News Nation Logo

नेताजी की 125वीं जयंती के साथ आज गणतंत्र दिवस समारोह का आगाज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेता जी सुभास चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का भी आज शाम 6 बजे अनावरण करेंगे. 

News Nation Bureau | Edited By : Vijay Shankar | Updated on: 23 Jan 2022, 08:33:07 AM
Neta ji Anniversary

Neta ji Anniversary (Photo Credit: File Photo)

highlights

  • स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस की आज 125वीं जयंती
  • संसद भवन के सेंट्रल हॉल में नेताजी को पुष्पांजलि अर्पित की जाएगी
  • 23 जनवरी से गणतंत्र दिवस समारोह शुरू करने का फैसला 

दिल्ली:  

Netaji's 125th birth anniversary :  नेताजी के नाम से मशहूर और प्रतिष्ठित स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस ((Subhash chandra bose) की आज 125वीं जयंती (125th birth anniversary ) है. केंद्र सरकार ने बोस की जयंती को शामिल करने के लिए 23 जनवरी से गणतंत्र दिवस समारोह शुरू करने का फैसला किया है, जिसे इस साल से शुरू होने वाले पराक्रम दिवस (वीरता का दिन) के रूप में मनाया जाएगा. बोस की जयंती पर संसद भवन के सेंट्रल हॉल में उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की जाएगी. लोकसभा सचिवालय ने एक नोटिस में कहा, सुभाष चंद्र बोस की जयंती के अवसर पर 23 जनवरी को सुबह साढ़े दस बजे संसद भवन के सेंट्रल हॉल में उन्हें पुष्पांजलि अर्पित करने का एक समारोह आयोजित किया जाएगा. वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) नेता जी सुभास चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का भी आज शाम 6 बजे अनावरण करेंगे. 

यह भी पढ़ें : 29 जनवरी को बीटिंग द रिट्रीट सेरेमनी में नहीं बजेगी गांधी की पसंदीदा धुन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को इंडिया गेट पर नेताजी की भव्य ग्रेनाइट प्रतिमा स्थापित करने की सरकार की योजना की घोषणा की थी. पीएम मोदी ने कहा, जब तक भव्य प्रतिमा पूरी नहीं हो जाती तब तक ग्रेनाइट की प्रतिमा के लिए चिन्हित स्थान पर एक होलोग्राम प्रतिमा मौजूद रहेगी. प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, यह उनके प्रति भारत के ऋणी होने का प्रतीक होगा. मैं नेताजी की जयंती 23 जनवरी को होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण करूंगा.  

नेता जी की ग्रेनाइट से बनी भव्य मूर्ति स्थापित होगी

दिल्ली के इंडिया गेट पर नेता जी की ग्रेनाइट से बनी भव्य मूर्ति स्थापित होनी है, हालांकि उसका निर्माण अभी पूरा नहीं हुआ है, इसलिए जब तक ग्रेनाइट से बनी प्रतिमा पूरी तरह से बन नहीं जाती है. सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा उस छतरी में लगेगी जहां पहले जॉर्ज पंचम की मूर्ति लगी थी. जॉर्ज पंचम की प्रतिमा को 1968 में हटा दिया गया था, तब से यह छतरी खाली पड़ी है. होलोग्राफिक एक तरह की डिजिटल तकनीक है. यह एक प्रोजेक्टर की तरह काम करता है, जिसमें किसी भी चीज़ को 3D आकार दिया जा सकता है.

First Published : 23 Jan 2022, 08:30:59 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.