News Nation Logo

BREAKING

Banner

बीमार मां से मिलने पाकिस्तान गई थी हिंदू महिला, 10 महीने बाद परिवार से मिली

महिला अपने पति और बच्चों के साथ एनओआरआई वीजा पर फरवरी में पाकिस्तान के मीरपुर खास में अपनी बीमार मां से मिलने गई थी.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Chaurasia | Updated on: 25 Nov 2020, 02:16:40 PM
pak train

सांकेतिक तस्वीर (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्ली:

पाकिस्तान में करीब 10 महीने तक फंसे रहने के बाद हिंदू शरणार्थी महिला मंगलवार को जोधपुर में अपने परिवार से मिली. जनता माली नाम की हिंदू महिला पाकिस्तान की रहने वाली है, जिसने भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन किया है. महिला अपने पति और बच्चों के साथ एनओआरआई वीजा पर फरवरी में पाकिस्तान के मीरपुर खास में अपनी बीमार मां से मिलने गई थी.

उसी बीच कोरोनावायरस महामारी की वजह से हुए लॉकडाउन के कारण वह वापस भारत नहीं लौट पाई. महिला को यात्रा करने की अनुमति नहीं मिली क्योंकि उनका वीजा भी समाप्त हो गया था. जिसके बाद वह पाकिस्तान में फंसी रह गई जबकि उनके पति और बच्चे जुलाई में ही भारत लौट आए थे.

ये भी पढ़ें- बाल कटाने गए VHP नेता की चुटिया काटी, पुलिस ने बारबर के खिलाफ दर्ज किया मुकदमा

महिला को अपने पति और बच्चों के साथ ट्रेन में सवार होने की अनुमति देने से इनकार कर दिया गया था. एनओआरआई (NORI) वीजा पाकिस्तानी नागरिकों को दीर्घकालिक वीजा (एलटीवी) पर भारत में रहने के दौरान पाकिस्तान की यात्रा करने और 60 दिनों के भीतर लौटने की अनुमति देता है. सितंबर में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राजस्थान हाई कोर्ट को एनओआरआई वीजा खत्म होने के बाद 410 पाकिस्तानी हिंदू शरणार्थियों के पाकिस्तान में फंसे होने की जानकारी दी थी.

ये भी पढ़ें- ढाई साल की उम्र में हुई थी शादी, 20 साल की होने पर युवती ने मांगी कानूनी मदद

पाकिस्तान के अल्पसंख्यक प्रवासियों से संबंधित मुद्दों पर अदालत द्वारा नियुक्त एमिकस क्यूरी सज्जन सिंह ने बताया कि ये शरणार्थी दीर्घकालिक वीजा (एलटीवी) पर भारत में रह रहे थे और एनओआरआई वीजा पर लॉकडाउन से पहले पाकिस्तान गए थे. तब गृह मंत्रालय ने कहा था कि इन लोगों को वीजा का विस्तार करते हुए जल्द ही देश वापस लाया जाएगा. सीमांत लोक संघ के अध्यक्ष हिंदू सिंह सोढ़ा ने कहा कि संगठन ने इस मुद्दे को राजस्थान सरकार के साथ-साथ केंद्र तक पहुंचाया था.

ये भी पढ़ें- महिला बनने के लिए डॉक्टर ने कराया था सेक्स चेंज, मदुरै की सड़कों पर इस हालत में दिखी

उन्होंने कहा, 'हमने सरकार से आग्रह किया है कि ऐसे सभी लोगों की वापसी का मार्ग प्रशस्त किया जाए, जो अपने एनओआरआई वीजा की अवधि समाप्त होने के कारण पाकिस्तान में फंसे हुए हैं. सोढ़ा ने आगे कहा कि छह महीने के संघर्ष के बाद हम माली को वापस लाने में सफल रहे, जो लॉकडाउन के कारण पाकिस्तान में फंस गई थीं.

First Published : 25 Nov 2020, 02:16:40 PM

For all the Latest Offbeat News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.