News Nation Logo

BREAKING

Banner

कोवैक्सीन का दूसरा डोज लेने के लिए तैयार हुए 1,000 वॉलंटियर

वॉलंटियर के पहले समूह को 5 दिसंबर को वैक्सीन दिया गया था और उसके बाद यह अभियान 21 दिसंबर तक जारी रहा. इन 1,000 वॉलंटियर को कोवैक्सिन देने में 17 दिन लगे.

IANS | Updated on: 25 Dec 2020, 06:22:43 AM
covaxine

कोवैक्सीन (Photo Credit: न्यूज नेशन)

कानपुर:

देश में विकसित कोरोना वैक्सीन 'कोवैक्सीन' की पहली खुराक सफलतापूर्वक तीसरे चरण के ट्रायल के हिस्से के रूप प्रखर अस्पताल में 1,000 वॉलंटियर को दिया गया. प्रखर अस्पताल के प्रमुख जांचकर्ता डॉ. जेएस कुशवाहा ने कहा, "कोवैक्सिन की दूसरी खुराक भी एक जनवरी से इन 1,000 वॉलंटियर को दी जाएगी. इस वैक्सीन की पहली खुराक विभिन्न रोजमर्रा से ताल्लुक रखने वाले स्वयंसेवकों को दी गई थी."

ये भी पढ़ें- गौतम गंभीर ने शुरू की 'जन रसोई', अब सिर्फ 1 रुपये में मिलेगा रेस्टॉरेंट वाला खाना

वॉलंटियर के पहले समूह को 5 दिसंबर को वैक्सीन दिया गया था और उसके बाद यह अभियान 21 दिसंबर तक जारी रहा. इन 1,000 वॉलंटियर को कोवैक्सिन देने में 17 दिन लगे. हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के सहयोग से देश में स्वदेशी कोरोना वायरस वैक्सीन विकसित कर रहा है.

ये भी पढ़ें- मां-बाप ने बच्चे का रख दिया ऐसा नाम, 60 साल तक फ्री में मिलेगा Domino's Pizza

कुशवाहा ने कहा कि कोवैक्सिन की पहली खुराक को सभी वॉलंटियर को सफलतापूर्वक दिया गया और उनकी ओर से किसी भी प्रतिक्रिया या स्वास्थ्य मुद्दे की कोई रिपोर्ट नहीं थी. उन्होंने यह भी उल्लेख किया कि कई अन्य लोगों की तरह वह भी कोवैक्सिन के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से आपातकालीन स्वीकृति प्राप्त करने की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- 11000 KV बिजली की लाइन से बंदर को लगा करंट, भगवान बनकर आई यूपी पुलिस ने बचाई जान

इस बीच रूस के स्पुतनिक वी वैक्सीन के दूसरे चरण का ट्रायल भी शहर में हुआ था. दिसंबर के पहले सप्ताह में 13 वॉलंटियर्स को शहर के जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में स्पुतनिक वी दिया गया था.

First Published : 24 Dec 2020, 06:27:13 PM

For all the Latest India News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.