News Nation Logo

राजनाथ सिंह बोले- PoK भारत का हिस्सा है, ये कैसे हो सकता है कि...

Deepak Pandey | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 24 Jul 2022, 06:56:16 PM
Rajnath Singh

राजनाथ सिंह (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • रक्षा मंत्री जम्मू में कारगिल विजय दिवस समारोह में हिस्सा लेने पहुंचे
  • जब हमारी सरकार बनी तो जम्मू कश्मीर से धारा 370 को समाप्त कर दिया गया
  • कारगिल के युद्ध में भारतीय सेना में  Jointness देखने को मिली : राजनाथ सिंह

नई दिल्ली:  

Jammu Kashmir News : जम्मू दौरे पर पहुंचे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defense Minister Rajnath Singh) ने रविवार को पाक अधिकृत कश्मीर (POK) को लेकर बयान दिया है. उन्होंने कहा कि PoK भारत का हिस्सा है, हम यह मानते हैं. संसद में इस बारे में सर्वसम्मत प्रस्ताव भी पारित है. यह कैसे हो सकता है कि शिव के स्वरूप बाबा अमरनाथ हमारे पास हों, पर शक्ति स्वरूपा शारदा जी का धाम LoC के उस पार रहे. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और आरएसएस के महासचिव दत्तात्रेय होसबले जम्मू में कारगिल विजय दिवस समारोह में हिस्सा लेने पहुंचे.

यह भी पढ़ें : ब्रिज को जल्द से जल्द बनवाया जाए : दुर्गेश पाठक

राजनाथ सिंह ने कहा कि जब भी पाकिस्तान या चीन के भारत का युद्ध हुआ है तो कुछ लोगों को छोड़ कर जम्मू कश्मीर की जनता बराबर सेना के जवानों के साथ खड़ी रही है. जब हमारी सरकार बनी तो जम्मू कश्मीर से धारा 370 को समाप्त कर दिया गया. कारगिल के युद्ध में भारतीय सेना में  Jointness देखने को मिली.

उन्होंने कहा कि आज हम यहां केवल कारगिल विजय दिवस मनाने के लिए एकत्रित नहीं हुए है, बल्कि हमारी सेना और सुरक्षा बलों के जिन लोगों ने भी भारत की एकता, अखण्डता और संप्रभुता की रक्षा की है उन सभी को हृदय से श्रद्धांजलि अर्पित करने और उनकी स्मृति को नमन करने के लिए यहां एकत्रित हुए हैं.

यह भी पढ़ें : तिरंगा शाखा के चौथे सप्ताह भी चला सरोवर सफाई अभियान

रक्षा मंत्री ने कहा कि वीरगति प्राप्त सैनिकों के परिवारों के कल्याण के लिए सरकार अपनी तरफ से जो भी कर सकती है वो कर रही है, परन्तु देश की जनता की भी यह जिम्मेदारी बनती है कि वे उन परिवारों को भरपूर सम्मान दें और उनकी जो भी मदद हो सकती है करें.

First Published : 24 Jul 2022, 06:42:39 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.