News Nation Logo
Banner

Lunar loo Challenge: स्पेस एजेंसी NASA का ये काम कर दिया तो जीत सकते हैं बड़ी रकम

इसके लिए उसने दुनियाभर के वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को चांद पर उसके स्थाई बेस के लिए टॉयलेट की डिजाइन तैयार करने का चैलेंज दिया है.

News Nation Bureau | Edited By : Yogesh Bhadauriya | Updated on: 29 Jun 2020, 12:13:58 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली:

अमेरिका अंरिक्ष स्पेस एजेंसी NASA ने Artemis Mission लांच किया है. इसके तहत चांद पर नासा स्थाई बेस बनाने की कोशिश में है. इसी कड़ी में चांद पर एक कदम और आगे बढ़ाने के लिए NASA ने एक दिलचस्प प्रतियोगिता का आयोजन किया है. इसके लिए उसने दुनियाभर के वैज्ञानिकों और इंजीनियरों को चांद पर उसके स्थाई बेस के लिए टॉयलेट की डिजाइन तैयार करने का चैलेंज दिया है. NASA की ओर से बेस्ट डिजाइन को इनाम भी दिया जाएगा. Artemis Mission के तहत चांद पर 2024 तक बेस तैयार करने की योजना पर नासा काम कर रहा है, इसके लिए उसे चांद पर टॉयलेट की जरुरत पड़ेगी यही वजह है कि वह इसके लिए इनोवेटिव डिजाइन चाहता है.

इनाम में मिलेंगे लाखों रुपए

जो भी व्यक्ति इस तरह की कवायद करने में सफल हो जाता है NASA की ओर से उसे 26.5 लाख का इनाम दिया जाएगा. चांद पर पृथ्वी की तरह गुरुत्वाकर्षण बल नहीं है, ऐसे में वहां हर चीज स्पेस में ही घूमती रहती है, यही वजह है कि ये काम NASA के लिए भी चुनौती बना हुआ है.

यह भी पढ़ें- आम नहीं बहुत खास होते हैं अंतरिक्ष में जाने वाले लोग, जानें क्या आप में भी है वो बात

Defecation and urination स्पेस में चिंता का विषय

बता दें कि Apollo Missions के दौरान अंतरिक्ष यात्री एडल्ट डाइपर्स का Loo के लिए इस्तेमाल करते थे और उन्हें बैग्स में रखते थे. नासा की अपोलो मिशन पर 1975 में पब्लिश हुई एक आधिकारिक रिपोर्ट में कहा गया था 'Defecation and urination स्पेस में एक चिंता का विषय है.'

डिजाइन सबमिट की अंतिम तारीख

इस रिपोर्ट के लगभग पांच दशक बाद अब यूएस स्पेस एजेंसी चांद की सतह पर अंतरिक्ष यात्रियों के लिए एक टॉयलेट की डिजाइन चाहती है जो चांद के गुरुत्वाकर्षण के बीच काम कर सके. इस इनोवेशन के लिए नासा 35 हजार डॉलर का ऑफर दे रहा है. टायलेट डिजाइन सबमिट करने की अंतिम तारीख 17 अगस्त शाम 5 बजे तक है.

NASA ने टॉयलेट के लिए दी ये गाइडलाइन

- टॉयलेट को microgravity और lunar gravity में काम करना चाहिए.

- इसका द्रव्यमान पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण में 15 किलो से कम होना चाहिए.

- इसे 70 वॉट से कम consume करना चाहिए.

- इसे Noise level 60 डेसिबल से कम पर ऑपरेट करना चाहिए.

- इसे पुरुष और महिला दोनों के लिए इस्तेमाल लायक होना चाहिए.

- इसे 58 से 77 इंच के बीच की लंबाई वाले और 107 से 290 एलबीएस वाले व्यक्ति के इस्तेमाल लायक होना चाहिए.

First Published : 29 Jun 2020, 12:13:48 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

Nasa Space Lunar
×