News Nation Logo

Sawan Mangla Gauri Vrat 2022 Katha and Importance: मंगला गौरी व्रत का जानें महत्व और पढ़ें ये कथा, पति की आयु होगी दीर्घ और वैवाहिक जीवन सुख से बीतेगा

News Nation Bureau | Edited By : Megha Jain | Updated on: 19 Jul 2022, 09:30:09 AM
sawan mangla gauri vrat 2022 importance and katha

sawan mangla gauri vrat 2022 importance and katha (Photo Credit: social media)

नई दिल्ली:  

सावन के महीने (sawan 2022) में भोलेनाथ के साथ-साथ मां पार्वती की पूजा का भी विधान होता है. सावन के महीने में भगवान शिव के साथ माता गौरी की पूजा आराधना भी की जाती है. इस महीने पड़ने वाले मंगलवार को मंगला गौरी व्रत (Mangla Gauri Vrat 2022) रखा जाता है. माता मंगला गौरी आदिशक्ति माता पार्वती का ही मंगल रूप है. इन्हें माता दुर्गा के आठवें स्वरूप महागौरी के नाम से जानते हैं. संतान की उन्नति और कष्टों से छुटकारा पाने के लिए भी ये उपवास किया जाता है. इस बार ये व्रत 19 जुलाई को रखा जा रहा है. तो, चलिए इस दिन के व्रत रखने के महत्व और कथा के बारे में जानते हैं.

यह भी पढ़े : Sawan Mangla Gauri Vrat 2022 Shubh Muhurat and Puja Vidhi: सावन के पहले मंगला गौरी व्रत में अपनाएं ये पूजा विधि, अखंड सौभाग्यवती वरदान की होगी प्राप्ति

मंगला गौरी व्रत 2022 महत्व -

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार मान्यता है कि मंगला गौरी व्रत रखने तथा इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की विधि-विधान से पूजा करने वाले व्यक्ति की हर मनोकामना पूर्ण होती है. वहीं सुहागिन महिलाएं इस व्रत को अपने पति की दीर्घायु और सुखी वैवाहिक जीवन के लिए (Mangla Gauri Vrat 2022 importance) रखती हैं. 

यह भी पढ़े : Puja Path Falling Things Inauspicious: पूजा-पाठ की ये चीजें हाथ से नहीं जानी चाहिए छूट, वरना परिवार में पड़ने लगती है फूट

मंगला गौरी व्रत 2022 कथा

पौराणिक कथा के अनुसार, एक शहर में धरमपाल नाम का एक व्यापारी रहता था. उसकी पत्नी बहुत खूबसूरत थी और उसके पास धन संपत्ति की भी कोई कमी नहीं थी लेकिन, संतान न होने की वजह से वे दोनों बहुत ही दु:खी रहा करते थे. कुछ समय के बाद ईश्वर की कृपा से उनको एक पुत्र की प्राप्ति हुई परंतु वह अल्पायु था. उसे श्राप मिला था कि 16 वर्ष की आयु में सर्प के काटने से उसकी मृत्यु हो जाएगी. संयोग से उसकी शादी 16 वर्ष की आयु पूर्ण होने से पहले ही हो गई. जिस कन्या से उसका विवाह हुआ था उस कन्या की माता मंगला गौरी व्रत किया करती थी. 

यह भी पढ़े : Never Apply Sindoor After Bath: नहाने के बाद सिंदूर लगाना ला सकता है पति की जान पर आफत, एक लापरवाही बिगाड़ देगी आपका सुखी संसार

मां गौरी के इस व्रत की महिमा के प्रभाव से  चलते उस महिला की कन्या को आशीर्वाद प्राप्त था कि वह कभी विधवा नहीं हो सकती. कहा जाता है कि अपनी माता के इसी व्रत के प्रताप से धरमपाल की बहु को अखंड सौभाग्य की प्राप्ति हुई और उसके पति को 100 वर्ष की लंबी आयु प्राप्त हुई. तभी से ही मंगला गौरी व्रत की शुरुआत मानी गई है. धार्मिक मान्यता ये है कि ये व्रत करने से महिलाओं को अखंड सौभाग्य की प्राप्ति तो होती ही है लेकिन, साथ ही दांपत्य जीवन में सदैव ही प्रेम भी (Mangla Gauri Vrat 2022 katha) बना रहता है.  

First Published : 19 Jul 2022, 09:30:09 AM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.