News Nation Logo

नन्हें मेहमान के आने की खुश की जगह आई बेटे की मौत की खबर : को-पायलट अखिलेश शर्मा के पिता

कोझिकोड विमान हादसे में मारे गए को-पायलट अखिलेश शर्मा के पिता तुलसीराम शर्मा अपने पूरे परिवार के साथ नन्हें मेहमान के आने की खुशखबरी का इंतजार कर रहे थे, लेकिन शुक्रवार की रात उन्हें अपने बड़े बेटे के मरने की खबर मिली.

Bhasha | Updated on: 08 Aug 2020, 08:08:24 PM
plane crase

कोझिकोड विमान हादसे (Kerala plane crash) (Photo Credit: फाइल फोटो)

मथुरा:

कोझिकोड विमान हादसे (Kerala plane crash) में मारे गए को-पायलट अखिलेश शर्मा के पिता तुलसीराम शर्मा अपने पूरे परिवार के साथ नन्हें मेहमान के आने की खुशखबरी का इंतजार कर रहे थे, लेकिन शुक्रवार की रात उन्हें अपने बड़े बेटे के मरने की खबर मिली. दरअसल केरल के हवाईअड्डे पर दुर्घटनाग्रस्त हुए एअर इंडिया एक्सप्रेस विमान के को-पायलट अखिलेश कुमार शर्मा की पत्नी मेघा नौ माह की गर्भवती हैं और कभी भी मां बन सकती हैं. बेटे की मौत खबर सुनकर तो जैसे बाप के आंखों से आंसू ही सूख गए हैं.

यह भी पढ़ेंः राजघाट पर स्वच्छता केंद्र के उद्घाटन पर PM मोदी ने कही ये 10 बड़ी बातें

श्रीकृष्ण जन्मस्थान के निकट गोविंद नगर ‘बी’ सेक्टर में अपने घर में बैठे तुसलीराम शर्मा ने आगे कहा कि कहां मैं पूरे परिवार के साथ मिलकर नन्हें मेहमान के आने, अपने दादा बनने का जश्न बनाना चाहता था, और अब अपने जवान बेटे की अर्थी उठानी पड़ेगी. मथुरा के मोहनपुर-अड़ूकी गांव निवासी तुलसीराम शर्मा ने इस विमान हादसे में अपने बेड़े बेटे को खो दिया है.

अखिलेश के परिवार में पिता के अलावा मां बाला देवी, पत्नी मेघा, विवाहित बहन डॉली और दो छोटे भाई भुवनेश और लोकेश शर्मा हैं. अखिलेश जल्दी ही पिता बनने वाले हैं. अखिलेश के पिता तुलसीराम शर्मा और मामा कमल शर्मा ने बताया कि उसके बहनोई संदीप और भाई भुवनेश रात को ही कोझिकोड रवाना हो गए. परिवार को अखिलेश के नहीं रहने की सूचना उन्होंने सुबह दी. लेकिन मेधा को अभी तक इस बारे में कुछ नहीं बताया है.

यह भी पढ़ेंः विमान हादसा: मौत से पहले एक यात्री ने FB पोस्ट में लिखा था- Back to Home

बेटे के बचपन में खोते हुए तुलसीराम ने बताया कि वह बचपन से पायलट बनना चाहता था. एविएशन इंजीनियरिंग करने के बाद दिसंबर, 2017 से वह एअर इंडिया के साथ काम कर रहा था. उन्होंने बताया कि एअर इंडिया के तमाम अन्य कर्मचारियों/पायलटों की तरह वह भी ‘वंदे भारत मिशन’ के तहत कोविड-19 के कारण विदेशों में फंसे लोगों को घर ला रहा था, लेकिन कौन जानता था कि दूसरों को घर पहुंचाने, अपनों से मिलने का पुण्यकर्म करने वाला पायलट खुद कभी अपने घर नहीं लौट सकेगा. उन्होंने बताया कि दोपहर में जब दामाद और बेटे से बात हुई थी तो पोस्टमॉर्टम हो रहा था, संभव है वे लोग रात को घर लौटें.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 08 Aug 2020, 08:04:00 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.