logo-image
लोकसभा चुनाव

Ganga Dussehra 2024 Date: 16 या 17, जून में गंगा दशहरा कब है? जानें शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व

Ganga Dussehra 2024 Date: आइए जानते हैं इस बार कब मनाया जाएगा गंगा दशहरा. साथ ही जानिए पूजा के लिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व के बारे में.

Updated on: 24 May 2024, 03:52 PM

नई दिल्ली :

Ganga Dussehra 2024 Date: गंगा दशहरा हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार है जिसका हिंदू धर्म में बड़ा धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व है. गंगा दशहरा ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है. इस बार यह त्योहार 16 जून 2024 को पूरे देश में धूमधाम के साथ मनाया जाएगा. इस दिन मां गंगा की विधिपूर्वक की जाती है.  देवी गंगा साक्षात् देवी हैं जो जल के रूप में पृथ्वी पर विराजमान हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, गंगा दशहरा के दिन देवी गंगा की पूजा करने से समस्त पापों से मुक्ति मिल जाती है. ऐसे में आइए जानते हैं इस बार कब मनाया जाएगा गंगा दशहरा. साथ ही जानिए पूजा के लिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व के बारे में. 

गंगा दशहरा 2024 शुभ मुहूर्त (Ganga Dussehra 2024 Shubh Muhurat)

ज्येष्ठ माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि की शुरुआत 16 जून को देर रात 2 बजकर 32 मिनट से और इस तिथि का समापन 17 जून को सुबह 4 बजकर 43 मिनट पर. ऐसे में हिंदू पंचांग के अनुसार, इस बार गंगा दशहरा का पर्व 16 जून को मनाया जाएगा. 

गंगा दशहरा 2024 पूजा विधि (Ganga Dussehra 2024 Puja Vidhi)

गंगा दशहरा के दिन सुबह जल्दी उठकर पवित्र गंगा नदी में स्नान करें. स्नान करने के बाद सूर्यदेव को अर्घ्य दें. उसके बाद मां गंगा को फूल,  मिठाई आदि अर्पित करें. इस दिन भक्त मां गंगा को कपड़े भी चढ़ाते हैं. गंगा दशहरा के मौके पर भक्त शाम के समय गंगा घाट जाते हैं और वहां दीया जलाकर पूजा-अर्चना करते हैं. इस दिन सभी गंगा घाटों को दीयों से सजाया जाता है. इसके साथ ही देवी के सम्मान में आरती भी की जाती है. 

गंगा दशहरा 2024 महत्व (Ganga Dussehra Importance)

हिंदू धर्म में गंगा दशहरा का धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व है. गंगा दशहरा देवी गंगा की जयंती के रूप में मनाया जाता है. ऐसा कहा जाता है कि इसी दिन मां गंगा धरती पर प्रकट हुई थीं. देवी गंगा, पवित्र नदी के रूप में आज भी धरती पर विराजमान हैं. गंगा दशहरा के दिन भक्त देवी गंगा की विधिपूर्वक पूजा करते हैं और इस खास अवसर पर पवित्र नदी में डुबकी लगाते हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन पवित्र नदी में डुबकी लगाने से जातकों के सभी कष्ट-पाप दूर हो जाते हैं और उन्हें  सभी प्रकार की नकारात्मकता से मुक्ति मिलती है. 

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

यह भी पढ़ें:

Ganga Dussehra: आने वाला है गंगा दशहरा, पितरों को प्रसन्न करने के लिए जरूर करें ये उपाय