News Nation Logo
Banner

अमेरिकी सैनिकों की संपूर्ण वापसी के बाद अफगानिस्तान में क्या होगा ?

ट्रम्प प्रशासन द्वारा हस्ताक्षरित 2020 के समझौते में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि तालिबान "संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा एक राज्य के रूप में मान्यता प्राप्त नहीं है.

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 25 Aug 2021, 06:59:25 PM
US TROOPS

काबुल एयरपोर्ट पर अमेरिकी सैनिक (Photo Credit: NEWS NATION)

highlights

  • अफगानिस्तान में महिलाओं के अधिकारों और सभी नागरिकों की सुरक्षा का है सवाल
  • तालिबान ने संयुक्त राष्ट्र को आश्वासन दिया है कि वह मानवीय कार्यों को आगे बढ़ा सकता है
  • संयुक्त राष्ट्र को यह तय करना होगा कि एक आसन्न मानवीय आपदा से कैसे निपटा जाए

नई दिल्ली:

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन अगस्त के अंत तक अफगानिस्तान से लगभग 6,000 अमेरिकी सैनिकों को हटाने की अपनी योजना पर अड़े  हैं. यह इस बात पर निर्भर करता है कि क्या तालिबान अमेरिकियों और उनके अफगान सहयोगियों को निकालने की अनुमति देने में सहयोग करेगा. अमेरिका जल्द से जल्द अफगानिस्तान को छोड़ना चाहता है. बाइडेन ने अप्रैल में 2,500 अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने की योजना की घोषणा की, जो 20 साल के युद्ध के बाद भी अफगानिस्तान में जमे थे, ये सैनिक अफगानिस्तान में अमेरिका समर्थित सरकार के गिरने और सेना के न्यूट्रल व्यवहार के बाद हजारों लोगों को वापस भेजने में मदद की थी. काबुल हवाई अड्डे से अराजक और खतरनाक निकासी  के इस दौर में राष्ट्रपति जो बाइडेन की चहुंओर आलोचना हो रही है.अफगानिस्तान से अमेरिकी और नाटो सैनिकों की सुरक्षित वापसी और वहां पर शांति का माहौल कायम रखना बाइडेन के समक्ष पदभार ग्रहण करने के साथ ही चुनौती के रूप में पेश हुई है. हर तरफ यही चर्चा है कि अमेरिकी सैनिकों की संपूर्ण वापसी के बाद अफगानिस्तान का क्या महौल होगा?

अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि सेना की वापसी शुक्रवार के बाद शुरू होनी चाहिए और 31 अगस्त तक पूरी हो जाएगी और इसमें कई दिन लगेंगे. काबुल हवाई अड्डे पर सैनिकों में मरीन और पैराट्रूपर्स शामिल हैं. जैसे ही वे अपने उपकरण पैक करते हैं और पीछे हटते हैं, अमेरिका और सहयोगी बलों द्वारा निकासी की गति - जो इस सप्ताह 20,000 तक पहुंच गई-अनिवार्य रूप से धीमी हो जाएगी.

समय सीमा तक कितने लोगों को निकाला जा सकता है?

बिडेन ने मंगलवार को कहा कि 14 अगस्त के बाद से अमेरिकी नागरिकों, नाटो कर्मियों और जोखिम में पड़े अफगानों सहित 70,000 से अधिक लोगों को काबुल से निकाला गया है. बिडेन ने कहा है कि संयुक्त राज्य अमेरिका किसी भी अमेरिकी नागरिक को  वहां से निकालना चाहता है, और अधिकारियों ने कहा है कि वे जितना संभव हो सकता है उतने जोखिम वाले अफगानों को भी निकालेंगे.

पेंटागन के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा कि पेंटागन का मानना ​​​​है कि उसके पास 31 अगस्त तक सभी अमेरिकियों को बाहर निकालने की क्षमता है और अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि अब तक 4,000 अमेरिकियों को निकाला जा चुका है, लेकिन वे नहीं जानते कि कितने लोग अभी भी अफगानिस्तान में हैं, क्योंकि वहां जाने वाले सभी अमेरिकी अमेरिकी दूतावास में पंजीकृत नहीं हैं. पेंटागन काबुल हवाई अड्डे की सुरक्षा में मदद करने वाले लगभग 500 अफगान सैनिकों को निकालने के लिए भी प्रतिबद्ध किया है.

