News Nation Logo

बांग्लादेश की हसीना पहुंची ममता तक, तीस्ता नदी का सौदा लटका है अधर में

बांग्लादेश और भारत एक 4,096 किलोमीटर लंबी सीमा साझा करते हैं, जिसमें से 2210 किमी दक्षिण एशियाई राष्ट्र और पश्चिम बंगाल के बीच है. जहां बनर्जी की टीएमसी 213 सीटों पर भारी बहुमत से जीतने में सफल रहीं.

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 10 May 2021, 06:47:48 PM
mamta benerjee after victory

ममता बनर्जी (Photo Credit: फाइल )

highlights

  • ममता तक पहुंची बांग्लादेश की पीएम शेख हसीना
  • भारत-बांग्लादेश की 4,096 किलोमीटर लंबी सीमारेखा
  •  2011 में तीस्ता जल-साझा समझौते पर हस्ताक्षर नहीं हो सके थे

नयी दिल्ली:

मिलियन डॉलर का सवाल है कि क्या तीस्ता नदी सौदे पर जल्द ही कोई हस्ताक्षर होंगे या नहीं, क्योंकि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य चुनाव निर्णायक रूप में जीत लिया है. बैनर्जी के विरोध के कारण भारत के प्रयासों के बावजूद तीस्ता नदी जल बंटवारे का सौदा नहीं हुआ है. पूर्व प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह की 2011 में ढाका यात्रा के दौरान बनर्जी ने अंतिम समय पर बाहर निकाल दिया, जिसके कारण तीस्ता जल-साझा समझौते पर हस्ताक्षर नहीं किए जा सके. डेली स्टार ने कहा, अब किसी भी भारतीय गणमान्य व्यक्ति की ढाका यात्रा पर सबसे प्रमुख सवाल यह है कि तीस्ता सौदा कब होगा.

एक विश्लेषक ने भी कहा कि शेख हसीना सरकार को केंद्र के साथ अपने संबंधों को नाजुक बनाना होगा, जहां भाजपा सत्ता में है और पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) का शासन है. एक विश्लेषक ने कहा, भारत-बांग्लादेश द्विपक्षीय संबंध अब मजबूत हो रहे हैं, लेकिन ढाका को पता चला है कि उसे पश्चिम बंगाल के साथ बहुत सौहार्दपूर्ण संबंध बनाए रखने की जरूरत है, जो कि मुख्य रूप से बंगालियों का भाषण है और दोनों एक मजबूत समानताएं साझा करते हैं.

यह भी पढ़ेंःवैक्सीन को लेकर 'आप' का BJP पर हमला, कहा - दिल्ली सरकार पर लगाए झूठे आरोप

वास्तव में, एक आम बात नहीं है, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री हसीना और उनके विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमन ने दोनों को बनर्जी की जीत के लिए बधाई दी. हसीना, जिन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बनर्जी के साथ अपने पत्र में कहा था, 2021 के विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस की भारी जीत में पश्चिम बंगाल के लोगों के गहरे भरोसे का प्रतिबिंब है. डेली स्टार के अनुसार, शनिवार को, बैनर्जी को लिखे अपने पत्र में मोमन ने कहा, हमें विश्वास है, आपके सहयोग और प्रतिबद्धता से, दोनों देशों के बीच संबंध और मजबूत होंगे और किसी भी बकाया मुद्दे को हल करने में मदद मिलेगी.

यह भी पढ़ेंः10 राज्यों में कोविड के 74% मामले दर्ज, महाराष्ट्र और कर्नाटक शीर्ष पर

बांग्लादेश और भारत एक 4,096 किलोमीटर लंबी सीमा साझा करते हैं, जिसमें से 2210 किमी दक्षिण एशियाई राष्ट्र और पश्चिम बंगाल के बीच है. जहां बनर्जी की टीएमसी 213 सीटों पर भारी बहुमत से जीतने में सफल रही, वहीं बीजेपी ने उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल करते हुए, पिछले राज्य के चुनावों में सिर्फ तीन सीटें जीतीं. राज्य, रणनीतिक रूप से, देश के पूर्वोत्तर भाग को जोड़ता है और दक्षिण पूर्व एशियाई क्षेत्र का प्रवेश द्वार भी है. राज्य तीन देशों के साथ अपनी सीमाओं को साझा करता है, इसके अलावा, बांग्लादेश, राज्य भी भूटान और नेपाल के साथ अपनी सीमाओं को साझा करता है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 10 May 2021, 06:44:50 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.