News Nation Logo

तमिलनाडु, यूपी, दिल्ली को हिस्से की वैक्सीन राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र से कम मिली

उत्तर प्रदेश, दिल्ली और तमिलनाडु जैसे राज्यों को राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र की तुलना में जरूरत से कम वैक्सीन मिल रही है. यह बात एकीकृत प्रतिभूति कंपनी एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज ने कही.

By : Shailendra Kumar | Updated on: 11 May 2021, 07:05:44 PM
OVID 19 Vaccine

तमिलनाडु, यूपी, दिल्ली को हिस्से की वैक्सीन राजस्थान से कम मिली (Photo Credit: IANS)

highlights

  • रामदॉस ने कहा कि दूसरी ओर, राजस्थान में 7.88 करोड़ की आबादी है
  • वैक्सीन का वितरण राज्यों की जनसंख्या के अनुसार किया जाना चाहिए
  • एमके ग्लोबल ने कहा, माना जाता है कि (1) राज्य सरकारें और निजी क्षेत्र

चेन्नई:

उत्तर प्रदेश, दिल्ली और तमिलनाडु जैसे राज्यों को राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र की तुलना में जरूरत से कम वैक्सीन मिल रही है. यह बात एकीकृत प्रतिभूति कंपनी एमके ग्लोबल फाइनेंशियल सर्विसेज ने कही. एमके ग्लोबल ने एक रिपोर्ट में कहा कि उसके अध्ययन के अनुसार, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु और दिल्ली जैसे राज्यों को वैक्सीन का हिस्सा उनकी जरूरत से कम मिल रहा है, जबकि राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र को अपेक्षाकृत अधिक प्राप्त हो रहा है. एमके ग्लोबल के अनुसार, यह निष्कर्ष आबादी के घनत्व, शहरी-ग्रामीण अनुपात, सक्रिय मामलों, मृत्युदर और अन्य मापदंडों के आधार पर भारित वितरण उपाय की दृष्टि से राज्य हिस्सेदारी का आकलन कर निकाला गया.

यह भी पढ़ें :तहसीलदारनी ने किया कोविड से मरी महिला का अंतिम संस्कार, घर से नहीं निकला कोई बाहर

कंपनी ने कहा कि आदर्श रूप से, वैक्सीन का वितरण राज्यों की जनसंख्या के अनुसार किया जाना चाहिए. पूर्व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री और 7.62 करोड़ की आबादी वाले राज्य तमिलनाडु के संसद सदस्य अंबुमणि रामदॉस के अनुसार, उनके राज्य को 72 लाख वैक्सीन का आवंटन हुआ, जबकि 6.94 करोड़ जनसंख्या वाले गुजरात को 1.39 करोड़ वैक्सीन मिली और 6.66 करोड़ की आबादी वाले कर्नाटक को. 1.06 करोड़ टीके मिले.

यह भी पढ़ें :गुजरात के इन शहरों में नाइट कर्फ़्यू एक हफ्ते बढ़ा, जानें नया नियम

रामदॉस ने कहा कि दूसरी ओर, राजस्थान में 7.88 करोड़ की आबादी है, जहां तमिलनाडु से मात्र 26 लाख लोग ज्यादा हैं, उसे 1.42 करोड़ वैक्सीन मिली. एमके ग्लोबल के अनुसार, आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण राज्यों/जिलों को प्राथमिकता देना सामाजिक रूप से उचित लगता, क्योंकि मानव जीवन के साथ समान रूप से व्यवहार किया जाना चाहिए. एमके ग्लोबल की रिपोर्ट के अनुसार, अनुमान है कि बिना अपव्यय के टीकाकरण की कुल लागत सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का लगभग 0.6-0.7 प्रतिशत होगी, जिसमें से राज्यों में सकल घरेलू उत्पाद का 0.25 प्रतिशत और निजी क्षेत्र का 0.4 प्रतिशत होगा. जीडीपी के प्रतिशत के हिसाब से केंद्र सबसे कम लागत वहन करता है.

यह भी पढ़ें :सेंट्रल विस्टा के खिलाफ याचिका पर केंद्र ने कहा, यह कानून की प्रक्रिया का सरासर दुरुपयोग है

एमके ग्लोबल ने कहा, "माना जाता है कि (1) राज्य सरकारें और निजी क्षेत्र क्रमश: 18-44 और 18 से कम आयु वर्ग की 60 प्रतिशत और 40 प्रतिशत आबादी के टीकाकरण के बोझ को साझा करते हैं, और (2) केंद्र प्रत्येक राज्य में 45 वर्ष से अधिक उम्र वाली आबादी का 70 प्रतिशत हिस्सा कवर करता है और बाकी निजी क्षेत्र के जिम्मे है." राज्यों के लिए, टीकाकरण का राजकोषीय बोझ उनकी आबादी और 45 वर्ष आयु वर्ग के लिए वितरण के हिसाब से अलग-अलग होगा.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 11 May 2021, 07:05:44 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.