News Nation Logo
Banner

QR Code के माध्यम से भी अब दान लेंगे तमिलनाडु के मंदिर

मई 2021 में डीएमके सरकार के सत्ता संभालने के बाद से मानव संसाधन और सीई विभाग इसके तहत सभी मंदिरों में विकास की शुरूआत कर रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 25 Mar 2022, 08:21:27 AM
Temples

वस्त्रम, प्रसाद जैसी सुविधाओं के लिए ऑनलाइन सुविधा. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • एचआर एंड सीई के सभी 536 मंदिरों में लागू हुई व्यवस्था
  • अब वस्त्रम, अर्चना, अभिषेकम के लिए ऑनलाइन सुविधा

चेन्नई:  

तमिलनाडु के मंदिर विभिन्न सेवाओं जैसे 'अर्चना', विशेष प्रवेश, 'अभिषेकम' और देवता को 'वस्त्रम' चढ़ाने सहित क्यूआर कोड के माध्यम से दान स्वीकार करेंगे. यह सुविधा तमिलनाडु सरकार के हिंदू धार्मिक और धर्मार्थ बंदोबस्ती (एचआर एंड सीई) विभाग के अंतर्गत आने वाले 536 मंदिरों में उपलब्ध कराई जाएगी. विभाग ने मंदिरों में क्यूआर कोड और स्कैनर उपलब्ध कराने के लिए ट्रायल शुरू कर दिया है. एचआर एंड सीई विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बात करते हुए कहा, 'कई भक्त ई-भुगतान के साथ सहज हैं और हमें ई-भुगतान करने के लिए दुनिया भर के भक्तों से अनुरोध मिलता है. हम भक्तों को कम्प्यूटरीकृत बिल प्रदान करेंगे.'

NIC ने सॉफ्टवेयर किया है तैयार
अधिकारी ने कहा कि राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) ने इसके लिए सॉफ्टवेयर विकसित किया है और प्रत्येक मंदिर के लिए इसे तैयार किया गया है. यह ध्यान दिया जा सकता है कि मई 2021 में डीएमके सरकार के सत्ता संभालने के बाद से मानव संसाधन और सीई विभाग इसके तहत सभी मंदिरों में विकास की शुरूआत कर रहा है. कई वर्षों से किराए में चूक करने वाले मंदिर भवनों के अतिक्रमणकारियों और किरायेदारों को बेदखल करने के लिए विभाग ने विशेष रुचि ली है. विभाग ने मंदिर की चोरी हुई मूर्तियों और अन्य कीमती सामानों को वापस लाने के लिए भी कदम उठाए हैं. एचआर एंड सीई विभाग ने तमिलनाडु पुलिस के मूर्ति दस्ते के साथ मिलकर मंदिरों से चुराए गए कीमती सामानों की एक रजिस्ट्री बनाई है और सालों पहले चोरी हुई मूर्तियों और अन्य कीमती सामानों की पहचान करना शुरू कर दिया है.

यह भी पढ़ेंः साउथ एक्टर पवन कल्याण ने नेताजी की अस्थियों को भारत में लाने के लिए उठाई आवाज

प्रसाद के लिए ऑनलाइन भुगतान
मानव संसाधन और सीई मंत्री, पीके सेकर बाबू ने कहा, 'हम एचआर एंड सीई के तहत मंदिरों में आधुनिक तकनीकों का उपयोग करने और इस विकास के हिस्से के रूप में 'अर्चना' और अन्य मंदिर प्रसाद के लिए ऑनलाइन भुगतान की प्रक्रिया में हैं. दुनिया भर से भक्तों से अनुरोध किया गया है कि मंदिरों को प्रसाद के भुगतान के लिए ऑनलाइन सुविधाएं अपनाएं. हमने विभाग के तहत प्रत्येक मंदिर के लिए अनुकूलित सॉफ्टवेयर विकसित करने के लिए एनआईसी को सौंपा है. इसके लिए प्रयास शुरू हो चुका है और हम इसे जल्द ही चरणबद्ध तरीके से एचआर एंड सीई के तहत मंदिरों में लागू करेंगे.'

First Published : 25 Mar 2022, 08:21:27 AM

For all the Latest Offbeat News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.