News Nation Logo
Banner

Security Force के डर से शौचालयों में बंकर बना कर छिप रहे आतंकी

जम्मू-कश्मीर (Jammu Ksahmir) में सुरक्षा बलों की कार्रवाई से बचने के लिये आतंकवादी संगठनों के शौचालयों (Toilet) के नीचे बंकर बना कर उसमें छिपने का एक नया चलन देखने को मिल रहा है.

By : Nihar Saxena | Updated on: 28 Sep 2020, 12:14:35 PM
Toilet Bunkers Jammu Kashmir

शौचालयों में मिल रहे हैं बंकर, आतंकियों की पनाहगाह. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

श्रीनगर:

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में सुरक्षा बलों की कार्रवाई से बचने के लिये आतंकवादी संगठनों के शौचालयों (Toilet) के नीचे बंकर बना कर उसमें छिपने का एक नया चलन देखने को मिल रहा है. पुलिस और सेना के अधिकारियों का मानना है कि सुरक्षा बलों के साथ हुईं विभिन्न मुठभेड़ में कई आतंकवादियों (Terrorist) के मारे जाने के बाद आतंकवादी संगठन और उनसे सहानुभूति रखने वालों पर छिपने के लिये नये ठिकाने ढूंढने का दबाव बढ़ रहा है. इसकी एक वजह यह भी है कि स्थानीय आबादी के साथ रहते हुए आतंकवादियों को बड़ा खतरा महसूस होने लगा है.

यह भी पढ़ेंः लोन मोरेटोरियम मामला 5 अक्टूबर तक टला, केंद्र ने SC से मांगा समय

जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा, 'भूमिगत बंकर और अस्थायी गुफा कोई नयी बात नहीं है. दक्षिण कश्मीर में ऐसे कई उदाहरण मिले हैं. एक बार तो आतंकवादी एक शौचालय के सेप्टिक टैंक में छिपे हुए थे.' इस साल मार्च में अनंतनाग के वटरीगाम इलाके में एक अस्थायी गुफा का पता लगाने वाले सेना के दल के एक अधिकारी ने घटना के बारे में बताते हुए कहा उन्होंने एक घर के अंदर शौलालय के आसपास सफेद सीमेंट लगा हुआ देखा, जहां आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया जानकारी मिली थी.

यह भी पढ़ेंः कृषि कानून के खिलाफ SC में याचिका, कानून वापस लेने की मांग

अधिकारी ने मार्च में हुए उस अभियान को याद करते हुए बताया, 'हमें भटकाने के लिये शौचालय की सीट पर मानव मल पड़ा हुआ था, लेकिन टूटी हुई टाइलें और हाल ही में डाले गए सफेद सीमेंट ने यह भेद खोल दिया. हमने शौचालय की खुदाई शुरू की तो नीचे से गोलीबारी हुई. जवाबी कार्रवाई में लश्कर-ए-तैयबा के चार आतंकवादी मारे गए.' सैन्य अधिकारियों के अनुसार 2019 में दक्षिण कश्मीर के पुलवामा-शोपियां सीमा पर लस्सीपुरा इलाके में भी ऐसी ही घटना देखने को मिली, जब छिपे हुए आतंकवादियों का पता लगाने के लिये छह बार एक घर की तलाशी ली गई. आखिर में उन्हें ढूंढने के लिये सेप्टिक टैंक की खुदाई की गई.

यह भी पढ़ेंः विधानसभा चुनाव बिहार: NDA में तय हुआ सीटों का बंटवारा, 104 पर JDU तो 100 पर लड़ेगी BJP

हाल ही में पुलिस महानिरीक्षक (कश्मीर रेंज) विजय कुमार और उप महानिरीक्षक (दक्षिण) ए के गोयल के साथ मौजूद डीजीपी सिंह ने बताया था, 'हमने विशेष रूप से दक्षिण कश्मीर में आतंकवादियों के कई ठिकानों में रसोई, स्नानघर और सभा कक्ष में अस्थायी दीवारें देखी हैं.' सेना आतंकवादियों के ठिकानों और भूमिगत बंकरों का पता लगाने के लिये ड्रोन का भी इस्तेमाल कर रही है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 28 Sep 2020, 12:14:35 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो