News Nation Logo
कश्मीर में हो रहीं हत्याएं दुखद, हम निंदा करते हैं: राजीव शुक्ला पीएम नरेंद्र मोदी 20 अक्टूबर को उत्तर प्रदेश के कुशीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे का उद्घाटन करेंगे घर में घुसकर गरीब लोगों की हत्या करना दुर्भाग्यपूर्ण है। आतंकियों की यह कायराना हरकत है: सुशील मोदी आतंकियों की मंशा लोगों में डर पैदा करने की है, जिससे लोग कश्मीर छोड़कर चले जाएं: सुशील मोदी उत्तराखंड: बद्रीनाथ धाम में शुरू हुआ सीजन का पहला हिमपात। धाम में पड़ रही कड़ाके की ठंड। राम रहीम को रंजीत सिंह हत्या मामले में उम्रकैद की सजा पंचकूला की CBI अदालत ने सजा का ऐलान किया अन्य 4 दोषियों पर 50-50 हजार रुपए का जुर्माना अदालत ने राम रहीम पर 31 लाख का जुर्माना भी लगाया लंबी लड़ाई के बाद पीड़ित परिवार को मिला इंसाफ डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम के साथ 5 लोगों को उम्र कैद पंजाब: जालंधर-फगवाड़ा हाईवे पर धनोवाली में एक तेज रफ़्तार गाड़ी ने 2 युवतियों को कुचला देश में अब तक कोविड वैक्सीन की 98 करोड़ डोज़ लगाई गई है: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया आंतरिक सुरक्षा पर राज्यों के IG और DGP के साथ आज अमित शाह की बैठक कश्मीर में एक और आतंकी साजिश का अलर्ट, सुरक्षा बढ़ाई गई दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने “रेड लाईट ऑन, गाड़ी ऑफ” अभियान की शुरुआत की पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी की अध्यक्षता में चंडीगढ़ में कैबिनेट की बैठक हुई महाराष्ट्रः कल्याण की आधारवाड़ी जेल में 20 कैदी कोरोना पॉजिटिव आर्यन खान पर NCB का बड़ा बयान, आर्यन की काउंसिलिंग की गई आर्यन ने दोबारा गलती न करने की बात कही: NCB रिहाई के बाद गरीबों के लिए काम करेंगे आर्यन खान: NCB कांग्रेस सिर्फ एक परिवार की पार्टी है: संबित पात्रा कश्मीर पर कांग्रेस भ्रम फैला रही है: संबित पात्रा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने चारधाम यात्रा पर जाने वाले श्रद्धालुओं से सावधानी बरतने की अपील की भाजपा कार्यालय में हो रही राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक का पहला चरण खत्म किसान संगठनों के रेल रोको आंदोलन के आह्वान पर मोदी नगर (उ.प्र.) में प्रदर्शनकारियों ने ट्रेन रोकी ISI Chief पर बीवी के टोटके पर अड़े इमरान, पाक सेना के जनरल ने लगाई लताड़ संयुक्त किसान मोर्चा के रेल रोको आंदोलन के आह्वान पर प्रदर्शनकारी बहादुरगढ़ में रेलवे ट्रैक पर बैठे दिल्ली में लगातार दूसरे दिन भी बारिश का दौर जारी. जगह-जगह जलभराव

पंजशीर से भागे अफगान : पल-पल बदल रही पंजशीर घाटी

छह दिन पहले पंजशीर छोड़कर भागने में कामयाब रहे एक सरकारी कर्मचारी ने कहा, हमें यह भी नहीं पता था कि अगले गांव में क्या हो रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 17 Sep 2021, 09:16:36 PM
Panjshir

पंजशीर घाटी, अफगानिस्तान (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • पंजशीर के निवासी प्रतिरोध का समर्थन करते हैं और पिता और पुत्र के लिए एक विशेष श्रद्धा रखते हैं
  • एनआरएफ 1,500 तालिबान सदस्यों को पकड़ने का भी दावा कर रहा है
  • पंजशीर के ऊंचे पहाड़ और विशाल घाटियों वाले पंजशीर से नहीं आ पा रही विश्वसनीय सूचनाएं 

