News Nation Logo

Spicejet के खिलाफ DGCA की कार्रवाई- 50 फीसदी उड़ानों पर रोक

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 27 Jul 2022, 06:03:19 PM
spice

Spicejet के खिलाफ DGCA की कार्रवाई (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • स्पाइसजेट विमानों में लगातार आ रहीं तकनीकी खामियों पर एक्शन
  • 8 हफ्तों के दौरान स्पाइसजेट पर निगरानी रखेगा DGCA
  • नोटिस के जवाब और जांच के बाद की गई कार्रवाई

नई दिल्ली:  

स्पाइसजेट विमानों में लगातार आ रहीं तकनीकी खामियों के बीच डीजीसीए (DGCA) ने बुधवार को बड़ी कार्रवाई की है. इसके तहत DGCA ने आठ हफ्तों के लिए स्पाइसजेट की 50 प्रतिशत उड़ानों पर रोक लगी दी है. DGCA इन 8 हफ्तों तक एयरलाइन पर अतिरिक्त निगरानी रखेगा. भविष्य में अगर स्पाइसजेट एयरलाइन 50 प्रतिशत से अधिक उड़ाने चाहती है तो उसे ये साबित करना होगा कि उनके पास ये अतिरिक्त भार उठाने की क्षमता है. साथ ही पर्याप्त संसाधन और स्टॉफ मौजूद हैं.

यह भी पढ़ें : मिथुन चक्रवर्ती का बड़ा दावा- BJP के संपर्क में हैं TMC के इतने विधायक

आपको बता दें कि कुछ दिन पहले DGCA ने तकनीकी कमियों को देखते हुए स्पाइसजेट को एक नोटिस भेजा था. नोटिस के जवाब और जांच के बाद स्पाइसजेट पर ये कार्रवाई की गई है. गौरतलब है कि एयरलाइन स्पाइसजेट ने कहा है कि उसने डीजीसीए द्वारा 10 विमानों में पहचाने गए दोषों और खराबी को ठीक कर दिया है और ये सभी दस विमान वापस परिचालन (ऑपरेशन) में आ गए हैं. डीजीसीए के अवलोकन के तुरंत बाद सुधार किया गया है. 

उड्डयन मंत्रालय ने एक प्रश्न के उत्तर में राज्यसभा को बताया कि 9 जुलाई 2022 से 13 जुलाई 2022 तक मैसर्स स्पाइसजेट के सभी ऑपरेटिंग विमानों पर हाल ही में स्पॉट चेकिंग की गई. 48 विमानों पर कुल 53 स्पॉट चेक किए गए, जिनमें कोई खास महत्वपूर्ण खोज या सुरक्षा उल्लंघन नहीं पाया गया. मंत्रालय ने आगे संसद को सूचित किया कि डीजीसीए ने प्रकाशित वार्षिक निगरानी कार्यक्रम (एएसपी) 2022 के अनुसार स्पाइसजेट सहित तीन शेड्यूल्ड एयरलाइनों का नियामक ऑडिट किया था.

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने संसद को यह भी सूचित किया कि स्पाइसजेट की उड़ान के चालक दल को 5 जुलाई को कराची की ओर मोड़ दिया गया था, जिसने आपातकाल की घोषणा नहीं की थी और न ही विमान में कोई ईंधन रिसाव (फ्यूल लीक) हुआ था. कराची के लिए एक फ्लाइट डायवर्जन पर एक अलग सवाल के जवाब में, मंत्रालय ने कहा कि  केबिन क्रू ने आपातकाल की घोषणा नहीं की थी. कराची में पोस्ट लैंडिंग जांच और निरीक्षण में ईंधन रिसाव का खुलासा नहीं हुआ.

यह भी पढ़ें : क्यों CM एकनाथ शिंदे ने उद्धव ठाकरे को जन्मदिन की बधाई में पार्टी प्रमुख का जिक्र नहीं किया? 

स्पाइसजेट के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक अजय सिंह ने कहा, मुझे खुशी है कि डीजीसीए द्वारा हमारे बेड़े में किए गए विभिन्न जांचों के निष्कर्षों को सरकार द्वारा सार्वजनिक किया गया है. स्पाइसजेट 17 वर्षों से एक सुरक्षित एयरलाइन चला रहा है और यह न केवल हमारे रुख का बल्कि हमारे यात्रियों द्वारा दिखाए गए प्यार और विश्वास का प्रमाण है, जिन्होंने पिछले सात वर्षों में स्पाइसजेट को देश की सबसे लोकप्रिय एयरलाइन बना दिया है. सिंह ने कहा, मुझे खुशी है कि ये निष्कर्ष और आकलन किसी और का नहीं बल्कि भारत की सर्वोच्च विमानन सुरक्षा एजेंसी और नियामक डीजीसीए का है.

First Published : 27 Jul 2022, 05:47:38 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.