News Nation Logo
Banner

बेहिसाब चोरी हो रहे Maruti Eeco के साइलेंसर, वजह जान हैरान रह जाएंगे आप

चोर मारुति ईको को ढूंढ-ढूंढकर साइलेंसर चोरी कर रहे हैं. चोरों का ये काम बेशक आपको हैरान कर सकता है, लेकिन इसके पीछे की वजह जानकर आप दंग रह जाएंगे.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Chaurasia | Updated on: 08 Jan 2021, 01:03:27 PM
eeco

सांकेतिक तस्वीर (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

गुजरात के अहमदाबाद में चोरों ने कार डीलर्स के साथ-साथ पुलिस प्रशासन की नींद भी हराम कर रखी है. जी हां, अहमदाबाद में चोरों ने मारुति सुजुकी की वैन ईको को निशाना बना रखा है. यहां चोर ईको के साइलेंसरों पर हाथ साफ कर रहे हैं. चोरों का ये काम बेशक आपको हैरान कर सकता है, लेकिन इसके पीछे की वजह जानकर आप दंग रह जाएंगे.

खबरों के मुताबिक बीते एक हफ्ते में चोरों ने ईको के इतने साइलेंसर उड़ा दिए, जिनकी कीमत करीब 21 लाख रुपये बताई जा रही है. चलिए अब आपको बताते हैं कि आखिर ईको के साइलेंसर में ऐसी क्या खूबी है जो चोर इसकी ओर खिंचे चले आ रहे हैं. बताया जा रहा है कि ईको के साइलेंसर की कीमत करीब 57 हजार रुपये है.

ये भी पढ़ें- दो लड़कियों के प्यार में पागल हुआ चंदू, सवाल उठे तो दोनों से कर ली शादी

इस साइलेंसर में कैटेलिटिक कन्वर्टर मौजूद होता है. कैटेलिटिक कन्वर्टर, प्लेटिनम ग्रुप ऑफ मेटल्स (PGM) से बनता है. बता दें कि प्लेटिनम, पैलेडियम और रोडियम को संयुक्त तौर पर प्लेटिनम ग्रुप ऑफ मेटल्स यानि PGM कहते हैं. कहा जाता है कि पीजीएम की कीमत सोने से भी ज्यादा होती है. यही वजह है कि चोर ईको के साइलेंसर की ओर काफी तेजी से आकर्षित हो रहे हैं.

साइलेंसर से निकलने वाले इन धातुओं की डस्ट को हैवी इंडस्ट्री में बेचा जाता है, जहां प्रति 10 ग्राम डस्ट के 3 से 6 हजार रुपये तक मिलते हैं. खबरों के मुताबिक अहमदाबाद में स्थित सानाथल और बकरोल के स्टॉकयार्ड से ईको के साइलेंसर चोरी किए जा रहे हैं. इन दोनों स्टॉकयार्ड के मालिकों ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है कि चोरों ने यहां से बीते एक हफ्ते में 33 ईको में से साइलेंसर चोरी किए हैं.

First Published : 08 Jan 2021, 01:03:27 PM

For all the Latest Offbeat News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.