logo-image
लोकसभा चुनाव

Tamil Nadu Hooch Tragedy: ‘राहुल गांधी और खरगे कहां हैं’, शराब कांड में निर्मला सीतारमण ने कांग्रेस पर वार

तमिलनाडु जहरीली शराब कांड विवादों में है. मामले में केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कांग्रेस पर निशाना साधा. उन्होंने राहुल गांधी की चुप्पी पर सवाल उठाए. उन्होंने पूछा कि राहुल गांधी और मल्लिकार्जुन खरगे कहां है. वे चुप क्यों हैं.

Updated on: 24 Jun 2024, 05:53 AM

नई दिल्ली :

Tamil Nadu Hooch Tragedy: तमिलनाडु का जहरीली शराब कांड अभी विवादों में है. तमाम आरोपों प्रत्यारोपों के बीच केंद्रीय वित्त मंत्री रविवार को कांग्रेस पर हमलावर दिखीं. उन्होंने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे और कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर निशाना साधा. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि इतनी मौतों के बावजूद कल्लकुरिची शहर में रसायनिक अवैध शराब परोसी जा रही है. मल्लिकार्जुन खरगे कहां हैं? राहुल गांधी कहां हैं? जहरीली शराब के कारण दलितों की मौत हो रही है तो राहुल गांधी चुप क्यों हैं. क्यों अब तक राहुल गांधी की ओर से कोई बयान सामने नहीं आया है. बता दें, तमिलनाडु का सत्तारूढ़ दल डीएमके इंडिया गठबंधन का हिस्सा है.

उन्होंने आगे कहा कि इतने संवेदनशील मामले में चुप्पी साधने वाले इंडिया गठबंधन शायद संसद परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के पास मौन रखेंगे और पश्चाताप करेंगे. वित्त मंत्री ने मांग की है कि इसकी जांच सीबीआई को सौंपी जाए. बता दें, जहरीली शराब के कारण अब तक 50 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. साथ ही करीब 200 लोग अस्पताल में भर्ती हैं. 19 जून से मामले की शुरुआत हुई है. सबसे अधिक 31 लोगों की मौत कल्लकुर्ची मेडिकल कॉलेज में हुईं है. इसके अलावा, सलेम मेडिकल कॉलेज में भर्ती 18 लोग भी दम तोड़ चुके हैं.

हत्या राज्य सरकार द्वारा प्रयोजित है- पात्रा
भाजपा सांसद संबित पात्रा ने रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान, उन्होंने कहा कि मृतकों में सबसे अधिक 40 लोग दलित समुदाय से हैं. हत्या राज्य सरकार द्वारा प्रयोजित है. मैं हैरान हूं कि इतने लोगों की मौत हो गई पर खरगे, राहुल, प्रियंका गांधी, सोनिया गांधी के साथ-साथ इंडिया गठबंधन के अन्य दल इस पर क्यों चुप हैं.

सीएम ने जांच के आदेश दिए
मामले में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं. मद्रास उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश न्यायमूर्ति बी गोकुलदास जांच दल का नेतृत्व करेंगे. जांच दल को तीन महीने के भीतर एक रिपोर्ट सरकार को सौंपेगी.