News Nation Logo
Banner

Karwa Chauth 2022 Udyapan Samagri aur vidhi: इस तरह से करें करवा चौथ का उद्यापन, बिना किसी रुकावट सफल रहेगा आपका व्रत

News Nation Bureau | Edited By : Gaveshna Sharma | Updated on: 09 Oct 2022, 04:46:29 PM
Karwa Chauth 2022 Udyapan Samagri aur vidhi

इस तरह से करें करवा चौथ का उद्यापन, बिना रुकावट सफल होगा आपका व्रत (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली :  

Karwa Chauth 2022 Udyapan Samagri aur vidhi: हिंदू धर्म में करवा चौथ साल की सबसे बड़ी चतुर्थी और महत्वपूर्ण तिथि मानी जाती है. इस साल करवा चौथ 13 अक्टूबर 2022, दिन गुरुवार को पड़ रहा है. सुहागिन महिलाओं के लिए करवा चौथ व्रत का विशेष महत्व होता है. इस दिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र और सुखी जीवन की कामना के साथ निर्जला व्रत रखती हैं. दिन भर व्रत रहने के बाद रात में चौथ का चांद देखने के बाद छलनी में पति का चेहरा देखकर ही महिलाएं व्रत का पारण करती हैं. इस साल का करवा चौथ का त्योहार बेहद शुभ संयोग में मनाया जाने वाला है. इस दिन चंद्रमा अपनी उच्च राशि वृषभ में रहेंगे. ऐसे में चलिए जानते हैं करवा चौथ की उद्यापन सामग्री और विधि के बारे में. 

यह भी पढ़ें: Karwa Chauth 2022 Sargi Sevan Muhurt aur Mahatva: सरगी के बिना अपूर्ण है करवा चौथ का पर्व, जानें इसका महत्व और सरगी में क्या खाएं?

करवा चौथ 2022 उद्यापन सामग्री 
- नारियल, रोली, अक्षत, थाली, सिक्का, सुपारी
-सुहाग का सामान: कुमकुम, सिंदूर, मेहंदी, बिछिया, वस्त्र, महावर, चूड़ी, हल्दी, बिंदी, कंधा, काजल, शीशा आदि

करवा चौथ 2022 उद्यापन विधि 
- करवा चौथ पर उद्यापन करने के लिए 13 सुहागिनों को सुपारी देकर भोजन के लिए आमंत्रित करें. 13 स्त्रियां वहीं हों जो करवा चौथ का व्रत करती हैं.
- करवा चौथ वाले दिन प्रात: काल स्नान कर साफ या नई साड़ी पहनें. सरगी का सेवन कर व्रत का संकल्प लें और दिनभर निर्जला व्रत रखें.
- करवा चौथ के उद्यापन में हलवा और पूड़ी का भोजन जरूर बनाया जाता है. इसके अलावा सामर्थ्यअनुसार पकवान बना सकते हैं. ध्यान रहे इसमें लहसून-प्याज न हो
- संध्या काल में शुभ मुहूर्त में व्रती और सभी 13 सुहागिन महिलाएं एक साथ पूजा करें. कथा सुनें. चंद्रमा को अर्घ्य दें और पानी पीकर व्रत का पारण करें.
- अब एक थाली में 4-4 पूड़ी पर हलवा रखकर 13 जगह रखें. थाली पर रोली से टीका कर अक्षत लगाएं. थाली को गणेश जी को चढ़ाएं
- 13 महिलाओं को भोजन से पहले इस हलवा पूड़ी का प्रसाद खिलाएं. अब सबसे पहले भोजन की थाली सास परोसें. इसके साथ उन्हें सुहाग का सामान भेंट करें. 
- अगर सास सुहागिन नहीं है तो घर की दूसरी वृद्धि महिला को ये थाली और सामान भेंट कर उनका आशीर्वाद लें.
- आमंत्रित सभी 13 महिलाओं को भोजन कराएं और उन्हें टीका कर एक थाली या प्लेट में सुहाग की सामग्री, कुछ रुपये रखकर भेंट करें.
- देवर या जेठ के एक लड़के को साक्षी बनाकर उसे भी भोजन करवाएं और उसे नारियल और रुपये भेंट दें.

First Published : 09 Oct 2022, 04:46:29 PM

For all the Latest Religion News, Dharm News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.