मोबाइल ऑक्सीजन उत्पादन प्लांट भेज रहा है, जिसे तीन महीने के लिए उपलब्ध कराया जाएगा. इसके आलावा वह 120 वेंटिलेटर और आठ करोड़ केएन-95 मास्क भेजेगा.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 28 Apr 2021, 09:44:54 AM

For all the Latest Specials News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.