News Nation Logo
Banner

दीदी के बंगाल में BJP त्रिमूर्ती की मांग, मोदी, शाह और योगी की ढेरों सभाएं हों

भाजपाई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ज्यादा से ज्यादा सभाएं चाहते हैं. इसके बाद गृह मंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नंबर आता है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 24 Nov 2020, 02:53:59 PM
Modi Yogi Shah

बीजेपी की त्रिमूर्ति की पश्चिम बंगाल चुनाव में भारी मांग. (Photo Credit: न्यूज नेशन.)

नई दिल्ली:

पश्चिम बंगाल में आसन्न विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी पूरी तरह से चुनावी मोड में आ गई है. गृह मंत्री अमित शाह जहां सूबे का दौरा कर चुनावी शंखनाद कर चुके हैं. वहीं पार्टी के ओर से भेजे गए ऑब्जर्वर भी जमीनी हकीकत का फीडबैक लेकर आ चुके हैं. इन ऑब्जर्वरों की ओर से दिए गए फीडबैक में एक बात मुख्य तौर पर निकल कर सामने आई है कि बंगाल में स्थानीय भाजपाई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ज्यादा से ज्यादा सभाएं चाहते हैं. इसके बाद गृह मंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का नंबर आता है. संगठन को सौंपी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि पीएम मोदी को लेकर स्थानीय लोगों में विश्वास का माहौल है. 

भेजे गए थे पांच पर्यवेक्षक
गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में जनता और बीजेपी के कार्यकर्ताओं के मन मे क्या है, इस बात का पता लगाने के लिए बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने पिछले हफ्ते बंगाल के पांच सेक्टरों के लिए पांच केंद्रीय पदाधिकारियों की टीम भेजी थी. जो बंगाल के बूथ स्तर से लेकर राज्य के पदाधिकारियों से सीधी बात कर उनका फीडबैक लेकर आई है. भेजे गए ऑब्जर्वरों ने इस दौरान पार्टी के कामकाज से लेकर बीजेपी को चुनाव में क्या करना चाहिए, इस पर फीडबैक लिया. फीडबैक में कई रोचक बात निकलकर सामने आई. कार्यकर्ताओं ने बताया कि बंगाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीनको लेकर उत्साह है. इसलिए ज्यादा से ज्यादा उनके कार्यक्रम लगाए जाएं. इसके अलावा गृहमंत्री अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यक्रम पर जोर दिया जाए.

यह भी पढ़ेंः  नगरोटा पर पाकिस्तान को फिर बेनकाब करेगा भारत, राजदूतों को दी जानकारी

दूसरे दलों से आने वालों से असुरक्षा 
फीडबैक के दौरान एक और बात निकलकर सामने आई है. कार्यकर्ताओं में दूसरे दलों से आने वाले नेताओं को लेकर असुरक्षा और आशंका है. कार्यकर्ताओं में इस बात का डर है कि कहीं दूसरे दल से आने वाले नेताओं की वजह से पार्टी में उनका कद अथवा अहमियत न कम हो जाए. गौरतलब है कि केंद्रीय पदाधिकारियों ने कार्यकर्ताओं से फीडबैक लेने के बाद उसकी रिपोर्ट बीजेपी अध्यक्ष को सौप दी है. दरअसल बीजेपी चाहती है कि 2019 में जिस तरह पार्टी को 18 लोकसभा सीटें मिली है उस जीत के सिलसिले को जारी रखा जाए. और विधानसभा में मिशन 200 के लक्ष्य को प्राप्त किया जाए.

यह भी पढ़ेंः Brahmos Missile पलक झपकते तबाह कर देगी चीन को, परीक्षण सफल

बिहार की तर्ज पर बंगाल में सभाएं करेंगे मोदी-योगी
अगर हालिया विधानसभा चुनाव में पीएम मोदी और सीएम योगी के स्ट्राइक रेट की चर्चा की जाए, तो पीएम मोदी ने बिहार में कुल दर्जन भर रैलियां की. कुल 110 सीटों को कवर करने वाली यह इन रैलियों के जरिए मोदी 57 फीसदी स्ट्राइक रेट के साथ सामने आए. दूसरी तरफ मुख्यमंत्री योदी आदित्यनाथ ने बिहार में 16 रैलियां कर 117 सीटों पर बीजेपी का प्रचार करने गए. योगी का स्ट्राइक रेट भी बेहतर रहा. उन्होंने 53.85 फीसदी की सफलता हासिल की. गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में नरेंद्र मोदी ने 17वीं लोकसभा चुनाव के लिए 17 रैलियां की और सूबे की 40 लोकसभा सीटों में से भाजपा 18 सीटें जीतने में कामयाब रही थी. योगी ने लोकसभा चुनाव के दौरान दो बार पश्चिम बंगाल पहुंचे. यहां पर योगी ने 6 रैलियां की जिनमें पुरुलिया, बोनगांव, बहरामपुर ,बारासात, कोलकाता उत्तरी, कोलकाता दक्षिण शामिल हैं. इसमें से दो में जीत मिली.   

First Published : 24 Nov 2020, 02:53:59 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.