logo-image
लोकसभा चुनाव

PM मोदी ने अरुणाचल प्रदेश पर चीन को दिया करारा जवाब, कहा- अरुणाचल भारत का अभिन्न हिस्सा था, है और रहेगा

PM Modi on Arunachal Pradesh: चीन द्वारा अरुणाचल प्रदेश के 30 स्थानों के नाम बदलने के बाद पीएम मोदी ने भी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने चीन को कड़े शब्दों में कहा कि अरुणाचल भारत का अभिन्न हिस्सा था, है और रहेगा.

Updated on: 09 Apr 2024, 08:52 AM

highlights

  • पीएम मोदी ने चीन को दिया करारा जवाब
  • अरुणाचल प्रदेश पर ड्रैगन को दिखाया आईना
  • अरुणाचल को बताया भारत का अभिन्न हिस्सा

नई दिल्ली:

PM Modi on Arunachal Pradesh: अरुणाचल प्रदेश को लेकर चीन हमेशा विवाद बयानबाजी करता रहता है. हाल ही में चीन ने अरुणाचल प्रदेश के 30 स्थानों के नाम बदल दिए. जिससे एक बार फिर से विवाद बढ़ गया. भारत सरकार ने चीन के इस कदम पर कड़ी प्रतिक्रिया दी. इसी बीच पीएम मोदी ने चीन को करारा जवाब दिया. पीएम मोदी ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा था, है और रहेगा. साथ ही पीएम मोदी ने चीन के इस कदम की घोर निंदा की. एक न्यूज पेपर को दिए इंटरव्यू के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अरुणाचल पर चीन को आईना दिखाया.

ये भी पढ़ें: PM मोदी की आज उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में ताबड़तोड़ रैलियां, शाम को चेन्नई में करेंगे रोड शो

पीएम मोदी ने किया सेला टनल का जिक्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अरुणाचल प्रदेश में बने 'सेला टनल' के महत्व का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि यह एक वास्तविक रणनीतिक गेम-चेंजर है, जो तवांग को हर मौसम में कनेक्टिविटी प्रदान करता है. बता दें कि सेला टनल दुनिया की सबसे लंबी डबल-लेन टनल है. सेला सुरंग 3,000 मीटर की ऊंचाई पर एक सड़क सुरंग है जो असम में गुवाहाटी और अरुणाचल प्रदेश में तवांग के बीच हर मौसम में कनेक्टिविटी की सुविधा उपलब्ध कराती है. यह सुरंग 13,000 फीट की ऊंचाई पर दुनिया की सबसे लंबी दो लेन वाली सुरंग है.

ये भी पढ़ें: CSK vs KKR : चेपॉक में बुरी तरह हारी कोलकाता, चेन्नई सुपर किंग्स ने 7 विकेट से जीता मैच

वहीं सेला टनल के बनने से चीन की सीमा की दूरी अब दस किलोमीटर कम हो गई है. इस सुरंग के बनने से एलएसी तक जल्द पहुंचा जा सकता है.  पीएम मोदी ने पूर्वी-उत्तर भारत के विकास का जिक्र करते हुए कहा कि ये क्षेत्र नए भारत की सबसे बड़ी सफलता की कहानी के रूप में उभरा है. अरुणाचल प्रदेश के 30 स्थानों के नाम बदलने को भारत ने खारिज किया है. भारत का कहना है कि यह राज्य देश का अभिन्न अंग है और काल्पनिक नाम रख देने से इस वास्तविकता में कोई बदलाव नहीं आएगा.

ये भी पढ़ें: नानकमत्ता गुरुद्वारा के डेरा प्रमुख तरसेम सिंह हत्याकांड का शार्प शूटर एनकाउंटर में ढेर, एक आरोपी फरार

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने भी दी थी प्रतिक्रिया

बता दें कि कुछ दिनों पहले ही विदेश मंत्री एस जयशंकर ने चीन की आलोचना करते हुए कहा था कि, चीन के जरिए अरुणाचल के क्षेत्रों के नाम बदलने की कोशिश से इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा है और रहेगा. विदेश मंत्री ने कहा कि अरुणाचल प्रदेश भारतीय राज्य था, है और भविष्य में भी रहेगा. उन्होंने कहा कि नाम बदलने से कुछ हासिल नहीं होगा. विदेश मंत्री ने पूछा कि अगर मैं आपके घर का नाम बदल दूं, तो क्या वह मेरा हो जाएगा?