News Nation Logo

केरल में सबरीमाला मंदिर 17 से 21 जुलाई तक खुलेगा, दर्शन के लिए ये लाना होगा

कोरोना महामारी (Corona Virus) की वजह से कई महीनों से बंद केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला (अयप्पा) मंदिर (Sabarimala temple ) को मासिक पूजा के लिए एक बार फिर से खोलने का फैसला लिया गया है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 10 Jul 2021, 08:06:24 PM
Sabarimala temple

केरल में सबरीमाला मंदिर 17 से 21 जुलाई तक खुलेगा (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

कोरोना महामारी (Corona Virus) की वजह से कई महीनों से बंद केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला (अयप्पा) मंदिर (Sabarimala temple ) को मासिक पूजा के लिए एक बार फिर से खोलने का फैसला लिया गया है. इसे लेकर सबरीमाला प्रशासन ने कहा कि सबरीमाला मंदिर को 5 दिवसीय मासिक पूजा के लिए 17 से लेकर 21 जुलाई तक के लिए खोला जाएगा. इस दौरान सिर्फ 5 हजार भक्तों को ही प्रवेश की मंजूरी दी जाएगी. भक्तों को सबरीमाला मंदिर में दर्शन करने के लिए ऑनलाइन बुकिंग के माध्यम से पास मिलेगा.

यह भी पढ़ें :  COVID की दूसरी लहर अभी खत्म नहीं हुई: गृह सचिव अजय भल्ला

भक्तों के दर्शन को लेकर सबरीमाला मंदिर के प्रशासन ने गाइडलाइन जारी करते हुए कहा कि पूजा-पाठ के दौरान कोरोना वायरस के नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा. इसके तहत सभी भक्तों को 48 घंटे भीतर की कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट दिखानी होगी. 

आपको बता दें कि केरल के प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर में कोविड-19 महामारी के बीच वार्षिक तीर्थयात्रा के लिए अदालत द्वारा नियुक्त अधिकारी ने कतार लगने से रोकने, बच्चों और बुजुर्गों की यात्रा पर रोक लगाने के साथ-साथ श्रद्धालुओं के लिए कोविड निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य करने की सिफारिश की थी. केरल उच्च न्यायालय में दाखिल अपनी रिपोर्ट में सबरीमाला विशेष आयुक्त एम मनोज ने कहा था कि तीर्थ सत्र के दौरान भीड़ प्रबंधन को लेकर खतरा है जब दो महीने की अवधि में लाखों लोग पहाड़ी पर स्थित तीर्थ स्थल पहुंचेंगे.

यह भी पढ़ें : यूपी सरकार जारी करेगी नई जनसंख्या नीति, आबादी नियंत्रण बिल पर सरकार ने मांगे सुझाव

रिपोर्ट में उन्होंने कहा कि इस खतरे से बचने के लिए अधिकारियों को दुकानों, होटलों, पेयजल आपूर्ति, शौचालय और कर्मचारियों के निवास में स्वच्छता सुनिश्चित करनी चाहिए. हाल में दाखिल रिपोर्ट में ...कोविड-19 जांच रिपोर्ट में संक्रमणमुक्त होने के प्रमाण पत्र को अनिवार्य करने का सुझाव दिया गया है. गौरतलब है कि केरल सरकार ने 28 सितंबर को घोषणा की थी कि वह भगवान अयप्पा के मंदिर के लिए वार्षिक तीर्थयात्रा का आयोजन कराने के लिए कदम उठा रही है और कोविड-19 नियमों को कड़ाई से लागू किया जाएगा. 

First Published : 10 Jul 2021, 07:46:22 PM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो