logo-image
लोकसभा चुनाव

कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन की कवायद, क्या जाएगी सीएम बोम्मई की कुर्सी?

मुख्यमंत्री बदलने की अफवाहों के शुरू होने के बाद भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने कर्नाटक इकाई से रिपोर्ट मांगी है.भाजपा के सूत्रों का कहना है कि पार्टी आलाकमान ने बसवराज बोम्मई को मुख्यमंत्री बने रहने को कहा है.

Updated on: 11 Aug 2022, 05:30 PM

highlights

  •  सुरेश गौड़ा ने दावा किया था कि शीर्ष नेतृत्व मुख्यमंत्री को बदलने पर कर रहा विचार
  •  बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष नलिन कुमार कतील का कार्यकाल इस महीने हो रहा समाप्त 
  •  मुख्यमंत्री बोम्मई ने प्रतिस्थापन की अटकलों को "निराधार" और "झूठ" बताया

नई दिल्ली:

कर्नाटक में 2023 में विधानसभा का चुनाव होना है. राज्य में अभी भाजपा की सरकार है और बसवराज बोम्मई  मुख्यमंत्री हैं. बोम्मई येदियुरप्पा के स्थान पर मुख्यमंत्री बनाए गए थे. येदियुरप्पा ने ही उनके नाम को शीर्ष नेतृत्व के सामने रखा था. बोम्मई को लिंगायत समुदाय का भी समर्थन प्राप्त था. लेकिन अब बोम्मई को विधानसभा चुनाव के पहले हटाने की बात की जा रही है. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या कर्नाटक में सत्ता परिवर्तन होने जा रहा है. पिछले दो दिनों से कर्नाटक में सत्ता परिवर्तन की खबर तेजी से फैली है.

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने 2023 के विधानसभा चुनावों से पहले उनके प्रतिस्थापन की अटकलों को "निराधार" और "झूठ" करार देते हुए गुरुवार को कहा कि उनकी सरकार स्थिर है और आगे भी रहेगी और वह राज्य और बीजेपी के लिए और अधिक मेहनत करेंगे. विवाद पर मुख्यमंत्री की यह पहली प्रतिक्रिया है, क्योंकि उन्होंने COVID-19 संक्रमण से उबरने के बाद आज अपनी नियमित गतिविधियों को फिर से शुरू किया. 6 अगस्त को कोविड पॉजिटिव पाए जाने के बाद उन्हें होम आइसोलेशन में रखा गया था.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की यात्रा के बाद चर्चा

पिछले दिनों केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की राज्य की हालिया यात्रा के बाद राज्य में भाजपा के भीतर मुख्यमंत्री बदलने की चर्चा चर्चा चल रही है. इस तरह की चर्चा के बाद ही कांग्रेस पिछले दो दिनों से ट्वीट्स  में  बोम्मई को इस कार्यकाल में राज्य के तीसरे मुख्यमंत्री होने की संभावना के बारे में अनुमान लगा रही है, और यहां तक ​​​​कि उन्हें "कठपुतली मुख्यमंत्री" भी कहा है.

मुख्यमंत्री बदलने की अउवाह पर केंद्रीय नेतृत्व सख्त, मांगी रिपोर्ट

मुख्यमंत्री बदलने की अफवाहों के दौर शुरू होने के बाद भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने कर्नाटक इकाई से रिपोर्ट मांगी है.भाजपा के सूत्रों का कहना है कि पार्टी आलाकमान ने न केवल बसवराज बोम्मई को मुख्यमंत्री के रूप में बने रहने का समर्थन किया है क्योंकि राज्य में चुनाव नजदीक हैं, उन्होंने राज्य इकाई को उन नेताओं को फटकार लगाने का भी काम सौंपा है जिन्होंने 'संभावित बदलाव' के बारे में बात की है.  

येदियुरप्पा के समर्थक ने फैलाई मुख्यमंत्री बदलने की अफवाह

हाल ही में तुमकुर ग्रामीण के पूर्व  विधायक और भाजपा नेता सुरेश गौड़ा ने दावा किया कि शीर्ष नेतृत्व मुख्यमंत्री को बदलने पर विचार कर रहा है.गौड़ा ने कहा था कि "स्वतंत्रता दिवस पर या उससे पहले मुख्यमंत्री को बदला जा सकता है." उन्होंने कहा, मुख्यमंत्री बोम्मई ने येदियुरप्पा-जी से पदभार संभालने के बाद अच्छा काम किया है.लेकिन पार्टी के भीतर आगामी चुनावों को ध्यान में रखते हुए नेतृत्व परिवर्तन की बात चल रही है.पार्टी नेतृत्व बदल सकता है और हम फैसले का पालन करेंगे.

राज्य इकाई ने सत्ता परिवर्तन का किया खंडन

कर्नाटक राज्य इकाई के एक बीजेपी नेता ने कहा कि जब भी केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह राज्य का दौरा करते हैं, तो यह राजनीतिक बदलाव की अटकलों को हवा देता है. मुख्यमंत्री को बदलने की अफवाह निराधार हैं. जबकि अमित शाह  हम सभी से सुचारू प्रशासन सुनिश्चित करने और जिन कल्याणकारी योजनाओं और सरकारी कार्यक्रमों का वादा किया गया है, उन्हें समय पर पूरा करने के लिए कह रहे हैं. हालांकि, कुछ नेता इस बात से सहमत हैं कि कई वरिष्ठ भाजपा नेता हिजाब विवाद, हाल ही में मंगलुरु की हत्याओं और बाढ़ सहित कई घटनाओं से परेशान हैं, जिन्होंने राज्य के साथ-साथ राजधानी  में भी लोगों को प्रभावित किया है.  

यह भी पढ़ें: जिनपिंग के अति राष्ट्रवाद ने ड्रैगन का अपनी ही समस्याओं से मोड़ दिया मुंह

राज्य में मुख्यमंत्री बदलने की चर्चा के बीच, पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा बोम्मई की सहायता के लिए आए और उन अटकलों पर विराम लगाने की कोशिश की.  उन्होंने कहा, "वह अपना पूरा कार्यकाल पूरा करेंगे और जब चुनाव में सात से आठ महीने बचे हैं तो सीएम बदलने का कोई सवाल ही नहीं है. " दिलचस्प बात यह है कि येदियुरप्पा के करीबी नेता माने जाने वाले गौड़ा ने उल्लेख किया था कि कैसे भाजपा आलाकमान ने सीएम बदल दिए हैं, भले ही चुनाव में सात या आठ महीने बचे हों.

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष का कार्यकाल हुआ पूरा

राज्य में मुक्यमंत्री बदले जाने की अफवाह के बीच एक चर्चा और जोरों पर है. यह चर्चा है कि पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष कौन होगा. क्योंकि पार्टी के वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष नलिन कुमार कतील का कार्यकाल इस महीने समाप्त हो रहा है. हालांकि परंपरागत रूप से राज्य भाजपा अध्यक्ष को उनके कार्यकाल के अंत में बदल दिया जाता है, भाजपा नेताओं का कहना है कि आगामी विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए, इस बार, आलाकमान को यह तय करने में समय लग सकता है कि कतील की जगह कौन ले सकता है.