logo-image
लोकसभा चुनाव

Vastu Tips For Office Desk: ऑफिस डेस्क पर शीशा रखना शुभ या अशुभ, जानें यहां 

Vastu Tips For Office Desk: इन टिप्स को अपनाकर आप अपने ऑफिस डेस्क को सकारात्मक ऊर्जा से भर सकते हैं और अपनी कार्यक्षमता और सफलता को बढ़ा सकते हैं.

Updated on: 20 Apr 2024, 06:00 AM

नई दिल्ली :

Vastu Tips For Office Desk: ऑफिस डेस्क पर शीशा रखने के बारे में वास्तु शास्त्र में विरोधाभासी मत हैं. कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि यह सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ावा देता है, जबकि अन्य का मानना ​​है कि यह नकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित कर सकता है. वास्तु शास्त्र में, ऑफिस डेस्क पर शीशा रखने के लाभ और हानि दोनों हैं. ऑफिस डेस्क पर शीशा रखना लाभकारी हो सकता है या नहीं,  यह कई कारकों पर निर्भर करता है,  जैसे कि शीशे का स्थान, शीशे का आकार,  और व्यक्तिगत विश्वास.

शीशा रखने के फायदे

सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ावा देता है:माना जाता है कि शीशा सकारात्मक ऊर्जा को प्रतिबिंबित करता है और ऑफिस में सकारात्मक वातावरण बनाता है.

मन को शांत करता है: शीशे का शांत और सुखदायक प्रभाव माना जाता है, जो एकाग्रता और उत्पादकता में सुधार कर सकता है.

जगह का विस्तार करता है: शीशा ऑफिस को बड़ा और अधिक खुला दिखाने में मदद कर सकता है.

प्रतिबिंब: शीशा आपको अपनी छवि को देखने का अवसर प्रदान करता है, जो आत्मविश्वास और प्रेरणा बढ़ा सकता है.

शीशा रखने के नुकसान

नकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित करता है: माना जाता है कि शीशा नकारात्मक ऊर्जा को भी प्रतिबिंबित करता है, जो तनाव और चिंता पैदा कर सकता है.

विचलित करता है: शीशा ध्यान भंग कर सकता है और एकाग्रता में बाधा डाल सकता है.

दर्दनाक हो सकता है: यदि शीशा टूट जाता है, तो यह दर्दनाक हो सकता है.

वास्तु दोष पैदा कर सकता है: यदि शीशा गलत जगह पर रखा जाता है, तो यह वास्तु दोष पैदा कर सकता है.

शीशा रखने की सही दिशा

उत्तर: यह दिशा बुद्धि और ज्ञान का प्रतिनिधित्व करती है.
पूर्व: यह दिशा नई शुरुआत और सफलता का प्रतिनिधित्व करती है.
ईशान कोण: यह दिशा समृद्धि और सौभाग्य का प्रतिनिधित्व करती है.

ऑफिस डेस्क पर शीशा रखना या न रखना आपके व्यक्तिगत विश्वास और आपकी कार्यशैली पर निर्भर करता है. यदि आप शीशा रखने का निर्णय लेते हैं, तो इसे सही जगह पर रखना और इसका आकार और आकार सावधानी से चुनना महत्वपूर्ण है. अपनी डेस्क के सामने शीशा न रखें. शीशा को साफ और धूल रहित रखें. शीशे के सामने कोई नकारात्मक वस्तु न रखें. अगर आप शीशे में अपनी परछाई देखने से असहज महसूस करते हैं, तो आप उसे ढक सकते हैं. सच्ची सफलता कड़ी मेहनत और समर्पण से ही प्राप्त होती है. कोई भी वास्तु उपाय इसका विकल्प नहीं हो सकता है.

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

ये भी पढ़ें: Budh Uday 2024: जल्द ही बुध की बदलने वाली है चाल, इन राशियों का खुलेगा नसीब, जानें अपनी राशि का हाल