News Nation Logo

IndependenceDay2020: जानिए भारत में कब हुई इंटरनेट की शुरुआत और कितनी चुकानी पड़ती थी कीमत

IndependenceDay2020: कोलकाता में सबसे पहले इंटरनेट का आम इस्तेमाल किया गया था. इंटरनेट की शुरुआत में लोग पहले सिर्फ कंप्यूटर के जरिए इंटरनेट से जुड़ पाते थे.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 15 Aug 2020, 07:53:33 AM
Internet

इंटरनेट (Internet) (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

IndependenceDay2020: भारत में इंटरनेट (Internet) को आए हुए 25 साल हो चुके हैं. भारत में 15 अगस्त 1995 (15 August 2020) को विदेश संचार निगम लिमिटेड (VSNL) द्वारा इंटरनेट सेवाओं की शुरुआत की गई थी. नवंबर 1998 में तत्कालीन सरकार ने निजी ऑपरेटरों द्वारा इंटरनेट सेवाओं (Internet Services) को उपलब्ध कराने के लिए क्षेत्र को खोल दिया गया. आज इंटरनेट हमारी दिनचर्या का एक अहम हिस्सा बन चुका है और इससे देश में भारी मात्रा में रोजगार भी मिल रहा है. आज के समय में जहां इंटरनेट से पढ़ाई हो रही है तो वहीं ट्रेन, बस और फ्लाइट की बुकिंग भी हो रही है. कुल मिलाकर देखें तो इंटरनेट ने हमारे जीवन को काफी आसान बना दिया है.

यह भी पढ़ें: Independence Day 2020: आजादी के समय से अभी तक कितनी बदल गई भारतीय अर्थव्यवस्था

समय में बदलाव के साथ ज्यादा से ज्यादा लोगों की पहुंच इंटरनेट तक बढ़ी
बता दें कि कोलकाता में सबसे पहले इंटरनेट का आम इस्तेमाल किया गया था. इंटरनेट की शुरुआत में लोग पहले सिर्फ कंप्यूटर के जरिए इंटरनेट से जुड़ पाते थे. हालांकि समय में बदलाव के साथ ही अब हर कोई आज मोबाइल फोन से भी इंटरनेट तक आसानी से पहुंच हो गई है. मौजूदा समय में इंटरनेट का इस्तेमाल सूचना प्राप्त करने से कहीं ज्यादा हो गया है. यही नहीं इंटरनेट ने भाषा के बंधन को भी पूरी तरह तोड़ दिया है. इस समय पूरी दुनिया में लगभग सभी भाषाओं में इंटरनेट सामग्री उपलब्ध हैं.

यह भी पढ़ें: Independence Day 2020: स्वतंत्रता दिवस पर देखें देशभक्ति से लबरेज ये टॉप 10 फिल्में

गौरतलब है कि एक समय वह भी जब लोगों को इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए साइबर कैफ जाना पड़ता था और उस दौरान पूरे शहर में इक्का दुक्का ही साइबर कैफे हुआ करते थे. यही नहीं उस समय इंटरनेट का इस्तेमाल काफी महंगा भी होता था. हालांकि समय बीतने के साथ ही इसकी दरों में भी काफी गिरावट आई है. शुरुआत में प्रोफेशनल को 9.6 केबीपीएस के लिए 5 हजार रुपये सालाना तक चुकाना पड़ता था. वहीं नॉन कर्मिशयल श्रेणी में इसी स्पीड को पाने के लिए 15 हजार रुपये का भुगतान करना होता था. इसके अलावा कमर्शियल इस्तेमाल के लिए इसी स्पीड के लिए 25 हजार रुपये तक के प्लान उस समय मौजूद थे. हालांकि इस समय महंगा इंटरनेट गुजरे जमाने की बात हो गई है अब तो काफी किफायती और तेज गति वाले इंटरनेट प्लान भी काफी सस्ते में ग्राहकों को मिल जाते हैं.

यह भी पढ़ें: के-2' जिन्न से पाकिस्तान की 15 अगस्त पर बड़ी साजिश, अलर्ट पर सुरक्षा एजेंसियां

नेशनल रिसर्च नेटवर्क के साथ शुरू हुआ था इंटरनेट का इतिहास
1986 में नैशनल रिसर्च नेटवर्क (ERNET) के लॉन्च के साथ भारत में इंटरनेट की शुरूआत हुई थी. हालांकि उस दौरान इंटरनेट को सिर्फ शिक्षा और रिसर्च के लिए ही उपलब्ध कराया जा रहा था. भारत सरकार और यूनाइटेड नेशन डेवलेपमेंट प्रोग्राम (UNDP) के सहयोग और आर्थिक सहायता के साथ इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग (DOE) ने नेटवर्क को शुरू किया था. 1988 में NICNet की शुरुआत हुई और इस नेटवर्क का संचालन राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र द्वारा किया गया था.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 14 Aug 2020, 05:29:34 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.