नई दिल्ली:

इस महीने की शुरुआत में  तालिबान ने पंजशीर घाटी पर "पूर्ण नियंत्रण" का दावा किया है. अफगानिस्तान के पूर्वोत्तर में स्थित पंजशीर में इस समूह पर "व्यापक अत्याचार" का आरोप लगाया गया है, जिससे वहां के नागरिक राज्य छोड़कर भागने के लिए मजबूर हो गए हैं.  अफगानिस्तान में  प्रतिरोध के अंतिम द्वीप पर समूह का कानून चलने लगा है. छह दिन पहले पंजशीर छोड़कर भागने में कामयाब रहे एक सरकारी कर्मचारी ने कहा, "हमें यह भी नहीं पता था कि अगले गांव में क्या हो रहा है."  नाम उजागर न करने की शर्त पर मीडिया से बात कर पर उसने तालिबान के सच को बयां किया. 

लगभग एक महीने से, पंजशीर के ऊंचे पहाड़ और विशाल घाटियां अफगानिस्तान में सूचनाओं का एक ब्लैक होल रही हैं, नेशनल रेजिसटेंस फ्रंट National Resistance Front(NRF)तालिबान के व्यापक अधिग्रहण का विरोध करने वाले देश के आखिरी होल्डआउट के नियंत्रण के लिए जूझ रहे हैं.

हालांकि देश और विदेश में सैकड़ों-हजारों अफगानों ने हरे-भरे प्रांत में अपनी उम्मीदें रखी हैं, लेकिन पंजशीर (Panjshir Valley) के 100,000 से अधिक निवासियों को खुद पिछले कई हफ्तों में अपने घरों और गांवों में क्या हुआ, इसकी कहानी बताने का कोई मौका नहीं मिला है.

यह भी पढ़ें:ताइवान ने चीन को तरेरी आंखें, लड़ाकू विमानों ने अभ्यास कर दिखाया दम

अगस्त के अंत में जैसे-जैसे लड़ाई गर्म हो रही थी, तालिबान ने पंजशीर प्रांत में इंटरनेट और मोबाइल फोन सेवाओं को काट दिया, इससे न केवल देश और दुनिया के बाकी हिस्सों से, बल्कि खुद से भी निवासियों को प्रभावी ढंग से काट दिया गया.

हफ्तों की कठिन लड़ाई के बाद, तालिबान ने 6 सितंबर को पंजशीर घाटी पर अपने नियंत्रण का दावा किया. लेकिन कमांडर अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद के नेतृत्व में एनआरएफ ने लड़ाई जारी रखने का संकल्प लिया है.

हालांकि पंजशीर के निवासी प्रतिरोध का समर्थन करते हैं और पिता और पुत्र के लिए एक विशेष श्रद्धा रखते हैं, लड़ाई ने एक ऐसे प्रांत पर भारी असर डाला है जो काबुल से माल और पर्यटकों पर बहुत अधिक निर्भर है.

जब लड़ाई अपने चरम पर थी, वहां के निवासियों ने एक मीडिया को बताया कि तालिबान ने प्रांत के प्रवेश द्वारों पर शिपिंग कंटेनरों को ढेर लगा दिया है ताकि यह नियंत्रित किया जा सके. तालिबान और प्रतिरोध बल के बीच भीषण लड़ाई के बारे में सरकारी कर्मचारी ने कहा, "हर चीज घंटे के हिसाब से बदल सकती है."

सरकारी कर्मचारी ने कहा कि प्रांत भौतिक रूप से-पहाड़ों और घाटियों से-और तकनीकी रूप से कट गया है, पंजशीर के लोग अभी तक किसी भी पक्ष की असली ताकत का आकलन नहीं कर पाए हैं.

