News Nation Logo

पीएम मोदी और गृहमंत्री ने उत्तराखंड के सीएम से की बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने रविवार को उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने की घटना पर वहां के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से बात की.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 07 Feb 2021, 02:55:45 PM
Narendra Modi Amit Shah

पीएम नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह मे ली हादसे की जानकारी. (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • इस हादसे में 150 लोगों के मारे जाने की आशंका है
  • पीएम मोदी और गृहमंत्री शाह ने ली जानकारी
  • आईटीबीपी के सैकड़ों जवान बचाव अभियान में जुटे

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने रविवार को उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने की घटना पर वहां के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से बात की. मुख्यमंत्री ने पूरी घटना की जानकारी उन्हें देते हुए बताया कि तेजी से राहत एवं बचाव कार्य चल रहा है. प्रधानमंत्री मोदी को असम दौरे के दौरान उत्तराखंड में ग्लेशियर हादसे की जानकारी हुई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा, उत्तराखंड में दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति की हम लगातार निगरानी कर रहे हैं. पूरा देश उत्तराखंड के साथ खड़ा है और सभी की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता है. वरिष्ठ अधिकारियों से लगातार बात करते हुए एनडीआरएफ की तैनाती और राहत एवं बचाव कार्यों का अपडेट प्राप्त कर रहे हैं. इस हादसे में 150 लोगों के मारे जाने की आशंका है, जो पॉवर प्रोजेक्ट पर काम कर रहे थे. 

अमित शाह ने की उत्तराखंड के सीएम से बात
उधर, गृहमंत्री अमित शाह ने भी उत्तराखंड के मुख्यमंत्री से बात की. उन्होंने कहा, उत्तराखंड में प्राकृतिक आपदा की सूचना के संबंध में मैंने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी, डीजी आईटीबीपी, डीजी एनडीआरएफ से बात की है. सभी सम्बंधित अधिकारी लोगों को सुरक्षित करने में युद्धस्तर पर काम कर रहे हैं. एनडीआरएफ की टीमें बचाव कार्य के लिए निकल गयी हैं. देवभूमि को हर सम्भव मदद दी जाएगी. गौरतलब है कि उत्तराखंड के चमोली जिले के रेनी गांव के पास एक पावर प्रोजेक्ट के पास हिमस्खलन होने से धौलीगंगा नदी के जल स्तर में भारी बढ़ोतरी हो गई, जिसकी वजह से जोशीमठ क्षेत्र में लोगों को भीषण बाढ़ का सामना करना पड़ा है. घटना रेनी गांव के पास हुई, जो जोशीमठ से 26 किमी दूर है. धौलीगंगा नदी के जलस्तर में अचानक बढ़ोतरी हो गई और इसके किनारे कई घर नष्ट हो गए.

यह भी पढ़ेंः चमोली त्रासदी में 150 लोगों के मारे जाने की आशंका, राहत और बचाव कार्य जारी

सुबह 10 बजे आई धौलीगंगा में बाढ़
भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) ने कहा कि लगभग 10 बजे कुछ बादल फटने या जलाशय में जलस्तर में तीव्र वृद्धि से धौलीगंगा नदी में बाढ़ आ गई, जोकि गंगा नदी के 6 स्रोत धाराओं में से एक है. ग्लेशियर टूटने के बाद ऋषि गंगा पनबिजली परियोजना में काम करने वाले कई मजदूरों के लापता होने की आशंका है. तपोवन बिजली परियोजना का एक बांध टूट गया और उसके बह जाने की आशंका है. आईटीबीपी और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (एसडीआरएफ) के कर्मियों को फंसे हुए लोगों को निकालने के लिए प्रभावित इलाकों में भेजा गया है. आईटीबीपी ने कहा, 'हताहतों की संख्या बढ़ने की आशंका है. सैकड़ों आईटीबीपी के जवान बचाव अभियान के लिए पहुंचे हैं.'

यह भी पढ़ेंः चमोली में जलसैलाब, पावर प्रोजेक्ट तबाह... काम करने वाले 150 लोग लापता

उत्तराखंड के सीएम भी जायजा लेने पहुंचे
उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने स्थिति का जायजा लेने और बचाव और राहत कार्यो की निगरानी के लिए एक आपात बैठक बुलाई है. ऋषिकेश और हरिद्वार में भले ही आपदा का असर महसूस न हो, लेकिन शहरों को अलर्ट पर रखा गया है. सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि जिस जगह पर ग्लेशियर टूटे हैं वहां बहुत ज्यादा मानव बसाव नहीं था, लेकिन कई बिजली परियोजनाएं प्रभावित हुई हैं. सरकार ने लोगों से गंगा नदी के पास न जाने की अपील भी की है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 07 Feb 2021, 02:54:52 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो