News Nation Logo
Banner

सर्जरी के बाद राष्ट्रपति भवन में वापस लौटे राष्ट्रपति कोविंद, ट्वीट कर दी जानकारी

26 मार्च को राष्ट्रपति को सीने में दर्द की शिकायत हुई थी. जिसके बाद 27 मार्च को उन्हें पहले आर्मी अस्पताल में रूटिन चेकअप के लिए ले जाया गया. और बाद में एम्स में भर्ती किया गया था. जहां 30 मार्च को उनकी बाईपास सर्जरी की गई थी.

News Nation Bureau | Edited By : Karm Raj Mishra | Updated on: 12 Apr 2021, 06:12:33 PM
President Kovind

President Kovind (Photo Credit: फोटो- @rashtrapatibhvn Twitter)

highlights

  • 26 मार्च को उठा था सीने में दर्द
  • 30 मार्च को बाईपास सर्जरी की गई थी
  • अस्पताल से ही मंजूरी दी बिल को मंजूरी

नई दिल्ली:

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) अपनी सर्जरी के बाद राष्ट्रपति भवन (President Bhawan) में लौट चुके हैं. राष्ट्रपति (President Kovind) ने खुद ट्वीट करके इसकी जानकारी दी. राष्ट्रपति कोविंद ने ट्विटर (President of India) पर अपनी सेहत की जानकारी देते हुए लिखा कि मैं अपनी सर्जरी के बाद राष्ट्रपति भवन लौट आया हूं. मेरी शीघ्र रिकवरी आप सभी की इच्छाओं और प्रार्थनाओं और एम्स (AIIMS) और सेना के आरआर अस्पताल (Army Hospital) में डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ द्वारा दी गई असाधारण देखभाल के लिए धन्यवाद है. मैं सभी का आभारी हूं! मुझे घर वापस आने की खुशी है. बता दें कि 26 मार्च को राष्ट्रपति को सीने में दर्द की शिकायत हुई थी.

ये भी पढ़ें- बंगाल में बोले PM मोदी- 'दीदी, ओ दीदी' बोलने पर ममता को गुस्सा क्यों?

जिसके बाद 27 मार्च को उन्हें पहले आर्मी अस्पताल में रूटिन चेकअप के लिए ले जाया गया. और बाद में एम्स में भर्ती किया गया था. जहां 30 मार्च को उनकी बाईपास सर्जरी की गई थी. इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट करके उनके स्वास्थ्य की जानकारी दी थी. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट करके बताया था कि दिल्ली एम्स में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की सफल बाईपास सर्जरी की गई. इसके लिए उन्होंने एम्स के डॉक्टरों को धन्यवाद भी किया है. डॉक्टरों ने उन्हें आराम की सलाह दी थी. 

अस्पताल से ही मंजूरी दी बिल को मंजूरी

राष्ट्रपति भले ही अपनी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के चलते अस्पताल में भर्ती रहे हों, लेकिन इस दौरान भी वे कामकाज करते रहे. हाल ही में केंद्र सरकार ने दिल्ली से जुड़ा एक बिल संसद में पेश किया था. जिसे राष्ट्रपति ने अस्पताल में 29 मार्च को मंजूरी थी. इस बिल का नाम दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र शासन संशोधन विधेयक 2021 (GNCT Bill) है. राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद अब ये कानून बन गया है. इसके कानून बनने के बाद अब दिल्ली में उपराज्यपाल की ताकतें भी बढ़ गई हैं. कानून कहता है कि दिल्ली की सरकार को कोई भी बड़ा फैसला लेने से पहले उपराज्यपाल की राय लेना जरूरी होगा.

ये भी पढ़ें- गलतफहमी में न रहें, उत्तर प्रदेश में लॉकडाउन नहीं लगेगा: सीएम योगी आदित्यनाथ

हाल ही में ली कोरोना वैक्सीन

बता दें कि हाल ही में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कोरोना का टीका लगवाया था. उन्होंने आर्मी अस्पताल में ही कोरोना टीके की पहली खुराक ली थी. वैक्सीन लगवाने के लिए वह अपनी बेटी के साथ अस्पताल पहुंचे थे. वैक्सीन लेने के बाद उन्होंने योग्य लोगों से कोरोना वैक्सीन लगवाने की अपील भी की थी. इसके अलावा उन्होंने सबसे बड़े टीकाकरण अभियान को सफलतापूर्वक लागू करने के लिए सभी डाक्टरों, नर्सों, स्वास्थ्य कर्मियों और प्रशंसकों को धन्यवाद दिया था. वैक्सीन लेने के बाद उन्होंने योग्य लोगों से कोरोना वैक्सीन लगवाने की अपील भी की थी. इसके अलावा उन्होंने सबसे बड़े टीकाकरण अभियान को सफलतापूर्वक लागू करने के लिए सभी डाक्टरों, नर्सों, स्वास्थ्य कर्मियों और प्रशंसकों को धन्यवाद दिया था.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 12 Apr 2021, 05:55:48 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.