News Nation Logo

चालबाज चीन को सबक सिखाने के लिए भारत में उठाया एक और कदम, रेलवे क्षेत्र में कर दिया यह काम

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर जारी तनाव के बीच भारत ने चीन को एक और झटका दिया है. भारतीय रेलवे ने 44 सेमी-हाई स्पीड वंदे भारत ट्रेनों के निर्माण की निविदा रद्द कर दी है, जो पिछले साल आमंत्रित की गई थी.

By : Dalchand Kumar | Updated on: 22 Aug 2020, 08:44:50 AM
vande Bharat train

भारत ने चीन को दिया एक और झटका, रेलवे क्षेत्र में कर दिया यह काम (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर जारी तनाव के बीच भारत ने चीन को एक और झटका दिया है. भारतीय रेलवे (indian railway) ने 44 सेमी-हाई स्पीड वंदे भारत ट्रेनों के निर्माण की निविदा रद्द कर दी है, जो पिछले साल आमंत्रित की गई थी. पिछले महीने जब निविदा खोली गई तो 16 डिब्बे वाली इन 44 ट्रेनों के इलेक्ट्रिकल उपकरणों एवं अन्य सामान की आपूर्ति के लिए छह दावेदारों में से एक चीनी संयुक्त उद्यम (सीआरआरसी-पायनियर इलेक्ट्रिक (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड) एकमात्र विदेशी के रूप में उभरकर सामने आया.

यह भी पढ़ें: PoK में सामाजिक कार्यकर्ता को मिल रहीं मारने की धमकी, जानें पूरा मामला

2015 में चीनी कंपनी सीआरआरसी योंगजी इलेक्ट्रिक कंपनी लिमिटेड और गुरुग्राम की पायनियर इलेक्ट्रिक (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड के बीच यह संयुक्त उद्यम बना था. रेल मंत्रालय ने एक ट्वीट में कहा, '44 सेमी-हाई स्पीड ट्रेनों (वंदे भारत) के निर्माण की निविदा रद्द कर दी गई है. संशोधित सार्वजनिक खरीद (मेक इन इंडिया को वरीयता) आदेश के अंतर्गत एक सप्ताह के भीतर ताजा निविदा आमंत्रित की जाएगी.' हालांकि, रेलवे ने निविदा रद्द करने के पीछे किसी खास कारण का उल्लेख नहीं किया.

यह भी पढ़ें: मौकापरस्त पाकिस्तान, सऊदी अरब से तनाव के बीच चीन के करीब 

उधर, सूत्रों ने कहा है कि रेलवे यह सुनिश्चित करना चाहता है कि एक पूर्ण घरेलू इकाई निविदा हासिल करे और जैसे ही यह महसूस किया गया कि चीनी संयुक्त उद्यम दौड़ में सबसे आगे है तो इसे निरस्त कर दिया गया. चेन्नई की रेलवे कोच फैक्ट्री ने 10 जुलाई को 44 सेमी-हाई स्पीड वंदे भारत ट्रेनों के निर्माण के लिए निविदा आमंत्रित की थी.

यह भी पढ़ें: सनकी किम जोंग उन ने छोटी बहन को बनाया अपना सक्सेसर 

इससे पहले, लद्दाख में चीन-भारत के बीच सीमा पर जारी गतिरोध के बीच भी रेलवे ने कोविड-19 निगरानी के लिए थर्मल कैमरा की आपूर्ति के लिए उस समय निविदा रद्द कर दी थी जब एक भारतीय कंपनी ने निविदा विनिर्देशों को चीनी कंपनी के पक्ष में होने का आरोप लगाया था. सूत्रों ने कहा कि कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने भी रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर इस निविदा को समाप्त करने का आग्रह किया था.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 22 Aug 2020, 08:44:50 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.