logo-image
लोकसभा चुनाव

Friday Lakshami Mantra 2023: शुक्रवार के दिन इन मंत्रों का जाप बनाएगा आपको धनवान

आज शुक्रवार है और ये दिन मां लक्ष्मी को समर्पित है. इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा करने का विशेष विधि-विधान है.

Updated on: 12 May 2023, 07:00 AM

नई दिल्ली :

Friday Lakshami Mantra 2023: आज शुक्रवार है और ये दिन मां लक्ष्मी को समर्पित है. इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा करने का विशेष विधि-विधान है. धार्मिक ग्रंथों के अनुसार, ऐसा कहा जाता है कि इस दिन जो व्यक्ति व्रत रखता है और उनकी उपासना करता है. उसके सभी काम पूरे हो जाते हैं और धन वृद्धि भी होती है. वहीं इस दिन कुछ उपायों के बारे में बताया गया है, जिन उपायों को  करने से मां लक्ष्मी अपने भक्तों की सारी मनोकामना पूरी कर देती हैं. वहीं अगर आपकी कुंडली में शुक्र दोष है, तो उससे भी जल्द मुक्ति मिल जाएगी. तो आइए आज हम आपको अपने इस लेख में शुक्रवार के दिन किए गए कुछ कारगर उपायों के बारे में बताएंगे, जिससे आपकी सभी परेशानियां दूर हो जाएंगी और मां लक्ष्मी की कृपा भी हमेशा बनी रहेगी. 

ये भी पढ़ें - Sarvartha Siddhi Yoga: जानें मई में कब-कब है सर्वार्थ सिद्धि योग, होगी शुभ की प्राप्ति

शुक्रवार के दिन करें इन मंत्रों का जाप 

1. मां लक्ष्मी का बीज मंत्र
ऊँ श्रींह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं ऊँ महालक्ष्मी नम:।।
ये मां लक्ष्मी का बीज मंत्र है. अगर आप मां लक्ष्मी का आशीर्वाद पाना चाहते हैं, तो इस बीज मंत्र का जाप कमल गट्टे की माला से अवश्य करें.

2. श्री लक्ष्मी महामंत्र का करें जाप 
ऊँ श्रीं ल्कीं महालक्ष्मी महालक्ष्मी एह्येहि सर्व सौभाग्यं देहि मे स्वाहा।।
ये मां लक्ष्मी के महामंत्र है. इस मंत्र का जाप करने से धन, ऐश्वर्य और सौभाग्य की प्राप्ति होती है. इस मंत्र का जाप शुक्रवार के दिन 108 बार करें. साथही जाप के दौरान तिल के तेल का दीया जाना शुभ फलदायी होता है. 

3. धन संबंधित समस्याएं दूर करने के लिए करें इस मंत्र का जाप 
ऊँ ह्रीं श्री क्रीं क्लीं श्री लक्ष्मी मम गृहे धन पूरये, धन पूरये, चिंताएं दूरये-दूरये स्वाहा:।।
अगर आप आर्थिक समस्या से परेशान हैं, तो इस मंत्र का जाप अवश्य करें. 

ये भी पढ़ें - Mrityu Panchak 2023: इस दिन बन रहा है 'मृत्यु पंचक योग', गलती से भी न करें ये काम

4. सुख-समृद्धि के लिए करें इस मंत्र का जाप 
या रक्ताम्बुजवासिनी विलासिनी चण्डांशु तेजस्विनी।
या रक्ता रुधिराम्बरा हरिसखी या श्री मनोल्हादिनी॥
या रत्नाकरमन्थनात्प्रगटिता विष्णोस्वया गेहिनी।
सा मां पातु मनोरमा भगवती लक्ष्मीश्च पद्मावती ॥