News Nation Logo

पंजाब में कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनों के चलते रेलवे को 1,200 करोड़ रुपये का नुकसान

Indian Railway: रेलवे के आंकड़ों के अनुसार प्रदर्शनों के कारण जारी नाकेबंदी की वजह से जरूरी सामान लाने वाली 2,225 से अधिक मालगाड़ियों का संचालन नहीं हो सका है. लगभग 1,350 मालगाड़ियों का संचालन रद्द करना पड़ा है या उनका मार्ग बदल दिया गया है.

Bhasha | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 04 Nov 2020, 01:51:23 PM
Indian Railway-IRCTC

Indian Railway-IRCTC (Photo Credit: newsnation)

नई दिल्ली:

Indian Railway: पंजाब (Punjab) में कृषि कानूनों (Farm Bills) के खिलाफ 32 जगहों पर रेल पटरियों पर किसानों के विरोध प्रदर्शन के चलते रेलवे को लगभग 1200 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. रेलवे के आंकड़ों के अनुसार प्रदर्शनों के कारण जारी नाकेबंदी की वजह से जरूरी सामान लाने वाली 2,225 से अधिक मालगाड़ियों का संचालन नहीं हो सका है. लगभग 1,350 मालगाड़ियों का संचालन रद्द करना पड़ा है या उनका मार्ग बदल दिया गया है. एक अधिकारी ने कहा, ''प्लेटफॉर्मों या रेल की पटरियों के निकट प्रदर्शनकारियों का धरना जारी है, जिसके चलते लगभग 1,200 करोड़ रुपये का नुकसान हो चुका है. 

यह भी पढ़ें: नेपाल पहुंचे सेना प्रमुख एमएम नरवणे, PM ओली से होगी मुलाकात

संचालनात्मक और सुरक्षा चिंताओं के चलते ट्रेनों की आवाजाही है बंद 
संचालनात्मक और सुरक्षा चिंताओं के चलते ट्रेनों की आवाजाही बंद है. प्रदर्शनकारी अचानक कुछ ट्रेनों को रोक चुके हैं और विभिन्न स्थानों विशेष रूप से जंडियाला, नाभा, तलवंडी साबो और बठिंडा के आसपास छिटपुट नाकेबंदी जारी है. अधिकारी ने कहा, ''पंजाब में रेल पटरियों के कुछ हिस्सों में जारी नाकेबंदी के चलते मालगाड़ियों की आवाजाही और कृषि, उद्योग तथा बुनियादी ढांचे से संबंधित क्षेत्र के लिये जरूरी सामानों की उपलब्धता पर काफी प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है.

यह भी पढ़ें: US Election: ट्रंप का आरोप- 'विरोधी चुरा रहे वोट', ट्विटर ने ब्लॉक किया ट्वीट

इससे पहले, रेल मंत्री पीयूष गोयल ने पंजाब के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर रेलगाड़ियों का संचालन फिर से शुरू करने से पहले रेल की पटरियों और संचालन कर्मियों की सुरक्षा का आश्वासन मांगा था. पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह केन्द्र कृषि कानूनों के संबंध में अपनी अगुवाई में एक प्रतिनिधिमंडल के साथ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलना चाहते थे, जिसकी अनुमति नहीं मिली. लिहाजा बुधवार को वह यहां राजघाट पर कांग्रेस विधायकों के धरने का नेतृत्व करेंगे.

First Published : 04 Nov 2020, 01:49:23 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो