News Nation Logo
Banner

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से संबंधित नागपुर शुगर फैक्टरी में बॉयलर फटने से 5 की मौत

विस्फोट से फैक्ट्री में आग लग गई, जिससे मजदूरों की जलने से मौत हो गई. चीनी कारखाना मानस समूह का हिस्सा है, और पहले इसे पूर्ति पॉवर एंड शुगर फैक्टरी के रूप में जाना जाता था

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 01 Aug 2020, 11:28:29 PM
bioler

बॉयलर फटने से 5 मजदूरों की मौत (Photo Credit: आईएएनएस)

नई दिल्‍ली:

महाराष्ट्र के नागपुर स्थित मानस एग्रो इंडस्ट्रीज एंड शुगर लिमिटेड फैक्ट्री के बॉयलर में शनिवार अपराह्न् हुए एक भयानक विस्फोट में पांच लोगों की मौत हो गई. नागपुर ग्रामीण पुलिस के एक अधिकारी के अनुसार, यह घटना अपराह्न् लगभग 2.14 बजे घटी. विस्फोट से फैक्ट्री में आग लग गई, जिससे मजदूरों की जलने से मौत हो गई. चीनी कारखाना मानस समूह का हिस्सा है, और पहले इसे पूर्ति पॉवर एंड शुगर फैक्टरी के रूप में जाना जाता था, जिसका स्वामित्व केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के परिवार के पास रहा है.

पुलिस अधीक्षक राकेश ओला घटनास्थल पर पहुंचे. उन्होंने मीडिया से बातचीत में बताया, प्रथम ²ष्टया ऐसा प्रतीत होता है कि पीड़ित इस विशेष साइट पर कुछ वेल्डिंग कार्य कर रहे थे और कुछ गैस रिसाव के कारण विस्फोट हुआ हो सकता है. वास्तविक कारण संबंधित विभाग द्वारा जांच के बाद सामने आएंगे. हम मामले की जांच कर रहे हैं और आवश्यक शिकायतें दर्ज कर रहे हैं. मृतकों की पहचान मंगेश प्रभाकर नाकेरकर (21), लीलाधर वामनराव शिंदे (42), वासुदेव लाडी (30), सचिन प्रकाश वाघमरे (24) और प्रफुल्ल पांडुरंग मून (25) के तौर पर हुई है. 

यह भी पढ़ें-मध्यप्रदेश के चंबल-ग्वालियर क्षेत्र को बड़ी सौगात, नितिन गडकरी ने किया यह ऐलान

शुगर फैक्ट्री में बॉयलर फटने से जिन 5 मजदूरों की मौत हुई वो सभी वडगांव के रहने वाले थे. पुलिस को शवों की बरामदगी से पहले गुस्साई भीड़ को शांत करना पड़ा और इसके बाद ही मृतकों को घटनास्थल से निकाला जा सका. वाघमारे संयंत्र में वेल्डर थे और अन्य उनके सहायकों की टीम थी. ये सभी विस्फोट के समय कुछ रखरखाव के काम में लगे हुए थे. घटना के समय फैक्टरी से आग और बड़ी मात्रा में धुआं निकल रहा था.

यह भी पढ़ें-चंबा शहर के नीचे भूमिगत सुरंग तैयार, नितिन गडकरी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए दी अनुमति

इस त्रासदी पर दुख व्यक्त करते हुए शिवसेना नेता किशोर तिवारी ने घटना की गहन एवं समयबद्ध जांच की मांग की है. तिवारी ने कहा, मारे गए सभी मजदूर दलित हैं और फैक्टरी प्रबंधन का यह दायित्व है कि वे पीड़ितों में से प्रत्येक के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपये का मुआवजा दें. विस्फोट के बाद के कुछ वीडियो भी वायरल हुए हैं, जिनमें पता चला है कि विस्फोट में एक दोपहिया वाहन भी क्षतिग्रस्त हुआ है.

First Published : 01 Aug 2020, 11:28:29 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×