logo-image
लोकसभा चुनाव

Vastu Tips: घर की सजावट के लिए कांच का कर रहे इस्तेमाल? तो बिल्कुल न करें ये गलतियां

Vastu Tips: अगर आप भी अपने घर को और भी ज्यादा खूबसूरत दिखाने के लिए कांच के सामान का इस्तेमाल कर रहे हैं तो वास्तु के कुछ नियमों का ध्यान जरूर रखें.

Updated on: 16 Jun 2024, 01:45 PM

नई दिल्ली :

Vastu Tips:  घर को सजाना सभी को पसंद होता है और कांच के सामान इस काम में अहम भूमिका निभाते हैं. ये देखने में भी बेहद ही क्लासी लगते हैं. मार्केट में भी आजकल कांच या ग्लास से बने कई तरह के शोपीस की वस्तुएं आपको आसानी से मिल जाएंगे. घर को खूबसूरत और आधुनिक लुक देती हैं, लेकिन वास्तु शास्त्र के अनुसार इनका इस्तेमाल भी कुछ नियमों के तहत करना चाहिए. ऐसे में आइए इस लेख के जरिए जानते हैं कांच के सामानों को घर में सजाने के कुछ वास्तु टिप्स जो आपके जीवन में खुशियां ला सकते हैं. तो चलिए जानते हैं कुछ छोटे-छोटे वास्तु टिप्स के बारे में. 

दिशा का रखें खास ध्यान

वास्तु शास्त्र की मानें तो घर में ऐसी कई जगहें व दिशाएं होती हैं, जहां पर आपको कांच का सामान नहीं रखना चाहिए. कांच के सामान रखने के लिए सबसे शुभ दिशाएं पूर्व और उत्तर मानी जाती हैं. वास्तु के अनुसार, दक्षिण-पूर्व दिशा कांच का सामान रखना शुभ नहीं माना जाता है खासकर इन दिशाओं के मध्य भाग में. दक्षिण-पूर्व दिशा भी कांच के सामान के लिए कम अनुकूल मानी जाती है. 

सही रंगों का करें चयन

कांच के सामानों में सफेद, नीला और हरा रंग शुभ माना जाता है. लाल रंग का कांच नकारात्मक ऊर्जा को आकर्षित कर सकता है, इसलिए इसका इस्तेमाल कम मात्रा में करें. 

इन बातों का रखें खास ध्यान 

वास्तु में आइने का विशेष महत्व है. घर के मुख्य द्वार के सामने आइना न रखें. क्रिस्टल बॉल और शोपीस सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाते हैं. कांच का झूमर घर में सुख-समृद्धि लाता है. टटूटे हुए कांच के सामान को तुरंत हटा दें. कांच के सामानों को हमेशा साफ रखें. कांच के सामानों का इस्तेमाल सजावट के लिए करें, उन्हें जमा न करें. इन टिप्स का पालन करके आप अपने घर को कांच के सामानों से खूबसूरती से सजा सकते हैं और साथ ही वास्तु शास्त्र के लाभ भी प्राप्त कर सकते हैं. 

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया  गया है.)