एनआरएफ का कहना है कि उसके साथ देश भर के "हजारों" लड़ाके लड़ रहे हैं. एनआरएफ 1,500 तालिबान सदस्यों को पकड़ने का भी दावा कर रहा है.

पंजशीर के निवासियों ने कहा कि देश भर से भेजे गए तालिबान लड़ाकों की संख्या स्पष्ट नहीं है. सूचना ब्लैकआउट के कारण दोनों पक्षों द्वारा बताए गए नंबरों को सत्यापित करना मुश्किल साबित हो रहा है. मीडिया से बात करते हुए एक सरकारी कर्मचारी ने कहा, "पंजशीर में किसी को भी इस बारे में कोई निश्चितता नहीं है कि क्या हो रहा है."

तालिबान पर पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह ने बारूदी सुरंगों को साफ करने के लिए नागरिकों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है. मानव अधिकार समूहों ने भी समूह पर यह आरोप लगाया है. जबकि तालिबान ने आरोपों से इनकार किया है.

तालिबान के सहयोगी हक्कानी नेटवर्क के अनस हक्कानी ने गुरुवार को एक मीडिया समूह को बताया कि, "कई देश पंजशीर में अत्याचार के बारे में प्रचार कर रहे थे, लेकिन कोई सबूत नहीं है."

हक्कानी ने कहा कि उनके दोस्त, जो पंजशीर में एक राजनयिक हैं, ने उन्हें बताया कि "सब कुछ ठीक था". फिर भी, उन्होंने कहा कि उनके राजनयिक मित्र को "नरसंहारों की जांच के लिए अमेरिका के विदेश विभाग का संदेश प्राप्त हुआ."

उन्होंने कहा कि, “ऐसे देश हैं जो अफगानिस्तान में स्थिरता और शांति नहीं देखना चाहते हैं. अफगानिस्तान के प्रति उनकी नफरत के कारण वे झूठ और अफवाहें फैला रहे हैं.”

इस सप्ताह की शुरुआत में, सूचना और संस्कृति के उप मंत्री जबीहुल्लाह मुजाहिद ने भी कहा कि पत्रकारों और अधिकार कार्यकर्ताओं को प्रांत में जांच करने की अनुमति दी जाएगी. हालांकि मीडिया और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को पंजशीर में आने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है.

ह्यूमन राइट्स वॉच में एशिया की एसोसिएट डायरेक्टर पेट्रीसिया गॉसमैन ने कहा कि तालिबान को अपने वादे का पालन करना चाहिए और समूह के खिलाफ आरोपों को देखने के लिए एक स्वतंत्र तथ्य-खोज मिशन की अनुमति देनी चाहिए.

गॉसमैन ने कहा, "एक विश्वसनीय जांच के बिना, विवादित दावे और शिकायतें बढ़ेंगी, और सभी पक्षों द्वारा दुर्व्यवहार के शिकार लोगों को जवाब या न्याय के बिना छोड़ दिया जाएगा."

पंजशीर के निवासियों ने यह भी कहा कि वे सामूहिक हत्याओं के आरोपों की पुष्टि नहीं कर सकते हैं, लेकिन गोसमैन से सहमत हैं कि आरोपों की जांच होनी चाहिए. सरकारी कर्मचारी ने कहा कि उसने काबुल पहुंचने पर सबसे पहले बड़े पैमाने पर हत्याओं की खबरें सुनीं.

एनआरएफ समर्थकों ने प्रांत में "नरसंहार" के बार-बार दावे किए हैं. हालांकि, सरकारी कर्मचारी ने कहा कि वह केवल वही देख सकता है जो उसने अपने क्षेत्र में देखा था. हालांकि, सरकारी कर्मचारी ने कहा कि पंजशीर में स्थिति की अस्थिरता के कारण सामूहिक हत्याएं हो सकती हैं. पंजशीर में कोई भी क्षेत्र एक पल की सूचना पर युद्ध क्षेत्र में बदल सकता है.

First Published : 17 Sep 2021, 09:16:36 PM

For all the Latest Specials News, Exclusive News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो