News Nation Logo
Banner
Banner

वृद्ध व्यक्तियों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस : सीखने की कोई उम्र नहीं होती

वृद्धों की बढ़ती संख्या को देखते हुए वैश्विक संस्थाएं बुजुर्गों के देखभाल के लिए नए आचार-विचार पर काम कर रहे हैं. आज यानी 1 अक्टूबर को दुनिया भर में अंतर्राष्ट्रीय वृद्ध दिवस मनाया जा रहा है.

Written By : प्रदीप सिंह | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 03 Oct 2021, 03:49:47 PM
Older persons

वृद्ध व्यक्तियों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • 2050 तक  60 वर्ष या उससे अधिक आयु के लोगों की संख्या बढ़कर कुल 2 अरब होने की उम्मीद
  • 2050 तक सभी वृद्ध लोगों में से 80 प्रतिशत लोग निम्न और मध्यम आय वाले देशों में रहेंगे
  • 14 दिसंबर 1990 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने  लिया 1 अक्टूबर को वृद्ध व्यक्तियों के अंतर्राष्ट्रीय दिवस मनाने का संकल्प  

नई दिल्ली:

अंतर्राष्ट्रीय वृद्ध दिवस: हमारे समाज में वृद्ध लोगों के प्रति दो धारणाएं आम है. पहला, बुजुर्ग व्यक्तियों को अक्सर कमजोर, अनुपयोगी और समाज के लिए बोझ माना जाता है. दूसरा, वृद्ध लोगों को अनुभवी मानते हुए उनकी बात मानने की सलाह दी जाती है. वृद्ध लोगों के प्रति दोनों  दृष्टिकोणों को संशोधित करने की आवश्यकता है. यह जरूरी नहीं है कि उम्र के कारण हर कोई अनुभव संपन्न हो और यह भी जरूरी नहीं है कि समाज और परिवार के लिए अनुपयोगी साबित हो रहा हो. दुनिया भर में स्वास्थ्य सेवाओं के बढ़ने के कारण लोगों की औसत आयु में बढ़ोतरी हुई है. लेकिन आज समाज में वृद्ध उपेक्षित रहते हैं.

दुनिया भर में वृद्धों की बढ़ती संख्या को देखते हुए वैश्विक संस्थाएं बुजुर्गों के देखभाल के लिए नए आचार-विचार पर काम कर रहे हैं. आज यानी 1 अक्टूबर को दुनिया भर में "वृद्ध व्यक्तियों का अंतर्राष्ट्रीय दिवस" मनया जा रहा है. 14 दिसंबर 1990 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 1 अक्टूबर को वृद्ध व्यक्तियों के अंतर्राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाने का संकल्प लिया था. वृद्ध व्यक्तियों के बारे में यह धारणा है कि वे नया कुछ सीख नहीं सकते हैं. इसी धारणा को तोड़ने के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ ने वर्ष 2021 के अंतरराष्ट्रीय वृद्ध दिवस का थीम- "सभी उम्र के लिए डिजिटल इक्विटी" यानी डिजिटल वर्ल्ड में वृद्ध व्यक्तियों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए यह निर्णय किया गया है. इसका सीधा अर्थ यह है कि सीखने की कोई उम्र नहीं होती है.  

यह भी पढ़ें: मिलिए स्नेहा दुबे से, जिसने UNGA में इमरान खान को धो डाला

नवाचार और घातीय वृद्धि की विशेषता वाली चौथी औद्योगिक क्रांति में तेजी से बढ़ते डिजिटल प्रयोग ने समाज के सभी क्षेत्रों को बदल दिया है, जिसमें हम कैसे रहते हैं, काम करते हैं और एक दूसरे से संबंधित हैं. सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) की दिशा में प्रगति में तेजी लाने के लिए तकनीकी प्रगति बहुत आशा प्रदान करती है. फिर भी, वैश्विक आबादी का आधा हिस्सा ऑफ़लाइन है, जिसमें सबसे विकसित देशों (87%) और सबसे कम विकसित देशों (19%) (अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ (ITU)द्वारा जारी तथ्य और आंकड़े 2020) के बीच सबसे बड़ा अंतर है. अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ (आईटीयू) की हालिया रिपोर्ट से संकेत मिलता है कि समाज में अन्य समूहों की तुलना में महिलाएं और वृद्ध व्यक्ति अधिक हद तक डिजिटल असमानता का अनुभव करते हैं; या तो उनके पास प्रौद्योगिकियों तक पहुंच की कमी है, या वे तकनीकी प्रगति द्वारा प्रदान किए गए अवसरों से पूरी तरह से लाभ नहीं उठा रहे हैं.

