News Nation Logo
दिल्ली के राजीव गांधी अस्पताल में फ्री डायलिसिस बंद पीपीपी मॉडल का है डायलिसिस सेंटर पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से की मुलाकात 12 देशों के मुसाफिरों के लिए गाइडलाइन्स जारी ओमीक्रोन पर DDMA की हाईलेवल मीटिंग अगले आदेश तक दिल्ली में निर्माणकार्य पर रोक निर्माण से जुड़े मजदूरों को सरकारी मदद दी जाएगी दिल्ली में पब्लिक ट्रांसपोर्ट बढ़ाया जाएगा ओमीक्रोन से निपटने के लिए हम पूरी तरह तैयार: मनीष सिसोदिया संसद के दोनों सदनों से कृषि कानून वापसी बिल पास कृषि कानूनों की वापसी का बिल पारित होना जान गंवाने वाले किसानों को श्रद्धांजलि है: राकेश टिकैत एमएसपी समेत अन्य मुद्दे लंबित रहने के कारण विरोध जारी रहेगा: राकेश टिकैत हंगामे के बीच लोकसभा में कृषि कानून वापसी बिल पास दक्षिण अफ्रीका से महाराष्ट्र लौटा शख्स कोरोना पॉजिटिव आम आदमी पार्टी नहीं होगी विपक्षी दलों की बैठक में शामिल

कोरोना वायरस: सुबह या शाम, जानिए कब ज्यादा असरदार होती है वैक्सीन?

इम्यून सिस्टम इन संक्रमणों को समझने, खत्म करने और उनसे होने वाली हानियों को दूर करने के लिए अत्यधिक प्रशिक्षित होता है

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 12 Jun 2021, 02:53:09 PM
coronavirus

corona vaccine (Photo Credit: NewsNation)

highlights

  • कोरोना वायरस की दूसरी लहर देश में भारी तबाही मचा चुकी है
  • बॉडी संक्रमित होती है तो इम्यून सिस्टम हरकत में आ जाता है
  • सुबह 9 बजे से 11 बजे के बीच इन्फ्लूएंजा का टीका लगाया जाएगा
  •  

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस की दूसरी लहर देश में भारी तबाही मचा चुकी है। इस बार कोरोना की वजह से लाखों की संख्या में लोग संख्या में लोग संक्रमित हुए और मरे भी। हालांकि फिलहाल कोरोना संक्रमित मरीजों में कमी देखने को मिली है, जिसकी वजह से देश भर में लोकडाउन और कोरोना कफ्र्यू में रिलैक्स दे दिया गया है। आइए आज हम आपको बता दें कि कैसे बैक्टीरिया और वायरस हमें संक्रमित करते हैं। दरअसल, जब हमारी बॉडी संक्रमित होती है तो हमारा इम्यून सिस्टम हरकत में आ जाता है। इम्यून सिस्टम इन संक्रमणों को समझने, खत्म करने और उनसे होने वाली हानियों को दूर करने के लिए अत्यधिक प्रशिक्षित होता है। 

यह भी पढ़ें: किसी भी गैस एजेंसी से रिफिल करा सकेंगे LPG सिलेंडर, जल्द शुरू होगी योजना

जानिए बॉडी क्लॉक का महत्व

माना तो यह जाता है कि हमारा इम्यून सिस्टम हर समय एक ही पैर्टन पर काम करती करता है। फिर चाहे संक्रमण दिन में हुआ या रात में। लेकिन पिछले कई सालों से चल रही रिसर्च में खुलासा हुआ है कि हमारी बॉडी का इम्यून सिस्टम अलग-अलग समय में भिन्न-भिन्न प्रतिक्रिया देता है। जिसकी सबसे बड़ी वजह हमारी बॉडी की नेचुरल क्लॉक और प्रतिरक्षा कोशिकाओं समेत बॉडी की हर एक कोशिका बता सकते हैं कि यह दिन का कौन सा समय है। बॉडी क्लॉक को विकसित होने में लगा इतना समयदरअसल, हमारी बॉडी क्लॉक हमें जिंदा रहने में मदद करने के लिए लाखों वर्षों में विकसित हुई है। बॉडी की हर एक कोशिका में प्रोटीन का एक संग्रह होता है, जो अपने स्तर के आधार पर समय का संकेतक होता है। आपको बता दें कि कोशिकाओं को काम करने के तरीक में 24 घंटे की लय पैदा करके हमारी बॉडी क्लॉक ऐसा करती है। समझने के लिए यह हमारी बॉडी क्लॉक का ही काम होता है कि रात में सोने के लिए थकान की आवश्यक्ता है और उसके लिए मेलाटोनिन नाम के केमिकल का उत्पादन करना है। 

यह भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर के सोपोर में आतंकी हमला, 2 जवान शहीद, 2 नागरिकों की मौत

कैसे तह होता है कि हम कितने बीमार होंगे

यह बात शायद ही किसी को पता होगी कि इन्फ्लूएंजा और हेपेटाइटिस जैसे किसी वायरस से हमारे संक्रमित होने का समय ही तय कर सकता है कि हम उससे कितने बीमार होंगे। अलग-अलग वायरस के लिए तय समय अलग-अलग होता है। बॉडी क्लॉक और वैक्सीन इस बात के भी प्रमाण हैं कि वायरस के खिलाफ इम्यून सिस्टम विकसित करने वाली वैक्स्ीन हमारी बॉडी की क्लॉक और दिन व रात के हिसाब से दिया जाता है। समझने के लिए 2016 में 65 साल के ढांई सो से अधिक वयस्क लोगों का एक परीक्षण किया गया, जिसमें पता चला कि सुबह 9 बजे से 11 बजे के बीच इन्फ्लूएंजा का टीका लगाया जाएगा। इससे पता चला है कि ऐसा करने वालों में दोपहर और शाम के समय टीका लगवाने वालो में अधिक एंटीबॉडी प्रतिक्रिया हुई। 

First Published : 12 Jun 2021, 02:34:30 PM

For all the Latest Science & Tech News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

Related Tags:

Coronavirus Corona Vaccine