News Nation Logo
शोपियां के द्रगाड इलाके में मुठभेड़ के दौरान दो अज्ञात आतंकवादी मारे गए। सर्च ऑपरेशन जारी बर्बाद फ़सलों का आकलन हो रहा है, डेढ़ महीने में किसानों को मुआवज़ा मिलने की उम्मीद है: सीएम, दिल्ली आर्यन खान पर फैसला आज दोपहर 2.45 पर आएगा बारिश से जिन किसानों की फसलें बर्बाद हुईं, उन्हें 50,000 रु./हे. मुआवज़ा दिया जाए: अरविंद केजरीवाल उत्तर प्रदेश: पीएम नरेंद्र मोदी ने कुशीनगर में श्रीलंका के मंत्री नमल राजपक्षे से मुलाकात की यूपी में कुशीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के उद्घाटन समारोह में आज 12 देशों के राजनयिक शामिल हुए मौसम खुल चुका है और चारधाम यात्रा शुरू हो चुकी है: उत्तराखंड के DGP अशोक कुमार दुनिया में जहां-जहां भी बुद्ध के विचारों को आत्मसात किया गया, वहां प्रगति के रास्ते बने: पीएम मोदी उड़ान योजना के तहत बीते कुछ सालों में 900 से अधिक नए रूट्स को स्वीकृति दी जा चुकी है: पीएम मोदी कुशीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा उनकी श्रद्धा को अर्पित पुष्पांजलि है: पीएम मोदी भारत विश्व भर के बौद्ध समाज की श्रद्धा, आस्था और प्रेरणा का केंद्र है: कुशीनगर में पीएम मोदी 50 से अधिक नए या ऐसे एयरपोर्ट जो पहले सेवा में नहीं थे, उन्हें चालू किया जा चुका है: पीएम मोदी CBI-CVS कांफ्रेंस में बोले पीएम मोदी-भ्रष्टाचार सिस्टम का हिस्सा नहीं हो सकता है लखीमपुर हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज होगी अहम सुनवाई. पंजाब में कांग्रेस का बढ़ा दलित प्रेम. राहुल गांधी आज दिखाएंगे शोभा यात्रा को हरी झंडी आज शाम उत्तराखंड जाएंगे गृहमंत्री अमित शाह, बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का लेंगे जायजा क्रूज ड्रग्स केस में आर्यन खान को आज मिलेगी बेल या रहेंगे जेल में ही

पितृपक्ष आज से शुरू, पितरों का किया जाएगा तर्पण, ऐसे करें श्राद्ध

पूर्वजों के प्रति समर्पण, कृतज्ञता व श्रद्धा व्यक्त करने का काम किया जाएगा. पूर्वजों के निमित्त पिंडदान, तर्पण, पूजन व दान करने का सिलसिला छह अक्टूबर तक चलेगा.

News Nation Bureau | Edited By : Nitu Pandey | Updated on: 20 Sep 2021, 07:12:35 AM
demo

पितृपक्ष आज से शुरू, पितरों का किया जाएगा तर्पण, ऐसे करें श्राद्ध (Photo Credit: सांकेतिक तस्वीर )

highlights

  • आज से पितृपक्ष हो गया शुरू
  • 6 अक्टूबर तक पूर्वजों को किया जाएगा याद
  • मांगलिक कार्य पितृपक्ष में नहीं करना चाहिए 

नई दिल्ली :

Pitru Paksha Shradh 2021 : आज यानी 20 सितंबर से पितृपक्ष शुरू हो रहा है. छह अक्टूबर तक पूर्वजों को याद कर तर्पण किया जाएगा. इस दौरान धार्मिक और मांगलिक कार्य नहीं होंगे. पूर्वजों के प्रति समर्पण, कृतज्ञता व श्रद्धा व्यक्त करने का काम किया जाएगा. पूर्वजों के निमित्त पिंडदान, तर्पण, पूजन व दान करने का सिलसिला छह अक्टूबर तक चलेगा. पितृपक्ष में दिवंगत आत्माओं की शांति के लिए पूजा करते हैं. पितरों के तर्पण से पितृ प्रसन्न होते हैं.  ज्योतिषाचार्य के मुताबिक जिस तिथि को व्यक्ति का निधन होता है उसी तिथि को उसका श्राद्ध करने की परंपरा है. श्राद्ध करने से पितृ दोष शांत होता है. पूर्वजों की कृपा मनुष्य पर हमेशा बनी रहती है.इस बार षष्ठी तिथि के श्राद्ध का संयोग दो दिन बन रहा है. 

षष्ठी तिथि का श्राद्ध 26 व 27 सितंबर को किया जा सकेगा

ज्योतिषाचार्य के मुताबिक पूर्णिमा तिथि 20 सितंबर की सुबह 5.01 बजे लग जाएगी. ऐसी स्थिति में पूर्णिमा तिथि का श्राद्ध सोमवार को होगा. वहीं, षष्ठी तिथि 26 सितंबर की सुबह 10.59 बजे से लगकर 27 सितंबर की दोपहर 1.03 बजे तक रहेगी. इस तिथि का श्राद्य़ का संयोग दो दिन रहेगा. श्राद्ध करने का उपयुक्त समय सुबह 10 से दोपहर दो बजे तक रहता है. इसी कारण षष्ठी तिथि का श्राद्ध 26 व 27 सितंबर को किया जा सकेगा.

इसे भी पढ़ें: फिर आने का वादा कर बप्पा लेंगे विदा, जानें गणेश विसर्जन के नियम

मांगलिक कार्य नहीं करना चाहिए 

पितृ पक्ष के दौरान मांगलिक कार्य नहीं करना चाहिए. किसी नई वस्तु की खरीदारी व गृह प्रवेश समेत अन्य मांगलिक कार्य धार्मिक अनुष्ठान करना शुभ नहीं होता है. पितृ पक्ष पूर्जवों की पुण्य स्मृति का पर्व होता है.

 पितृपक्ष संपन्न होने के बाद नवरात्र पर्व शुरू हो जाएगा. बाजार में रौनक लौट आएगी. फिर से मांगलिक काम किया जा सकता है. 

First Published : 20 Sep 2021, 07:02:39 AM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.