दुनिया भर में बढ़ रही है वृद्धों की संख्या

दुनिया भर में लोगों की औसत आयु में इजाफा हुआ है और आज, इतिहास में पहली बार, अधिकांश लोग साठ साल से ज्यादा जीने की उम्मीद कर सकते हैं. 2015 में दुनिया भर में वृद्धों की संख्या 9 करोड़ थी जो 2050 तक 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के लोगों की संख्या बढ़कर कुल 2 अरब होने की उम्मीद है. आज, 125 मिलियन लोग 80 वर्ष या उससे अधिक आयु के हैं. 2050 तक, लगभग इतने ही (120 मिलियन) अकेले चीन में रह रहे होंगे, और दुनिया भर में इस आयु वर्ग के 434 मिलियन लोग होंगे. 2050 तक सभी वृद्ध लोगों में से 80 प्रतिशत लोग निम्न और मध्यम आय वाले देशों में रहेंगे. लंबा जीवन अपने साथ न केवल वृद्ध लोगों और उनके परिवारों के लिए, बल्कि समग्र रूप से समाज के लिए भी अवसर लाता है. 

वृद्धावस्था में होते हैं जीवन और शरीर में कई महत्वपूर्ण परिवर्तन 

वृद्धावस्था में जीवन और शरीर में कई महत्वपूर्ण परिवर्तन होते हैं.जैसे सेवानिवृत्ति, अधिक उपयुक्त आवास में स्थानांतरण, और मित्रों और सहकर्मियों की मृत्यु. वृद्धावस्था के प्रति सार्वजनिक-स्वास्थ्य प्रतिक्रिया विकसित करने में, न केवल उन दृष्टिकोणों पर विचार करना महत्वपूर्ण है जो वृद्धावस्था से जुड़े नुकसान को कम करते हैं. वृद्धावस्था में सामान्य स्थितियों में श्रवण हानि, मोतियाबिंद और अपवर्तक त्रुटियां, पीठ और गर्दन में दर्द और पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस, पुरानी प्रतिरोधी फुफ्फुसीय रोग, मधुमेह, अवसाद और मनोभ्रंश शामिल हैं. इसके अलावा, लोगों की उम्र के रूप में, वे एक ही समय में कई स्थितियों का अनुभव करने की अधिक संभावना रखते हैं.

डब्ल्यूएचओ की वैश्विक रणनीति और कार्य योजना 

आने वाले वर्षों में वृद्ध लोगों की जरूरतों को पूरा करने के लिए सभी देशों में दीर्घकालिक देखभाल प्रणालियों की आवश्यकता है. इसके लिए शासन प्रणाली, बुनियादी ढांचे और कार्यबल क्षमता में विकास की जरूरत है. हाल ही में जारी विश्व स्वास्थ्य संकल्प के अनुसार, सदस्य देशों और अन्य भागीदारों के परामर्श से डब्ल्यूएचओ द्वारा उम्र बढ़ने और स्वास्थ्य पर एक व्यापक वैश्विक रणनीति और कार्य योजना विकसित की जा रही है. रणनीति और कार्य योजना उम्र बढ़ने और स्वास्थ्य पर विश्व रिपोर्ट के साक्ष्य पर आधारित है और कार्रवाई के लिए 5 प्राथमिकता वाले क्षेत्रों में सुविधाओं को बढ़ाने पर जोर दे रहा है.

First Published : 01 Oct 2021, 07:30:00 AM

For all the Latest Specials News, Exclusive News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो