News Nation Logo

कुंभ : कोरोना संक्रमण रोकने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने लिखा पत्र

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि वर्तमान में भारत के 12 से अधिक राज्यों में पिछले कुछ हफ्तों के दौरान कोविड-19 मामलों में उछाल आया है. इन राज्यों से कुंभ मेले के दौरान तीर्थयात्रियों के हरिद्वार आने की संभावना भी हो सकती है.

IANS | Updated on: 21 Mar 2021, 03:35:26 PM
Kumbh haridwar

कुंभ: कोरोना संक्रमण रोकने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने लिखा पत्र (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • केंद्रीय स्वास्थ्य ने उत्तराखंड के मुख्य सचिव को पत्र लिखा है
  • कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए लिखा पत्र
  • राज्य सरकार को निम्नलिखित उपाय करने की भी सलाह दी गई है

 

नई दिल्ली :

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कुंभ मेले के दौरान कोविड-19 के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए उत्तराखंड के मुख्य सचिव को पत्र लिखा है. यह पत्र कड़े उपायों की आवश्यकता पर जोर देते हुए लिखा गया है. हरिद्वार में शुरू होने वाले कुंभ मेले के लिए राज्य द्वारा किए गए चिकित्सा और सार्वजनिक स्वास्थ्य तैयारियों के उपायों की समीक्षा के लिए एनसीडीसी के निदेशक के नेतृत्व में एक उच्च स्तरीय केंद्रीय टीम ने 16-17 मार्च, 2021 को उत्तराखंड का दौरा किया था. केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि वर्तमान में भारत के 12 से अधिक राज्यों में पिछले कुछ हफ्तों के दौरान कोविड-19 मामलों में उछाल आया है. इन राज्यों से कुंभ मेले के दौरान तीर्थयात्रियों के हरिद्वार आने की संभावना भी हो सकती है. यह यह भी बताया गया है कि कुंभ मेले के दौरान पवित्र शाही स्नान के दिनों के बाद स्थानीय जनसंख्या में कोविड-19 के मामलों में उछाल आने की संभावना है.

यह भी पढ़ें : पीएम मोदी वर्षा जल संचयन अभियान का सोमवार को करेंगे शुभारंभ

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि केंद्रीय टीम की रिपोर्ट के अनुसार, प्रतिदिन 10-20 तीर्थयात्री और 10-20 स्थानीय लोग कोविड-19 से संक्रमित हो रहे हैं. इस संक्रमण दर से कुंभ के दौरान कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ने की आशंका है. कुंभ मेले के दौरान स्थिति काफी बिगड़ सकती है.

राज्य को सूचित किया गया है कि हरिद्वार में रिपोर्ट की जाने वाली दैनिक परीक्षण संख्याएं (यानी 50,000 रैपिड एंटीजेन टेस्ट और 5,000 आरटीपीआर परीक्षण) बड़ी संख्या में अपेक्षित तीर्थयात्राओं को प्रभावी ढंग से पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं हैं. यह सलाह दी गई है कि तीर्थयात्रियों और स्थानीय जनसंख्या का उचित रूप से परीक्षण किया जाए. यह सुनिश्चित करने के लिए आईसीएमआर के दिशा-निर्देशों के अनुसार वर्तमान में आरटीपीआर परीक्षणों का हिस्सा काफी बढ़ाया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें : 'वंदे भारत' मिशन के जरिए 6.7 करोड़ भारतीय वापस लाए गए

राज्य सरकार को निम्नलिखित उपाय करने की भी सलाह दी गई है. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किए गए मानक संचालन प्रक्रियाओं का सावधानीपूर्वक पालन करें. इन मानक संचालन प्रक्रियाओं के मुख्य बिंदुओं को प्रसारित करने के लिए प्रदर्शन चिन्ह दर्शाएं. कोविड-19 के लक्षणों के मामले में, विशेष रूप से स्थानीय जनसंख्या के बीच, खुद ही रिपोटिर्ंग किए जाने के बारे में जागरूकता बढ़ाना.

आपातकालीन परिचालन केन्द्रों के माध्यम से एआरआई और आईएलआई मामलों की प्रवृत्ति की निगरानी करके अतिसंवेदनशील जनसंख्या वाले क्षेत्रों में प्रारंभिक चेतावनी संकेत उत्पन्न करने के लिए प्रणाली स्थापित करें. संभावित उच्च संचरण क्षेत्रों में परीक्षण बढ़ाने का महत्वपूर्ण लक्ष्य रखना. कुंभ के दिनों में पवित्र स्नान से पहले और बाद में फ्रंटलाइन श्रमिकों का आवधिक परीक्षण जारी रखें. पर्याप्त संख्या में गंभीर रोगी देखभाल एवं उपचार सुविधाओं के संचालन को सुनिश्चित करना.

यह भी पढ़ें : नई खोज : आईआईटी प्रोफेसर ने किया रोग में लिपिड्स की भूमिका पर अध्ययन

कोविड के दौरान समुचित व्यवहार का कड़ाई से पालन करने के लिए सभी प्रकार के मीडिया प्लेटफार्मों का उपयोग कर प्रभावी जोखिम संवाद सुनिश्चित करना. कोविड के मामलों में तेजी से वृद्धि होने की स्थिति में, तुरंत एनसीडीसी के परामर्श से जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए नमूने भेजें. केन्द्रीय स्वास्थ्य सचिव ने उत्तराखंड सरकार से स्वास्थ्य मंत्रालय की इन सिफारिशों के अनुरूप राज्य द्वारा किए जा रहे सार्वजनिक स्वास्थ्य संबंधी उपायों का जायजा लेने का आग्रह किया है.

 

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 21 Mar 2021, 03:35:26 PM

For all the Latest Religion News, Kumbh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.