News Nation Logo
भारत में अब तक कोविड के 3.46 करोड़ मामले सामने आए हैं: लोकसभा में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हरियाणा में अगले आदेश तक गुरुग्राम, सोनीपत, फरीदाबाद और झज्जर के स्कूलों को बंद करने का आदेश Omicron Update: 31 देशों में 400 से ज्यादा संक्रमण के मामले मलेशिया में ओमीक्रॉन के पहले मामले की पुष्टि अमेरिका में ओमीक्रॉन से संक्रमण के मामले बढ़कर 8 हुए केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: CCTV के मामले में दिल्ली दुनिया में नंबर 1 केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में महिलाएं पूरी तरह सुरक्षित केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस: दिल्ली में 1.40 कैमरे और लगाए जाएंगे थोड़ी देर में ओमीक्रॉन पर जवाब देंगे स्वास्थ्य मंत्री IMF की पहली उप प्रबंध निदेशक के रूप में ओकामोटो की जगह लेंगी गीता गोपीनाथ 12 राज्यसभा सांसदों के निलंबन को लेकर विपक्षी दलों के सांसदों का गांधी प्रतिमा के पास विरोध-प्रदर्शन यमुना एक्‍सप्रेसवे पर सुबह सुबह बड़ा हादसा, मप्र पुलिस के दो जवानों समेत चार की मौत जयपुर में दक्षिण अफ्रीका से लौटे एक ही परिवार के चार लोग कोरोना संक्रमित

चीन को कड़ा संकेत, कड़ाके की सर्दी में भी पूरी तरह से तैयार है भारत

हाल ही में सैनिकों के लिए बिजली, पानी, हीटिंग सुविधाओं, स्वास्थ्य और स्वच्छता की एकीकृत व्यवस्था के साथ अतिरिक्त अत्याधुनिक आवास बनाए गए हैं.

News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 18 Nov 2021, 07:47:13 AM
Army

भारतीय सेना ने लद्दाख में फिर चौंकाया चीन को. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • भारतीय सेना का संयुक्त एयरलिफ्ट अभ्यास 'ऑप हरक्यूलिस'
  • तापमान और सर्द हवाएं सर्दियों के दौरान एक बड़ी चुनौती

नई दिल्ली:

लद्दाख क्षेत्र में 19 महीने से चल रहे गतिरोध के बीच भारतीय सेना चीन से लगती सीमा पर कड़ाके की सर्दी में तैनाती के लिए पूरी तरह से तैयार है. भारतीय वायु सेना और भारतीय सेना द्वारा 15 नवंबर 2021 को एक संयुक्त एयरलिफ्ट अभ्यास, 'ऑप हरक्यूलिस' किया गया. इस उच्च तीव्रता वाले एयरलिफ्ट का उद्देश्य उत्तरी क्षेत्र में रसद आपूर्ति को मजबूत करना और परिचालन क्षेत्रों में शीतकालीन भंडार को बढ़ाना था. सेना ने एक बयान में कहा, 'एयरलिफ्ट में उपयोग के लिए सी-17, आईएल-76 और एएन-32 विमानों का इस्तेमाल किया गया, जिन्होंने पश्चिमी वायु कमान के एक अग्रिम बेस से उड़ान भरी थी.'

वायु सेना ने दिखाया दमखम
सेना ने आगे कहा, 'यह प्रयास भारतीय वायु सेना की भारी सामान उठाने की क्षमता का आकलन करने के साथ वास्तविक समय का प्रदर्शन करने को लेकर किया गया था, जिसने अतीत के दौरान किसी भी आकस्मिकता का शीघ्रता से जवाब देने की क्षमता सुनिश्चित करने में एक प्रमुख भूमिका निभाई है.' भारतीय सैनिकों को सीमाओं पर लगभग 17,000 फीट की ऊंचाई पर तैनात किया जाता है और उन्हें दुर्गम स्थानों और खून जमा देने वाली ठंड के बीच उच्च ऊंचाई वाले क्षेत्रों पर बने रहने के लिए खास चीजों की जरूरत होती है.

यह भी पढ़ेंः प्रदूषण से गंभीर हो रहे हालात, दिल्ली-NCR में सभी स्कूल-कॉलेज बंद  

सर्दी में तापमान शून्य से 40-50 डिग्री नीचे
सुरक्षा बल को कठोर सर्दियों में टकराव वाले बिंदुओं पर विस्तारित सेना की तैनाती को बनाए रखने के लिए तैयार रहना होगा, जहां तापमान जल्द ही शून्य से 20 डिग्री सेल्सियस से नीचे गिरना शुरू हो जाएगा. एक सरकारी अधिकारी ने कहा, 'तापमान और सर्द हवाएं सर्दियों के दौरान एक चुनौती होगी, क्योंकि तापमान शून्य से नीचे (माइनस) 40-50 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाएगा.' पिछले साल  भारत ने चीन के साथ सैन्य संघर्ष के बीच चरम सर्दियों में विस्तारित की गई सैन्य तैनाती की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए अमेरिका से अतिरिक्त ऊंचाई वाले सर्दियों के कपड़ों की तत्काल खरीद की थी. इनमें खासतौर पर डिजाइन किए गए गॉगल्स, फेस मास्क, दस्ताने, बर्फ के जूते, ऊनी मोजे आदि शामिल हैं. पानी को गर्म रखने वाली बोतल के अलावा इस किट में विशेष स्लीपिंग बैग भी शामिल हैं.

यह भी पढ़ेंः नेपाल ने फिर उठाया सीमा विवाद, उत्तराखंड के तीन गांवों पर किया दावा

जवानों के रहने के पुख्ता इंतजाम
इसके अलावा सर्दियों में तैनात सैनिकों की परिचालन दक्षता सुनिश्चित करने के लिए भारतीय सेना ने अग्रिम स्थानों पर तैनात सभी सैनिकों के लिए आवास सुविधाओं की स्थापना का काम पूरा कर लिया है. रहने की जगह, जो सैनिकों को भीषण ठंड और हवा के झोंकों से बचाएगी, उनमें फास्ट इरेक्टेबल मॉड्यूलर शेल्टर शामिल हैं. वर्षों से निर्मित एकीकृत सुविधाओं के साथ स्मार्ट शिविरों के अलावा हाल ही में सैनिकों के लिए बिजली, पानी, हीटिंग सुविधाओं, स्वास्थ्य और स्वच्छता की एकीकृत व्यवस्था के साथ अतिरिक्त अत्याधुनिक आवास बनाए गए हैं. भारी हिमपात से अग्रिम स्थानों की सड़कों से संपर्क कट जाता हैं, जिससे परिवहन असंभव हो जाता है. इस वजह से आपूर्ति लाइनें टूट जाती हैं. यह सुनिश्चित करने के लिए कि सब कुछ ठीक है भारतीय वायु सेना खासतौर पर दुर्गम स्थानों पर जवानों की तैनाती की लिए तैयारी कर रही है.

First Published : 18 Nov 2021, 07:47:13 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.