News Nation Logo
Banner

5 साल तक के बच्चों को एंटीवायरल-मास्क से छूट, केंद्र की नई गाइडलाइन

संशोधित गाइडलाइंस के मुताबिक 6-11 साल के बच्चे अपनी क्षमता के आधार पर अपनी सुरक्षा और अभिभावकों की उचित देखरेख में सही तरह से मास्क का इस्तेमाल कर सकते हैं.

Written By : मनोज शर्मा | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 21 Jan 2022, 06:42:06 AM
Children Mask

अभिभावकों की मौजूदगी में हो बच्चों की सुरक्षा. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • 18 साल से कम के लिए एंटीवायरल-मोनोक्लोनल एंटीबॉडी की जरूरत नहीं
  • लक्षणों की शुरुआत के बाद से पहले तीन से पांच दिनों में स्टेरॉयड से बचें
  • स्टेरॉयड का उपयोग करना भी पड़े, तो उसे डाइल्यूट करने के बाद ही दें

नई दिल्ली:  

कोरोना संक्रमण (Corona Epidemic) के गहराते कहर के बीच केंद्र सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बच्चों और किशोरों को लेकर नई गाइडलाइन जारी की है. ‘बच्चों और 18 साल से कम आयु के किशोरों में कोविड-19 (COVID-19) के प्रबंधन के लिए संशोधित व्यापक दिशा-निर्देश’ के तहत अब 18 साल के कम वय के मरीजों के लिए एंटीवायरल और मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज़ की जरूरत नहीं है. गाइडलाइन में कहा गया है कि कोविड-19 संक्रमण की गंभीरता के बावजूद यदि स्टेरॉयड का उपयोग करना भी पड़े, तो उसे डाइल्यूट करने के बाद ही देना चाहिए. इसके साथ ही पांच साल तक के बच्चों के लिए मास्क (Face Mask) पहनने की भी कोई जरूरत नहीं है.

संक्रमण के नई लहर के आलोक में किया गया संशोधन
संशोधित गाइडलाइंस के मुताबिक 6-11 साल के बच्चे अपनी क्षमता के आधार पर अपनी सुरक्षा और अभिभावकों की उचित देखरेख में सही तरह से मास्क का इस्तेमाल कर सकते हैं. गाइडलाइंस में यह भी कहा गया कि 12 साल से कम और उससे ज्यादा के बच्चों को बड़ों की तरह की मास्क पहनने के नियमों का पालन करना चाहिए. ओमीक्रॉन की वजह से कोविड संक्रमण की नई लहर के मद्देनजर केंद्र के विशेषज्ञों ने इन दिशा-निर्देशों में संशोधन किया है. मंत्रालय ने कहा कि विभिन्न देशों के उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार ओमीक्रॉन वेरिएंट से होने वाला संक्रमण कम गंभीर है. हालांकि इसके बावजूद सावधानीपूर्वक निगरानी की जरूरत है, क्योंकि मौजूदा लहर अभी विकसित हो रही है. दिशा-निर्देशों के अनुसार कोरोना संक्रमण के प्रबंधन में रोगाणुरोधी की कोई भूमिका नहीं है.

यह भी पढ़ेंः दिल्ली में RT-PCR के 500 की जगह देने होंगे सिर्फ 300 रुपये

लक्षणों के आधार पर दें दवा 
नई संशोधित गाइडलाइंस के मुताबिक कोविड-19 वायरल इंफेक्शन और एंटीमाइक्रोबायल्स है जिसकी जटिल कोविड संक्रमण में कोई भूमिका नहीं है. मंत्रालय ने कहा बिना लक्षण और हल्के लक्षण वाले केस में चिकित्सा या प्रोफिलैक्सिस के लिए एंटीमाइक्रोबायल्स की सिफारिश नहीं की जाती है. मध्यम और गंभीर मामलों में एंटीमाइक्रोबाइल्स को तब तक निर्धारित नहीं किया जाना चाहिए जब तक कि एक सुपरएडेड संक्रमण का ​​संदेह न हो. नई गाइडलाइंस में स्टेरायड का सही समय पर. उचित मात्रा में और सही अवधि में इस्तेमाल की सलाह दी गई है. चेताया गया है कि लक्षणों की शुरुआत के बाद से पहले तीन से पांच दिनों में स्टेरॉयड से बचना चाहिए, क्योंकि यह वायरल शेडिंग को बढ़ावा देता है.

First Published : 21 Jan 2022, 06:37:18 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.