logo-image
लोकसभा चुनाव

अनहेल्दी डाइट है भारत में 56% बीमारियों का कारण, 17 प्वाइंट्स के साथ ICMR ने जारी की गाइडलाइन

Unhealthy Diet: अस्वस्थ आहार वह आहार है जिसमें पोषक तत्वों का असंतुलन होता है. इसमें अक्सर वसा, चीनी और नमक की मात्रा अधिक होती है, जबकि विटामिन, खनिज और फाइबर कम होते हैं. अस्वस्थ आहार से मोटापा, हृदय रोग, मधुमेह और कैंसर जैसी कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं.

Updated on: 09 May 2024, 02:08 PM

नई दिल्ली :

Unhealthy Diet: भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार, भारत में 56% से अधिक बीमारियां खराब खानपान के कारण होती हैं. यह चिंताजनक आंकड़ा देश में खानपान की खराब स्थिति को दर्शाता है. इस अध्ययन के आधार पर, ICMR ने खानपान से संबंधित 17 बिंदुओं वाली गाइडलाइन जारी की है, जिसका उद्देश्य लोगों को स्वस्थ रहने के लिए बेहतर खानपान विकल्प अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना है. अनहेल्दी डाइट से ओबेसिटी, हार्ट अटैक, डायबटीज, कैंसर, आर्थ्राइटिस जैसे कई गंभीर बीमारियां हो सकती हैं.

एक अनहेल्दी डाइट जीवनशैली और खानपान में उचित पोषण की कमी को उत्पन्न करती है. अधिक तेल, चीनी, और प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थों का सेवन करना अत्यधिक वजन बढ़ने का कारण बन सकता है, जो ओबेसिटी का कारण बनता है.  अधिक चिप्स, सोडा, और प्रोसेस्ड मीट का सेवन करने से कैंसर का खतरा बढ़ सकता है., क्योंकि ये खाद्य पदार्थ विषैले होते हैं. 

ICMR के दिशानिर्देश

फल, सब्जियां और साबुत अनाज का भरपूर सेवन करें. ये खाद्य पदार्थ आवश्यक पोषक तत्व, विटामिन और खनिज प्रदान करते हैं जो स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं. असंसाधित और ताजे खाद्य पदार्थों को प्राथमिकता दें. प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों में अक्सर उच्च मात्रा में चीनी, नमक और अस्वास्थ्यकर वसा होती है. संतृप्त और ट्रांस वसा का सेवन कम करें. ये वसा हृदय रोग और अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ा सकती हैं. चीनी और नमक का सेवन सीमित करें. अत्यधिक चीनी और नमक का सेवन मोटापा, उच्च रक्तचाप और हृदय रोग जैसी समस्याओं का कारण बन सकता है.

नियमित रूप से व्यायाम करें. शारीरिक रूप से सक्रिय रहना स्वस्थ वजन बनाए रखने और समग्र स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करता है. पर्याप्त पानी पीएं. पानी शरीर के कई कार्यों के लिए आवश्यक है, जिसमें विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालना और पाचन तंत्र को स्वस्थ रखना शामिल है. शराब का सेवन सीमित करें या पूरी तरह से त्याग दें. अत्यधिक शराब का सेवन कई स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है. धूम्रपान न करें, ये फेफड़ों के कैंसर और हृदय रोग सहित कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बनता है.

ये दिशानिर्देश सामान्य मार्गदर्शन प्रदान करते हैं. आपके लिए सबसे अच्छा खानपान आपकी उम्र, लिंग, स्वास्थ्य स्थिति और गतिविधि स्तर के आधार पर अलग हो सकता है. अधिक व्यक्तिगत सलाह के लिए आपको किसी आहार विशेषज्ञ या डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए. ICMR का अध्ययन भारत में खराब खानपान के खतरों को उजागर करता है. यह महत्वपूर्ण है कि हम सभी स्वस्थ रहने के लिए बेहतर खानपान विकल्प अपनाने के लिए मिलकर काम करें.

यह भी पढ़ें: Ghamoriya Home Remedies: गर्मी की वजह से निकल आई है घमौरियां तो इन 5 घरेलू उपाय से करें ठीक