News Nation Logo

संबित पात्रा को ट्विटर का झटका, कांग्रेस टूलकिट को बताया 'मैनिपुलेटेड मीडिया'

संबित पात्रा का कांग्रेस पर अफवाह और भ्रम फैलाने का दावा तथ्यात्मक रूप से सोशल मीडिया साइट ने सही नहीं पाया है.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 21 May 2021, 10:43:14 AM
Sambit Patra

बीजेपी प्रवक्ता ने मोदी सरकार को बदनाम करने का आरोप लगाया था. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • संबित पात्रा को ट्विटर ने दिया बड़ा झटका
  • कांग्रेस टूलकिट को मैनिपुलेटेड मीडिया कहा
  • यानी तथ्यात्मक रूप से सही नहीं पात्रा का आरोप

नई दिल्ली:

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के प्रवक्ता संबित पात्रा को कांग्रेस (Congress) पर कथित टूलकिट संबंधी लगाए गए आरोपों के बीच ट्विटर ने एक बड़ा झटका दिया है. ट्विटर ने संबित पात्रा के ट्वीट को मैनिपुलेटेड मीडिया करार दिया है. इस तरह से संबित पात्रा का कांग्रेस पर अफवाह और भ्रम फैलाने का दावा तथ्यात्मक रूप से सोशल मीडिया साइट ने सही नहीं पाया है. गौरतलब है कि भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा (Smabit Patra) द्वारा 18 मई को एक ट्वीट किया गया था, जिसमें उन्होंने एक टूलकिट (Toolkit) का हवाला देते हुए कांग्रेस पर आरोप लगाया था. इसमें उन्होंने दावा किया कि कांग्रेस पार्टी एक टूलकिट के जरिए कोरोना कहर के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि बिगाड़ने का काम कर रही है. 

कांग्रेस पर मोदी सरकार के खिलाफ माहौल बनाने का आरोप
संबित पात्रा का दावा था कि कांग्रेस एक पीआर एक्सरसाइज़ कर रही है, जिसके जरिए कुछ बुद्धिजीवियों की मदद से सरकार के खिलाफ माहौल बनवाया जा रहा है. इस ट्वीट में एक कागज़ साझा किया गया, जिसमें कांग्रेस का लेटरहैड था और सोशल मीडिया पर किस तरह ट्वीट और जानकारी साझा करनी है, उसके बारे में बताया गया था. इसको लेकर इस वक्त अच्छी खासी राजनीति शुरू हो गई है. संबित पात्रा समेत बीजेपी के कई नेताओं के खिलाफ इसको लेकर एफआईआर कराई गई है. अब ट्विटर के इस एक्शन से बीजेपी पर कांग्रेस के हमले और तेज हो जाएंगे. इसके पहले एनएसयूआई ने दिल्ली में इस मामले में एफआईआर दर्ज करा ही दी थी. इसके अलावा कई औऱ शहरों में भी केस दर्ज कराया गया है.

यह भी पढ़ेंः महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में एनकाउंटर, पुलिस ने मार गिराए 13 नक्सली

ट्विटर ट्रंप पर भी ले चुका है ऐसा ही एक्शन
गौरतलब है कि सोशल मीडिया ट्विटर की नीतियों के मुताबिक, अगर ट्वीट की गई किसी जानकारी का स्रोत सटीक नहीं है और उपलब्ध जानकारी भी गलत है तो इस तरह का लेबल लगाया जाता है. ये वीडियो, ट्वीट, फोटो या अन्य किसी भी कंटेंट पर लगाया जाता है. गौरतलब है कि अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव के दौरान डोनाल्ड ट्रंप के कई ट्वीट्स पर इस तरह का लेबल लगा दिया गया था. बाद में डोनाल्ड ट्रंप का अकाउंट ही परमानेंट सस्पेंड कर दिया गया था.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 21 May 2021, 10:41:10 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.