निकासी की वर्तमान गति के बावजूद, जिसमें संयुक्त राज्य अमेरिका और दुनिया भर से दर्जनों सैन्य परिवहन विमान शामिल हैं. कई हजार अफगान जो अमेरिकी अधिकारियों और अमेरिकी समर्थित अफगानी सरकार के पक्ष में  लॉबिंग करते थे उनका मानना है कि तालिबान के  संभावित प्रतिशोध का सामना करने के कारण जो बाइडेन द्वारा तय समय सीमा में अफगानिस्तान छोड़ना संभव नहीं है. 

एक शरणार्थी पुनर्वास समूह, एसोसिएशन ऑफ वॉरटाइम एल़ॉइज़ का अनुमान है कि 250,000 अफगानों, जिनमें दुभाषिए और ड्राइवर और अन्य कार्यकर्ता शामिल हैं, जिन्होंने अमेरिकी प्रयासों में मदद की, को निकालने की आवश्यकता है, लेकिन जुलाई के बाद से केवल 62,000 ही बचे हैं.
अमेरिकी विदेश विभाग का कहना है कि अमेरिकी सैनिकों की संपूर्ण वापसी के बाद भी जोखिम में फंसे अफगानों को वहां से बाहर जाने में में मदद करना है और यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे ऐसा करने में सक्षम हैं, वाशिंगटन तालिबान पर दबाव बनाएगा.

विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने सोमवार को कहा, "जब सैन्य मिशन समाप्त नहीं होता है तो जोखिम वाले अफगानों के प्रति हमारी प्रतिबद्धता है." “हम इस पर तालिबान को रोकेंगे; बाकी दुनिया भी ऐसा करेगी-जो लोग अमेरिकी सेना के जाने के बाद छोड़ना चाहते हैं, उनके पास ऐसा करने का अवसर होगा."

संयुक्त राज्य अमेरिका के पास क्या है रास्त्ता?

बाइडेन प्रशासन और समान विचारधारा वाली सरकारों के सामने सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या तालिबान द्वारा स्थापित सरकार को मान्यता दी जाए. इसके महत्वपूर्ण परिणाम होंगे, जिसमें यह भी शामिल है कि क्या पिछली अफगान सरकारों द्वारा निर्भर विदेशी सहायता तक तालिबान की पहुंच होगी.

ट्रम्प प्रशासन द्वारा हस्ताक्षरित 2020 के समझौते में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि तालिबान "संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा एक राज्य के रूप में मान्यता प्राप्त नहीं है", लेकिन पहले से ही संकेत हैं कि वाशिंगटन को कुछ मुद्दों पर इस्लामी आतंकवादी समूह से बात करनी होगी, जैसे कि काउंटर- आतंकवाद.

यह भी पढ़ें:कंधार एयरपोर्ट पर अमेरिकी हेलीकॉप्टर उड़ाते दिखे तालिबानी

सीआईए के निदेशक विलियम बर्न्स ने सोमवार को काबुल में तालिबान नेता अब्दुल गनी बरादर से उच्चतम स्तर की आधिकारिक मुलाकात की, क्योंकि समूह ने 15 अगस्त को काबुल पर कब्जा कर लिया था. अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि तालिबान इस्लामिक स्टेट जैसे समूहों का विरोध करता है और अमेरिकी राजनयिक और कमांडर निकासी के दौरान तालिबान अधिकारियों के संपर्क में रहे हैं.

मानवीय संकट के संदर्भ में क्या है नीति?

संयुक्त राज्य अमेरिका, उसके सहयोगियों और संयुक्त राष्ट्र को यह तय करना होगा कि एक आसन्न मानवीय आपदा से कैसे निपटा जाए. संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि 18 मिलियन से अधिक लोगों-अफगानिस्तान की आधी से अधिक आबादी को सहायता की आवश्यकता है और पांच साल से कम उम्र के सभी अफगान बच्चों में से आधे पहले से ही चार साल में दूसरे सूखे के बीच गंभीर कुपोषण से पीड़ित हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि काबुल हवाईअड्डे पर तालिबान द्वारा सहायता को अवरुद्ध किए जाने के बाद अफगानिस्तान में उसके पास केवल एक सप्ताह तक चलने के लिए पर्याप्त आपूर्ति है और यह चिंता का विषय है कि अफगानिस्तान में हुए व्यापक उथल-पुथल कोरोनोवायरस संक्रमण को बढ़ाएगी.

तालिबान ने संयुक्त राष्ट्र को आश्वासन दिया है कि वह मानवीय कार्यों को आगे बढ़ा सकता है, लेकिन विश्व निकाय महिलाओं के अधिकारों और सभी नागरिकों तक पहुंच पर जोर देगा.

First Published : 25 Aug 2021, 06:59:25 PM

For all the Latest Specials News, Exclusive News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो