News Nation Logo

'जनता के प्राण जाएं, पर PM की टैक्स वसूली ना जाए', राहुल गांधी का बड़ा हमला

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी कोरोना को लेकर मोदी सरकार पर सवाल उठा रहे हैं. राहुल गांधी ने आज भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 08 May 2021, 12:22:24 PM
rahul gandhi

'जनता के प्राण जाएं, पर PM की टैक्स वसूली ना जाए', राहुल गांधी का वार (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • PM मोदी पर किया राहुल गांधी ने वार
  • कोरोना के बीच कांग्रेस नेता का कटाक्ष
  • GST को लेकर राहुल ने बोला हमला

नई दिल्ली:

कोरोना वायरस महामारी से भारत के अंदर जनता में त्राहिमाम त्राहिमाम मचा हुआ है. कोविड की दूसरी लहर ने सुनामी का रूप ले लिया है, जिससे देश में भयावह स्थिति बनी है. संकट के इस दौर में सियासत भी अपने चरम पर है. दिनों दिन संक्रमण के बिगड़े हालातों को लेकर जहां सरकारें लगातार कदम उठा रही हैं तो वहीं विपक्ष नाकामियों को लेकर हमलावर है. विपक्ष खासकर केंद्र की मोदी सरकार को संकट से निपटने में विफल करार देते हुए घेरे हुए है. इसी कड़ी में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी कोरोना को लेकर मोदी सरकार पर सवाल उठा रहे हैं. राहुल गांधी ने आज भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा है.

यह भी पढ़ें : LIVE: दिल्ली में अभी और बढ़ सकता है लॉकडाउन. सीएम करेंगे 12 बजे घोषणा!

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने कोरोना महामारी के बीच जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) को लेकर प्रधानमंत्री पर हमला बोला है. राहुल गांधी ने शनिवार को ट्वीट करते हुए कहा, 'जनता के प्राण जाएं, पर PM की टैक्स वसूली ना जाए.' इसके साथ ही कांग्रेस नेता ने हैजटैग जीएसटी का इस्तेमाल किया है. यानी कि राहुल ने यह बात जीएसटी को लेकर कही है.

इससे पहले शुक्रवार को राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी, जिसमें उन्होंने कोविड और वैक्सीनेशन योजना की आलोचना की. राहुल गांधी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर कहा कि सरकार के पास कोविड के खिलाफ टीकाकरण को लेकर कोई स्पष्ट रणनीति नहीं है. उन्होंने भारत को अत्यधिक खतरनाक स्थिति में डाल दिया है. उन्होंने यह भी कहा कि सरकार की विफलता के कारण देश एक बार फिर से राष्ट्रीय स्तर के लॉकडाउन के मुहाने पर खड़ा हो गया है और ऐसे में गरीबों को तत्काल आर्थिक मदद दी जाए, ताकि उन्हें पिछले साल की तरह पीड़ा से न गुजरना पड़े.

यह भी पढ़ें : विदेश मंत्री एस जयशंकर ने किया चीन की ओर से बुलाई सुरक्षा परिषद की बैठक का बहिष्कार, जानें क्यों 

एक महीने के भीतर प्रधानमंत्री को यह उनका दूसरा पत्र था. उन्होंने पहले 9 अप्रैल को मोदी को लिखा था कि टीकाकरण के लिए हर किसी को इसकी जरूरत है और टीका निर्यात पर तत्काल रोक लगाने का आहवान किया गया था. अगर इसी गति से टीकाकरण जारी रहा तो अर्थव्यवस्था पर विनाशकारी प्रभाव पड़ेगा. शुक्रवार को भेजे गए तीन पन्नों के पत्र में राहुल गांधी ने कहा कि मुझे एक बार फिर से लिखने के लिए मजबूर किया गया है, क्योंकि कोविड सूनामी हमारे देश को तबाह कर रही है.

कांग्रेस नेता ने कहा कि मैं आपको एक बार फिर पत्र लिखने के लिए विवश हुआ हूं क्योंकि हमारा देश कोविड सुनामी की गिरफ्त में बना हुआ है. इस तरह के अप्रत्याशित संकट में भारत के लोग आपकी सबसे बड़ी प्राथमिकता होने चाहिए. मैं आपसे आग्रह करता हूं कि आप देश के लोगों को इस पीड़ा से बचाने के लिए जो भी संभव हो, वह करिए. उन्होंने आगे कहा कि लेकिन एक वैश्वीकृत और परस्पर दुनिया में भारत की जिम्मेदारी को समझना भी महत्वपूर्ण है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 08 May 2021, 12:22:24 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.