logo-image
लोकसभा चुनाव

बुद्ध पूर्णिमा के मौके पर लाखों श्रद्धालुओं ने मां गंगा में लगाई डुबकी, सामने आईं तस्वीरें

बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर श्रद्धालुओं ने मां गंगा में डुबकी लगाई. सुबह-सुबह बनारस और हरिद्वार से तस्वीरें सामने आई हैं.

Updated on: 23 May 2024, 08:21 AM

नई दिल्ली:

बुद्ध पूर्णिमा के मौके पर यूपी के बनारस, प्रयागराज और उत्तराखंड के हरिद्वार में लाखों श्रद्धालुओं ने मां गंगा में डुबकी लगाई. इस दौरान गंगा घाट के किनारे भारी यूके पुलिस बल की तैनाती भी देखी गयी. बुद्ध पूर्णिमा को लेकर राज्य पुलिस ने पहले से ही तैयारी कर ली थी. जिसके चलते श्रद्धालुओं ने बिना किसी रुकावट के मां गंगा के जल में आराम से डुबकी लगाकर अपने मन और शरीर के पापों को धोया. ऐसा ही नजारा बनारस के सभी घाटों पर देखने को मिला, यूपी पुलिस की कड़ी निगरानी के बीच देशभर से आए श्रद्धालुओं ने स्नान के बाद बड़े आराम से घाटों पर पूजा-अर्चना की.

क्यों किया जाता है गंगा स्नान?

बता दें कि हिंदू धर्म में बुद्ध पूर्णिमा का दिन बहुत खास होता है. ऐसे में हर बुद्ध पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान करना महत्वपूर्ण माना जाता है. कहा जाता है कि इस दिन गंगा में डुबकी लगाने से पाप धुल जाते हैं और मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है. इसके अलावा यह भी माना जाता है कि इस दिन स्नान करने से व्यक्ति का मन और शरीर दोनों शुद्ध और पवित्र हो जाते हैं. इसके अलावा यदि गंगा स्नान के बाद पितरों को तर्पण दिया जाए तो उनकी आत्मा को भी शांति मिलती है. इतना ही नहीं अगर आप इस दिन स्नान करने के बाद दान करते हैं तो आपको पुण्य मिलता है. 

ये भी पढ़ें- बुद्ध पूर्णिमा पर इन चीजों का करें दान, नाराज पितृ खुश हो जाएंगे, मिलेगा शुभ फल!

आखिर क्यों है अहम ये दिन?

बुद्ध पूर्णिमा के दिन सूर्योदय के समय गंगा स्नान करना बहुत शुभ होता है. अगर आप गंगा स्नान करने में सक्षम नहीं हैं तो आप अपने घर पर ही सामान्य पानी में गंगाजल मिलाकर स्नान कर सकते हैं. आपको बता दें कि इस दिन भगवान गौतम बुद्ध की पूजा की जाती है और हिंदू धर्म में गौतम बुद्ध को भगवान विष्णु का 9वां अवतार माना जाता है. 

Religion की ऐसी और खबरें पढ़ने के लिए आप न्यूज़ नेशन के धर्म-कर्म सेक्शन के साथ ऐसे ही जुड़े रहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं. न्यूज नेशन इस बारे में किसी तरह की कोई पुष्टि नहीं करता है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)