News Nation Logo

यहां बिना दुकानदार के चलती है दुकान, ग्राहक खुद आकर थैले में रख जाते हैं पैसे

News Nation Bureau | Edited By : Shivani Kotnala | Updated on: 22 Jul 2022, 09:30:18 PM
Collage Maker 22 Jul 2022 09 30 PM

Shops Without Shopkeepers In Mizoram (Photo Credit: Social Media)

highlights

  • ईमानदारी के भरोसे चलती है सेलिंग शहर में दुकान
  • किसानों द्वारा लगाई जाती हैं जरूरी सामान की दुकानें
  • पैसों के लिए दुकान पर किसान रख जाते हैं एक थैला

नई दिल्ली:  

Shops Without Shopkeepers In Mizoram: भारत अद्भुत देश  है. यहां की अनोखी खूबसूरती यहां स्थित ईमारतों में तो है ही यहां रहने वाले भारतीयों के दिल भी खूबसूरत होते हैं. इसकी एक मिसाल बनता है भारत का उत्तरी पूर्वी राज्य मिजोरम. मिजोरम में एक प्रथा के अनुसार दुकानें सजती हैं जहां खाने- पीने के सामान से लेकर सारा जरूरी सामान उपलब्ध रहता है लेकिन हैरानी वाली बात तो ये कि यहां दुकान पर आपको कोई दुकानदार नजर नहीं आएगा. 

ईमानदारी के भरोसे चलती है दुकानदारी 
एजवाल (Aizwal, Mizoram) से कुछ किलोमीटर दूर सेलिंग (Seling) शहर में दुकानदार दुकानों में सारी जरूरी चीजें रखते हैं, ताकि जरूरतमंद अपनी जरूरत के हिसाब से खरीददारी कर सकें. इन दुकानों को आप सेलिंग शहर में  हाइवे पर, सड़क के किनारे लगा हुआ पाएंगे लेकिन इन दुकानों पर कोई दुकानदार नहीं मिलता है. कहा जाता है कि सेलिंग शहर में दुकानदारी ईमानदारी के भरोसे चलती है. यहां दुकानों पर हर सामान के साथ रेट्स के टैग भी लगा दिए जाते हैं. इसके साथ ही दुकान पर पैसों के लिए एक थैला भी रख दिया जाता है. 

ये भी पढ़ेंः मेंढ़क की शादी के लिए यूके भी हुआ तैयार, बारिश के लिए भारत की ट्रिक करेगी काम

गरीब किसानों की हैं दुकानें
मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो ये दुकानें गरीब किसानों द्वारा चलाई जाती हैं. इन  दुकानदारों के पास दुकानदारी के अलावा खेती का काम होता है. बताया जाता है कि किसान दिन भर खेती का काम करते हैं और दुकानों पर जरूरत का सामान मुहैया करवा देते हैं. खरीददार भी ईमानदारी के साथ आते हैं और सामान के बदले थैले में पैसे रखकर जाते हैं. सबसे अचरज की बात इन दुकानों पर कभी चोरी की घटनाएं भी नहीं होती हैं.

First Published : 22 Jul 2022, 09:30:18 PM

For all the Latest Offbeat News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.