News Nation Logo

पहले ही मिल जाएगी बाढ़ की सूचना, Google ने केंद्रीय जल आयोग के साथ किया करार

Google पिछले कई महीने से इस पहल को चला रहा है. इसके तहत उसने देशभर में बाढ़ को लेकर विभिन्न क्षेत्रों में लोगों को सार्वजनिक सूचनाएं भेजीं. गूगल ने एक बयान में कहा कि यह सूचनाएं (अलर्ट) लोगों को समय से, नवीनतम और अहम जानकारियां देती हैं.

Bhasha | Updated on: 15 Aug 2020, 11:55:51 AM
Google

गूगल (Google) (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

गूगल (Google) ने अपनी बाढ़ पूर्वानुमान (Flood Forecast) पहल के लिए केंद्रीय जल आयोग (Central Water Commission-CWC) के साथ समझौता किया है. इस पहल को गूगल पिछले कई महीने से चला रहा है. इसके तहत उसने देशभर में बाढ़ को लेकर विभिन्न क्षेत्रों में लोगों को सार्वजनिक सूचनाएं भेजीं. गूगल ने एक बयान में कहा कि यह सूचनाएं (अलर्ट) लोगों को समय से, नवीनतम और अहम जानकारियां देती हैं. इससे लोगों को अपनी, परिवार और मित्रों की सुरक्षा को लेकर सही निर्णय लेने में मदद मिलती है.

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी का पहनावा फिर आया चर्चा में... जानें कब क्या पहना

असम के चार जिलों में बाढ़ से 29,000 से अधिक लोग प्रभावित
कंपनी ने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में एंड्राइड फोन का इस्तेमाल करने वाले हर नागरिक को यह सूचनाएं मिलीं. इसके लिए उनके फोन पर लोकेशन ऑन होना चाहिए. देश के बिहार और असम जैसे राज्य बाढ़ की चपेट में हैं. बता दें कि असम में बाढ़ का पानी शुक्रवार को नए इलाकों में प्रवेश कर गया था जिससे चार जिलों में 29,000 से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं, जबकि आपदा से जुड़ी घटनाओं में दो और लोगों की जान चली गई. पिछले कुछ दिनों से बाढ़ का पानी कम हो रहा है और बृहस्पतिवार को केवल दो जिलों- धेमाजी और बक्सा में 11,000 से अधिक लोग बाढ़ से प्रभावित थे.

यह भी पढ़ें: एयर इंडिया (Air India) ने रातों-रात 50 पायलटों को नौकरी से निकाला

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) ने अपने बुलेटिन में कहा कि लखीमपुर और विश्वनाथ जिले में भी अब बाढ़ आ चुकी है और आपदा से प्रभावित होने वालों की संख्या बढ़कर 29,603 हो गई. लखीमपुर जिले के नावबोइचा में दो लोगों की जान चली गई और इस साल राज्य भर में बाढ़ और भूस्खलन में मरने वाले लोगों की संख्या 138 हो गई. बाढ़ से संबंधित घटनाओं में 112 लोग मारे गए, जबकि 26 लोगों की मौत भूस्खलन में हो गई. एएसडीएमए ने बताया कि लखीमपुर अब सबसे अधिक प्रभावित जिला है, जहां 23,591 लोग बाढ़ से प्रभावित हैं. धेमाजी में प्रभावित लोगों की संख्या 5,662 है, इसके बाद बक्सा में 300 और विश्वनाथ में 50 लोग इसकी चपेट में हैं। कुल मिलाकर चार जिलों के 56 गांव जलमग्न हैं.

यह भी पढ़ें: PMC Bank के खाताधारकों को बड़ा झटका, 1 लाख रुपये से ज्यादा नहीं निकाल पाएंगे

बिहार में बाढ़ से अबतक 25 लोगों की मौत
बिहार में बाढ़ से अबतक 25 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 16 जिलों की 77,77,056 आबादी इससे प्रभावित है. आपदा प्रबंधन विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक बाढ़ से दरभंगा जिले में सबसे अधिक ग्यारह लोगों, मुजफ्फरपुर में छह, पश्चिम चंपारण में चार तथा सारण एवं सिवान में दो—दो लोगों और 75 मवेशियों की अबतक मौत हो चुकी है. बिहार के 16 जिलों सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल, किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, पूर्वी चम्पारण, पश्चिम चंपारण, खगडिया, सारण, समस्तीपुर, सिवान, मधुबनी, मधेपुरा एवं सहरसा जिले के 128 प्रखंडों के 1,282 पंचायतों की 77,77,056 आबादी बाढ़ से प्रभावित है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 15 Aug 2020, 11:54:08 AM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.