News Nation Logo
Banner

हाथरस गैंगरेप: राहुल गांधी बोले, ये बताकर योगी सरकार पीड़िता को मरने के लिए छोड़ दिया

उत्तर प्रदेश के हाथरस में सामूहिक दुष्कर्म (Hathras Gangrape) की शिकार 19 वर्षीय दलित लड़की की मंगलवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई. इसके बाद कांग्रेस सहित सभी विपक्षी पार्टियों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला बोला है.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 29 Sep 2020, 05:01:37 PM
rahul gandhi

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली:

उत्तर प्रदेश के हाथरस में सामूहिक दुष्कर्म (Hathras Gangrape) की शिकार 19 वर्षीय दलित लड़की की मंगलवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई. इसके बाद कांग्रेस सहित सभी विपक्षी पार्टियों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला बोला है. इसी क्रम में कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने यूपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि UP के ‘वर्ग-विशेष’ जंगलराज ने एक और युवती को मार डाला.

यह भी पढ़ेंः बिहार चुनाव: असदुद्दीन ओवैसी ने इस पार्टी के साथ किया गठबंधन, कहा- बिहार के लोग नीतीश से थक चुके हैं, अब...

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि एक और युवती को UP के वर्ग-विशेष जंगलराज ने मार डाला. सरकार ने कहा कि ये फेक न्यूज है और पीड़िता को मरने के लिए छोड़ दिया. उन्होंने आगे कहा कि ना तो ये दुर्भाग्यपूर्ण घटना फेक थी, ना ही पीड़िता की मौत और ना ही सरकार की बेरहमी.

हाथरस की घटना के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार जवाबदेह, मामले में जल्द न्याय सुनिश्चित हो: कांग्रेस

कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश के हाथरस में सामूहिक दुष्कर्म की पीड़ित दलित लड़की की मौत के बाद मंगलवार को मुख्यमंत्री आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि भाजपा सरकार में राज्य ‘अपराध का गढ़’ बन गया और ऐसी घटनाओं के लिए प्रदेश सरकार की जवाबदेही बनती है. पार्टी प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने यह भी कहा कि इस मामले में त्वरित न्याय सुनिश्चित होना चाहिए और शुरुआत में घटना को ‘आधिकारिक रूप से’ फर्जी खबर बताने के लिए भाजपा सरकार को माफी मांगनी चाहिए.

गौरतलब है कि हाथरस में सामूहिक दुष्कर्म की शिकार 19 वर्षीय दलित लड़की की मंगलवार सुबह दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई. हाथरस जिले के चंदपा थाना क्षेत्र स्थित एक गांव में 14 सितंबर को 19 साल की एक दलित लड़की के साथ कथित तौर पर सामूहिक दुष्कर्म की वारदात हुई थी. पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है.

सुप्रिया ने संवाददाताओं से कहा कि यह घटना उत्तर प्रदेश की सरकार पर बहुत बड़ा कलंक है. इस घटना के सामने आने के बाद आठ दिनों तक कोई मामला दर्ज नहीं किया गया. जब मीडिया में खबरे आईं और दबाव बनने लगा तो मामला दर्ज किया गया. यही नहीं, इस घटना को आधिकारिक तौर पर फर्जी खबर बताया गया ताकि लीपापोती की जा सके. उन्होंने कहा कि अगर उत्तर प्रदेश सरकार समय रहते कदम उठाती तो लड़की की जान बच जाती.

यह भी पढ़ेंः कंगना प्रकरण: HC ने BMC से पूछा- जब निर्माण हो रहा था तब आपके अफसर क्या कर रहे थे...

कांग्रेस प्रवक्ता ने सवाल किया कि इस मामले में कदम उठाने में देरी क्यों की गई? आरोपियों के खिलाफ रासुका क्यों नहीं लगाया जा रहा है? क्या इससे बड़ा मामला भी हो सकता है? बुल्डोजर चलवाने के शौकीन योगी जी इन आरोपियों के मकानों पर बुल्डोजर क्यों नहीं चलवाते हैं?

उन्होंने दावा किया कि उत्तर प्रदेश में निरंतर इस तरह की घटनाएं हो रही है. गोरखपुर, शाहजहांपुर, बाराबंकी तथा कई अन्य जिलों में ऐसी घटनाएं हो चुकी हैं. कानून-व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है, इसीलिए ऐसी जघन्य घटनाएं हो रही हैं.

सुप्रिया ने आरोप लगाया कि एनसीआरबी के आंकड़ों के मुताबिक उत्तर प्रदेश देश की रेप कैपिटल बन गया है. दुखद बात है कि आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की बजाय राजनीतिक संरक्षण मिलता है. उन्होंने यह सवाल भी किया कि प्रधानमंत्री जी इस घटना पर चुप क्यों हैं? पहले के प्रधानमंत्री को चूड़ियां भेजने वाली महिला नेता खामोश क्यों हैं?

सुप्रिया ने कहा कि योगी आदित्यनाथ सरकार को इसका जवाब देना होगा. मुख्यमंत्री जी पहले अपराध मुक्त उत्तर प्रदेश की बात करते थे, लेकिन राज्य को अपराध का गढ़ बना दिया है. उन्होंने कहा कि इस मामले में जल्द न्याय मिलना चाहिए. आरोपियों को सख्त सजा मिलनी चाहिए. पीड़िता का परिवार एक वंचित वर्ग से ताल्लुक रखता है, इसलिए उसे सहायता मिलनी चाहिए. घटना को आधिकारिक रूप से फर्जी खबर बताने के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार को माफी मांगनी चाहिए.

First Published : 29 Sep 2020, 04:52:16 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो