News Nation Logo

NIA ने हिजबुल आतंकियों की मदद करने वाले 2 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की

आतंकवाद रोधी जांच एजेंसी ने इससे पहले गिरफ्तार आरोपी कामरूज जमां और फरार आरोपी ओसामा बिन जावेद के खिलाफ 11 मार्च 2019 को आरोप पत्र दायर किया था. जावेद बाद में 28 सितंबर, 2019 को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया था.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 29 May 2021, 06:16:12 PM
NIA files charge sheet against 2 accused helping Hizbul terrorists

NIA ने आतंकियों की मदद करने वाले 2 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • NIA ने आतंकियों की मदद करने वाले 2 आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की
  • एनआईए ने आरोपी कामरूज जमां और फरार ओसामा बिन जावेद को गिरफ्तार  किया था
  • हिजबुल आतंकवादी जावेद को शेख और बट ने पनाह दी थी और उसकी सहायता की थी

नई दिल्ली:

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने लखनऊ मॉड्यूल मामले में पाकिस्तान ( Pakistan ) स्थित हिजबुल-मुजाहिदीन आतंकी समूह के दो ओवर-ग्राउंड वर्कर्स के खिलाफ आतंकवादियों को एक जगह से दूसी जगह पर ले जाने और उन्हें पनाह देने के लिए पूरक आरोप पत्र दायर किया है. एनआईए (NIA) के एक प्रवक्ता ने कहा कि एजेंसी ने आईपीसी और यूएपीए अधिनियम की कई धाराओं के तहत लखनऊ में एक विशेष एनआईए अदालत के समक्ष जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ जिले के निवासी निसार अहमद शेख और निषाद अहमद बट के खिलाफ चार्जशीट दायर की है.

यह भी पढ़ें : गोवा में कर्फ्यू 7 जून तक बढ़ा, जानें नई गाइडलाइंस

एनआईए ने 24 सितंबर, 2018 को जांच अपने हाथ में ली थी

एनआईए अधिकारी ने कहा कि उत्तर प्रदेश एटीएस द्वारा 12 सितंबर, 2018 को कामरूज जमां और अन्य के खिलाफ हिजबुल-मुजाहिदीन (एचएम) कैडरों द्वारा उत्तर प्रदेश और भारत के अन्य हिस्सों में विभिन्न स्थानों पर आतंकवादी घटनाओं को अंजाम देने के आरोप में एक आपराधिक साजिश से संबंधित मामला दर्ज किया गया था. एनआईए ने 24 सितंबर, 2018 को जांच अपने हाथ में ली थी.

यह भी पढ़ें : ऑक्सीजन कंसेनट्रेटर्स खरीदने के लिए दसवीं कक्षा के छात्र ने जुटाए 6.5 लाख रुपये

शेख और बट ने पनाह दी थी और उसकी सहायता की थी

आतंकवाद रोधी जांच एजेंसी ने इससे पहले गिरफ्तार आरोपी कामरूज जमां और फरार आरोपी ओसामा बिन जावेद के खिलाफ 11 मार्च 2019 को आरोप पत्र दायर किया था. जावेद बाद में 28 सितंबर, 2019 को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया था. आतंकवाद रोधी जांच एजेंसी के अधिकारी ने कहा कि जांच ने स्थापित किया है कि हिजबुल आतंकवादी जावेद को शेख और बट ने पनाह दी थी और उसकी सहायता की थी.

अधिकारी ने कहा, शेख जावेद और हिजबुल के अन्य आतंकवादियों के लिए सुरक्षित परिवहन की व्यवस्था करता था, जबकि आरोपी बट ने जावेद और अन्य हिजबुल आतंकवादियों को आश्रय और अन्य रसद सहायता प्रदान करके उनकी सहायता की थी. उसने अपने घर में एक ठिकाना भी बनाया था, ताकि हिजबुल के आतंकवादी को सुरक्षित आश्रय प्रदान किया जा सके.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 29 May 2021, 06:16:12 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.