News Nation Logo
Banner

पराली के निपटारे के लिए केजरीवाल ने केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को लिखी चिट्ठी

सीएम केजरीवाल ने पर्यावरण मंत्री से मिलने का समय मांगा था, समय ना मिलने पर चिट्ठी लिखी है. सीएम केजरीवाल ने IARI द्वारा पराली को खाद बनाने के लिए बनाए गए केमिकल को मान्यता दिलाने के चर्चा के लिए मांगा समय था.

Written By : मोहित बख्शी | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 26 Sep 2020, 04:10:44 PM
Arvind Kejriwal

पराली के निपटारे के लिए केजरीवाल ने प्रकाश जावड़ेकर को लिखी चिट्ठी (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

सर्दियों की शुरुआत में दिल्ली पर पॉल्यूशन का खतरा मंडराने लगा है. ऐसे में पराली के निपटारे के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को चिट्ठी लिखी है. सीएम केजरीवाल ने पर्यावरण मंत्री से मिलने का समय मांगा था, समय ना मिलने पर चिट्ठी लिखी है. केजरीवाल ने अपनी चिट्ठी में पराली के निपटारे के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान की तकनीक का ज़िक्र किया है और कहा है कि दिल्ली के आसपास के राज्यों को इस तकनीक के ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल के लिए प्रेरित किया जाए.

यह भी पढ़ें: दिल्ली में 24 घंटे पानी देने की तैयारी, CM केजरीवाल ने रखा लक्ष्य

केजरीवाल ने चिट्ठी में लिखा है, 'भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ने पराली का सस्ता और सरल समाधान निकाला है. उन्होंने एक ऐसा केमिकल बनाया है जिसका खेत में छिड़काव करने से पराली गल जाती है और खाद बन जाती है. किसानों को पराली को जलाना नहीं पड़ेगा. दिल्ली में हम इस पद्धति को इस वर्ष से बड़े स्तर पर इस्तेमाल करने वाले हैं और हम सुनिश्चित करेंगे कि दिल्ली में पराली बिल्कुल ना जलाई जाए.' उन्होंने लिखा, 'मैं समझता हूं कि इस वर्ष समय बहुत कम रह गया है लेकिन अभी भी हम सब मिलकर कोशिश करें तो कुछ पराली को तो जलने से रोक पाएंगे. अभी कम समय में भी जितना हो सके इसको आसपास के राज्यों में किसानों को ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल के लिए प्रेरित किया जाए.'
क्या है ये तकनीक?

पराली को खाद में बदलने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान ने 20 रूपए की कीमत वाली 4 कैप्सूल का एक पैकेट तैयार किया है. प्रधान वैज्ञानिक युद्धवीर सिंह के अनुसार, 4 कैप्सूल से छिड़काव के लिए 25 लीटर घोल बनाया जा सकता है और 1 हेक्टेयर में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. सबसे पहले 5 लीटर पानी मे 100 ग्राम गुड़ उबालना है और ठंडा होने के बाद घोल में 50 ग्राम बेसन मिलाकर कैप्सूल घोलना है. इसके बाद घोल को 10 दिन तक एक अंधेरे कमरे में रखना होगा, जिसके बाद पराली पर छिड़काव के लिए पदार्थ तैयार हो जाता है. इस गोल को जब पराली पर छिड़का जाता है तो 15 से 20 दिन के अंदर पराली गर्मी शुरू हो जाती है और किसान अगली फसल की बुवाई आसानी से कर सकता है. आगे चलकर यह पराली पूरी तरह गलकर खाद में बदल जाती है और खेती में फायदा देती है.

यह भी पढ़ें: भारत के दोस्त मालदीव ने अब पाकिस्तान के मंसूबों को किया ध्वस्त

अनुसंधान के वैज्ञानिकों के मुताबिक किसी भी कटाई के बाद ही छिड़काव किया जा सकता है. इस कैप्सूल से हर तरह की फसल की पराली खाद में बदल जाती है और अगली फसल में कोई दिक्कत भी नही आती है. कैप्सूल बनाने वाले वैज्ञानिकों ने पर्याप्त कैप्सूल के स्टॉक का दावा किया है. वैज्ञानिकों के मुताबिक, पराली जलाने से मिट्टी के पौषक तत्व भी जल जाते हैं और इसका असर फसल पर होता है. युद्धवीर सिंह ने कहा कि ये कैप्सूल भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान द्वारा बनाया गया है. ये कैप्सूल 5 जीवाणुओं से मिलाकर बनाया गया है जो खाद बनाने की रफ़्तार को तेज़ करता है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 26 Sep 2020, 03:58:20 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो